लखनऊ में डॉक्टर बने हैवान, लेबर रूम में तड़पती प्रसूता का नहीं किया इलाज, मौत

लखनऊ| लखनऊ के क्वीन मेरी अस्पताल में डॉक्टरों की संवेदनहीनता व लापरवाही से प्रसूता की जान चली गई| वाकया बुधवार तड़के तीन बजे का है| लखीमपुर में प्रसव के बाद हालत खराब होने पर जब प्रसूता को क्वीन मेरी अस्पताल लाया गया तो डॉक्टरों ने उसे भर्ती को कर लिया लेकिन 11 घंटे तक महिला का इलाज ही नहीं किया| वह लेबर रूम में दर्द से तड़पती रही| परिवार वाले डॉक्टरों से लाख मिन्नतें करते रहे लेकिन उन्होंने प्रसूता को हाथ तक नहीं लगाया| परिवार वालों का आरोप है कि डॉक्टरों ने उनसे इलाज के लिए 20 हजार रुपये की मांग की| जब उन्होंने पैसे होने की बात से इंकार कर दिया तो डॉक्टरों ने बंधक बनाकर उनसे मारपीट की और उन्हें वहां से भगा दिया| इस बीच इलाज न मिलने से प्रसूता ने अस्पताल में ही दम तोड़ दिया|




मिली जानकारी के मुताबिक़, लखीमपुर के राम प्रकाश की पत्नी किरन प्रसव पीड़ा के बाद जिला अस्पताल पहुंची जहां उन्होंने एक बच्चे को जन्म दिया| प्रसव के बाद किरन की हालत बिगड़ने लगी| जिसके बाद परिवार वाले किरन को लेकर क्वीन मेरी अस्पताल पहुंचे| किरन के पति ने बताया कि डॉक्टरों ने उसे भर्ती तो कर लिया लेकिन कई घंटों तक हाथ तक नहीं लगाया| इस बीच हालत बिगड़ने पर जब जब उन्होंने डॉक्टरों से इस बात का विरोध किया तो उन्होंने 20 हजार रुपये की मांग कर दी| डॉक्टरों का कहना था कि पहले 20 हजार लाओ उसके बाद ही इलाज शुरू किया जाएगा| जब उन्होंने पैसे देने से इंकार कर दिया तो डॉक्टरों ने उन्हें बाहर भगा दिया| इस बीच बिना इलाज के किरन ने बुधवार दोपहर करीब दो बजे तड़प-तड़पकर दम तोड़ दिया|




यूपी में योगी सरकार बनने के बाद लोगों को उम्मीद जगी थी कि अब यहां स्वास्थ्य सेवाओं में सुधार आएगा लेकिन ऐसा होता नहीं दिख रहा है| जब राजधानी लखनऊ का ये हाल है तो प्रदेश के अन्य जिलों में स्थिति कैसी होगी इस बात का अंदाजा आसानी से लगाया जा सकता है| हालांकि यह केवल पहला मामला नहीं है जब डॉक्टरों की संवेदनहीनता से मरीज की जान चली गई हो| इसके पहले भी यूपी में ऐसी कई घटनाएं सामने आ चुकी हैं|

Loading...