महिला खुद को जिंदा साबित करने के लिए काट रही अधिकारियों के चक्कर

Women having trouble
महिला खुद को जिंदा साबित करने के लिए काट रही अधिकारियों के चक्कर

मैनपुरी। जालसाजों ने एक महिला को मृत बताकर उसकी जमीन हड़प ली। जब महिला को जानकारी हुई तो उसने थाने से लेकर तहसील तक शिकायत की, काफी दिनो तक वो अधिकारियों के चक्कर काटती रही तब जाकर अधिकारियों ने मामले को संज्ञान में लिया और लेखपाल को निलंबित कर दिया जबकि मामले के जांच के आदेश दिये गये हैं।

Women Are Having Trouble With Officers To Prove Herself Alive :

महिला का नाम कैलादेवी है और वह मैनपुरी जिले के नगला ऊसर गांव की रहने वाली है। महिला कैलादेवी ने बताया कि उनके पास 14 बीघे खोती थी। आरोप है कि 14 नबंवर 2009 को जालसाजों ने ग्राम प्रधान व लेखपाल से मिलकर तहसील के अभिलेखों में उसे मृत दर्शा दिया और खुद वारिस बन गये। वारिस बनने के बाद जालसाजों ने 14 बीघे जमीन अपने नाम करवा ली।

महिला का कहना है कि उसे इस बात की जानकारी तब हुई जब जालसाज जमीन को बेंचने का सौदा कर रहे थे। महिला का आरोप है कि काफी दिनो तक वह अधिकारियों के चक्कर काटती रही लेकिन उसकी सुनवाई नही हो रही थी। मामला जब कुरावली तहसील के एसडीएम अनूप कुमार के संज्ञान में आया तो उन्होने महिला को मृत दर्शाने वाली रिपोर्ट लगाने वाले लेखपाल विनोद भारती को सस्पेंड कर दिया है। कैलादेवी का कहना है कि अभी भी अभिलेखों में उनका नाम नही चढ़ाया गया है, हालांकि अधिकारियों ने उन्हे आश्वासन दिया है।

मैनपुरी। जालसाजों ने एक महिला को मृत बताकर उसकी जमीन हड़प ली। जब महिला को जानकारी हुई तो उसने थाने से लेकर तहसील तक शिकायत की, काफी दिनो तक वो अधिकारियों के चक्कर काटती रही तब जाकर अधिकारियों ने मामले को संज्ञान में लिया और लेखपाल को निलंबित कर दिया जबकि मामले के जांच के आदेश दिये गये हैं। महिला का नाम कैलादेवी है और वह मैनपुरी जिले के नगला ऊसर गांव की रहने वाली है। महिला कैलादेवी ने बताया कि उनके पास 14 बीघे खोती थी। आरोप है कि 14 नबंवर 2009 को जालसाजों ने ग्राम प्रधान व लेखपाल से मिलकर तहसील के अभिलेखों में उसे मृत दर्शा दिया और खुद वारिस बन गये। वारिस बनने के बाद जालसाजों ने 14 बीघे जमीन अपने नाम करवा ली। महिला का कहना है कि उसे इस बात की जानकारी तब हुई जब जालसाज जमीन को बेंचने का सौदा कर रहे थे। महिला का आरोप है कि काफी दिनो तक वह अधिकारियों के चक्कर काटती रही लेकिन उसकी सुनवाई नही हो रही थी। मामला जब कुरावली तहसील के एसडीएम अनूप कुमार के संज्ञान में आया तो उन्होने महिला को मृत दर्शाने वाली रिपोर्ट लगाने वाले लेखपाल विनोद भारती को सस्पेंड कर दिया है। कैलादेवी का कहना है कि अभी भी अभिलेखों में उनका नाम नही चढ़ाया गया है, हालांकि अधिकारियों ने उन्हे आश्वासन दिया है।