महिला दिवस विशेष: पूरे देश में कहीं हो समस्या, याद रखें ये जरूरी नंबर

महिला दिवस विशेष
महिला दिवस विशेष: पूरे देश में कहीं हो समस्या, याद रखें ये जरूरी नंबर

लखनऊ। देश भर में महिलाओं के साथ बढ़ रही छेड़छाड़ और रेप जैसी घटनाओं को ध्यान में रखते हुए सरकार ने कुछ हेल्पलाइन नंबर जारी किए हैं। मुसीबत में फंसे होने पर आप इन नंबर पर कॉल कर तुरंत मदद पा सकते है। वुमंस हेल्पलाइन नंबर 1091/1090 पूरे देश के लिए है। वहीं अगर महिलाएं नेशनल कमिशन फॉर वुमन (NCW) में अपनी कोई बात रखना चाहें तो वे 0111-23219750 पर कॉल कर सकती हैं। राज्यों ने अपने स्तर पर भी हेल्पलाइन नंबर जारी किए हैं। जिन पर कॉल कर महिलाएं तुरंत मदद पा सकती हैं।

Women Helpline Telephone Numbers :

दिल्ली में इन नंबरों के जरिए महिलाओं को मिलती है मदद

दिल्ली कमिशन फॉर वुमन (DCW) से 011 23378044/ 23378317/ 23370597 पर संपर्क किया जा सकता है। पुलिस कंट्रोल रूम 100, चाइल्ड हेल्पलाइन 1098, एंटी स्टाकिंग सेल से 1096 पर कॉल कर मदद मांगी जा सकती है।

महिलाओं से कोई नहीं छीन सकता ये अधिकार

हर महिला को कुछ अधिकार मिले हुए हैं। कोई भी ये अधिकार महिला से छीन नहीं सकता, जैसे वुमन अपने पार्टनर को शारीरिक संबंध बनाने के लिए मना कर सकती है। इसी तरह कोई बलात्कार की शिकार हुई किसी भी महिला को मुफ्त कानूनी मदद पाने का अधिकार होता है। ऐसे मामले में लीगल सर्विस अथॉरिटी को महिला के लिए वकील की व्यवस्था करनी होती है। वहीं, किसी मामले में यदि महिला आरोपी है तो उसकी जो भी मेडिकल जांच की जाएगी, वह किसी महिला द्वारा ही की जानी चाहिए।

इसके अलावा पुश्तैनी संपत्ति पर भी महिला और पुरुष का बराबर का हक है और यह अधिकार महिलाओं को हिंदू उत्तराधिकार अधिनियम के तहत मिला हुआ है। वर्क प्लेस पर यदि किसी महिला का यौन उत्पीड़न होता है तो वह यौन उत्पीड़न अधिनियम के तहत इसके खिलाफ शिकायत दर्ज करवा सकती है। आज हम आपको महिलाओं से जुड़े ऐसे 6 राइट्स बताने जा रहे हैं, जो हर व्यक्ति को मालूम होना चाहिए। कोई भी व्यक्ति महिलाओं को इन अधिकारों को लेने से रोक नहीं सकता।

महिलाओं को है ये खास अधिकार

  • सभी महिलाओं को सेक्सुअल हैरेसमेंट के खिलाफ आवाज उठाने का अधिकार होता है। अगर कोई पुरुष आप पर सेक्सुअल कमेंट भी करता है तो आप उसे 1 साल तक की सजा दिलवा सकती हैं।
  • अगर किसी महिला को गर्भधारण करने में तकलीफ है या कोई समस्या है तो महिला को अबॉर्शन करवाने का पूरा अधिकार है।
    किसी गुनाहगार महिला की तलाशी केवल महिला पुलिस ही ले सकती है।
  • महिलाओं को गर्भावस्था के दौरान मैटरनिटी लीव का पूरा अधिकार होता है और उस दौरान महिला की सैलेरी भी नहीं काटी जा सकती है।
  • अगर महिला को घर में मारा-पीटा जाता है या किसी भी तरह का टोर्चर होता है तो महिला को कोर्ट में अपील करने का पूरा हक होता है।
  • जब किसी महिला का रेप होता है या कोई आरोप लगा होता है तो महिला को अपनी पहचान छुपाने का पूरा अधिकार होता है।
लखनऊ। देश भर में महिलाओं के साथ बढ़ रही छेड़छाड़ और रेप जैसी घटनाओं को ध्यान में रखते हुए सरकार ने कुछ हेल्पलाइन नंबर जारी किए हैं। मुसीबत में फंसे होने पर आप इन नंबर पर कॉल कर तुरंत मदद पा सकते है। वुमंस हेल्पलाइन नंबर 1091/1090 पूरे देश के लिए है। वहीं अगर महिलाएं नेशनल कमिशन फॉर वुमन (NCW) में अपनी कोई बात रखना चाहें तो वे 0111-23219750 पर कॉल कर सकती हैं। राज्यों ने अपने स्तर पर भी हेल्पलाइन नंबर जारी किए हैं। जिन पर कॉल कर महिलाएं तुरंत मदद पा सकती हैं।दिल्ली में इन नंबरों के जरिए महिलाओं को मिलती है मदददिल्ली कमिशन फॉर वुमन (DCW) से 011 23378044/ 23378317/ 23370597 पर संपर्क किया जा सकता है। पुलिस कंट्रोल रूम 100, चाइल्ड हेल्पलाइन 1098, एंटी स्टाकिंग सेल से 1096 पर कॉल कर मदद मांगी जा सकती है।महिलाओं से कोई नहीं छीन सकता ये अधिकारहर महिला को कुछ अधिकार मिले हुए हैं। कोई भी ये अधिकार महिला से छीन नहीं सकता, जैसे वुमन अपने पार्टनर को शारीरिक संबंध बनाने के लिए मना कर सकती है। इसी तरह कोई बलात्कार की शिकार हुई किसी भी महिला को मुफ्त कानूनी मदद पाने का अधिकार होता है। ऐसे मामले में लीगल सर्विस अथॉरिटी को महिला के लिए वकील की व्यवस्था करनी होती है। वहीं, किसी मामले में यदि महिला आरोपी है तो उसकी जो भी मेडिकल जांच की जाएगी, वह किसी महिला द्वारा ही की जानी चाहिए।इसके अलावा पुश्तैनी संपत्ति पर भी महिला और पुरुष का बराबर का हक है और यह अधिकार महिलाओं को हिंदू उत्तराधिकार अधिनियम के तहत मिला हुआ है। वर्क प्लेस पर यदि किसी महिला का यौन उत्पीड़न होता है तो वह यौन उत्पीड़न अधिनियम के तहत इसके खिलाफ शिकायत दर्ज करवा सकती है। आज हम आपको महिलाओं से जुड़े ऐसे 6 राइट्स बताने जा रहे हैं, जो हर व्यक्ति को मालूम होना चाहिए। कोई भी व्यक्ति महिलाओं को इन अधिकारों को लेने से रोक नहीं सकता।महिलाओं को है ये खास अधिकार
  • सभी महिलाओं को सेक्सुअल हैरेसमेंट के खिलाफ आवाज उठाने का अधिकार होता है। अगर कोई पुरुष आप पर सेक्सुअल कमेंट भी करता है तो आप उसे 1 साल तक की सजा दिलवा सकती हैं।
  • अगर किसी महिला को गर्भधारण करने में तकलीफ है या कोई समस्या है तो महिला को अबॉर्शन करवाने का पूरा अधिकार है। किसी गुनाहगार महिला की तलाशी केवल महिला पुलिस ही ले सकती है।
  • महिलाओं को गर्भावस्था के दौरान मैटरनिटी लीव का पूरा अधिकार होता है और उस दौरान महिला की सैलेरी भी नहीं काटी जा सकती है।
  • अगर महिला को घर में मारा-पीटा जाता है या किसी भी तरह का टोर्चर होता है तो महिला को कोर्ट में अपील करने का पूरा हक होता है।
  • जब किसी महिला का रेप होता है या कोई आरोप लगा होता है तो महिला को अपनी पहचान छुपाने का पूरा अधिकार होता है।