सऊदी अरब में महिलाओं को सशस्त्र बलों में सेवा करने की मिली अनुमति, जाने अबतक क्या-क्या मिले अधिकार

prince salman
सऊदी अरब में महिलाओं को सशस्त्र बलों में सेवा करने की मिली अनुमति, जाने अबतक क्या-क्या मिले अधिकार

नई दिल्ली। दुनिया के सबसे रूढ़िवादी राष्ट्र सऊदी अरब में जहां महिलाओं के अधिकारों को लेकर काफी रोक-टोक होती थी आज उसी सऊदी अरब में महिलाओं के अधिकारों को लेकर बढ़ते हुए कदम देखने को मिल रहें है। बता दें कि सऊदी अरब में आर्थिक और सामाजिक सुधारों के व्यापक कार्यक्रमों को देखते हुए बुधवार को महिलाओं को सशस्त्र बलों में सेवा करने की अनुमति देने का ऐलान किया गया है।

Women Allowed To Serve In The Armed Forces In Saudi Arabia :

सऊदी अरब ने यह कदम उस वक़्त उठाया जब राष्ट्र पर मानवाधिकार समूहों ने यह आरोप लगाया गया महिलाओं के साथ हो रहें अन्याओं के खिलाफ आवाज उठाने वाली महिला कार्यकर्ताओं को गिरफ्तार किया जा रहा है। सऊदी अरब में महिलाओं को सेना में सेवा देने का यह निर्णय अभी तक का सबसे सर्वश्रेष्ठ निर्णय बताया गया है। सऊदी विदेश मंत्रालय ने इस कदम को लेकर ट्विटर पर लिखा कि ‘सशक्तीकरण का एक और कदम, अब महिलाएं निजी प्रथम श्रेणी, सार्जेंट के रूप में सेवा कर सकेंगी।

बताते चलें कि इस वक़्त सऊदी में प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान का शासन चल रहा है। प्रिंस सलमान के सत्ता संभालने के बाद से लगातार महिलाओं के अधिकारों में वृद्धि की जा रही है। जानिए सऊदी-अरब में अबतक महिलाओं के इन अधिकारों में वृद्धि की गई है।

1. वर्ष 2017 में प्रिंस सलमान के सत्ता में आते ही अपना विजन 2030 के बारे में दुनिया को अवगत कराया। इसके तहत उन्होंने महिलाओं को वाहन चलाने की अनुमति दीं।

2. रूढ़िवादी देश में उदारता और आधुनिकता लाने के लिए प्रिंस सलमान की कोशिशों के तहत यह प्रतिबंध समाप्त किया गया। सऊदी अरब में 2018 से पहले तक महिलाओं के वाहन चलाने पर प्रतिबंध था।

3. महिलाओं को हवाई जहाज उड़ाने की अनुमति मिली।

4. देश में सबसे सस्ती सेवाएं देने के लिए विख्यात सऊदी अरब की एयरलाइन कंपनी फ्लाइनस ने साल 2018 में सह-पायलटों और फ्लाइट अटेंडेंट्स के रूप में काम करने के लिए महिलाओं की भर्ती की योजना की घोषणा की थी।

5. इस वर्ष महिलाओं के अधिकारों में बढ़ोतरी करते हुए उन्हें अकेले विदेश यात्रा की अनुमति दी थी।

6. सऊदी में महिलाएं बच्चे के जन्म, शादी या तलाक को आधिकारिक रूप से पंजीकृत करा सकती हैं। उन्हें पुरुषों की ही तरह नाबालिग बच्चों के संरक्षक के तौर पर मान्यता दी गई।

नई दिल्ली। दुनिया के सबसे रूढ़िवादी राष्ट्र सऊदी अरब में जहां महिलाओं के अधिकारों को लेकर काफी रोक-टोक होती थी आज उसी सऊदी अरब में महिलाओं के अधिकारों को लेकर बढ़ते हुए कदम देखने को मिल रहें है। बता दें कि सऊदी अरब में आर्थिक और सामाजिक सुधारों के व्यापक कार्यक्रमों को देखते हुए बुधवार को महिलाओं को सशस्त्र बलों में सेवा करने की अनुमति देने का ऐलान किया गया है। सऊदी अरब ने यह कदम उस वक़्त उठाया जब राष्ट्र पर मानवाधिकार समूहों ने यह आरोप लगाया गया महिलाओं के साथ हो रहें अन्याओं के खिलाफ आवाज उठाने वाली महिला कार्यकर्ताओं को गिरफ्तार किया जा रहा है। सऊदी अरब में महिलाओं को सेना में सेवा देने का यह निर्णय अभी तक का सबसे सर्वश्रेष्ठ निर्णय बताया गया है। सऊदी विदेश मंत्रालय ने इस कदम को लेकर ट्विटर पर लिखा कि 'सशक्तीकरण का एक और कदम, अब महिलाएं निजी प्रथम श्रेणी, सार्जेंट के रूप में सेवा कर सकेंगी। https://twitter.com/KSAmofaEN/status/1181950070717063169 बताते चलें कि इस वक़्त सऊदी में प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान का शासन चल रहा है। प्रिंस सलमान के सत्ता संभालने के बाद से लगातार महिलाओं के अधिकारों में वृद्धि की जा रही है। जानिए सऊदी-अरब में अबतक महिलाओं के इन अधिकारों में वृद्धि की गई है। 1. वर्ष 2017 में प्रिंस सलमान के सत्ता में आते ही अपना विजन 2030 के बारे में दुनिया को अवगत कराया। इसके तहत उन्होंने महिलाओं को वाहन चलाने की अनुमति दीं। 2. रूढ़िवादी देश में उदारता और आधुनिकता लाने के लिए प्रिंस सलमान की कोशिशों के तहत यह प्रतिबंध समाप्त किया गया। सऊदी अरब में 2018 से पहले तक महिलाओं के वाहन चलाने पर प्रतिबंध था। 3. महिलाओं को हवाई जहाज उड़ाने की अनुमति मिली। 4. देश में सबसे सस्ती सेवाएं देने के लिए विख्यात सऊदी अरब की एयरलाइन कंपनी फ्लाइनस ने साल 2018 में सह-पायलटों और फ्लाइट अटेंडेंट्स के रूप में काम करने के लिए महिलाओं की भर्ती की योजना की घोषणा की थी। 5. इस वर्ष महिलाओं के अधिकारों में बढ़ोतरी करते हुए उन्हें अकेले विदेश यात्रा की अनुमति दी थी। 6. सऊदी में महिलाएं बच्चे के जन्म, शादी या तलाक को आधिकारिक रूप से पंजीकृत करा सकती हैं। उन्हें पुरुषों की ही तरह नाबालिग बच्चों के संरक्षक के तौर पर मान्यता दी गई।