महिला विश्व कप : भारत ने जीत के साथ किया आगाज़

महिला विश्व कप , कप्तान मिताली राज , भारत बनाम इंग्लैंड , क्रिकेट , women's World Cup, Captain Mithali Raj, India vs England, Cricket

डर्बी | प्लेयर ऑफ द मैच सलामी बल्लेबाज स्मृति मंधाना (90) तथा पूनम राउत (86) और कप्तान मिताली राज (71) की बेहतरीन अर्धशतकीय पारियों के बाद गेंदबाजों के बेहतरीन प्रदर्शन के दम पर भारतीय महिला क्रिकेट टीम ने शानिवार को मेजबान इंग्लैंड को 35 रनों से मात देते हुए टूर्नामेंट का विजयी आगाज किया है। भारत ने निर्धारित 50 ओवरों में तीन विकेट के नुकसान पर 281 रन बनाए थे, जिसके बाद 282 रनों के चुनौतीपूर्ण लक्ष्य को इंग्लैंड की टीम हासिल नहीं कर पाई और 47.3 ओवरों में 246 रनों पर ढेर हो गई।

भारत की तरफ से दीप्ति शर्मा ने सबसे ज्यादा तीन विकेट लिए। शिखा पांडे ने भी दो अहम विकेट हासिल किए, जबकि पूनम यादव एक सफलता अर्जित करने में सफल रहीं। इंग्लैंड की चार बल्लेबाज आउट हुईं।

{ यह भी पढ़ें:- IND Vs AUS: अगली जीत के साथ कप्तान कोहली तोड़ देंगे कैप्टन कूल का रिकॉर्ड }

इंग्लैंड की तरफ से फ्रैन विल्सन ने सर्वाधिक 81 रन बनाए।

चुनौतीपूर्ण लक्ष्य का पीछा करने उतरी मेजबान टीम को अच्छी शुरुआत नहीं मिली। 33 के कुल स्कोर पर शिखा ने टैमी बेयुमोंट (14) को मंधाना के हाथों कैच कराया। शिखा ने 42 के कुल स्कोर पर सारा टेलर (22) को भी आउट कर भारत को बड़ी सफलता दिलाई।

{ यह भी पढ़ें:- आज ही के दिन भारतीय टीम ने जीता था T-20 विश्वकप, देखें तस्वीरें }

इन शुरुआती झटकों से मेजबान टीम उबर भी नहीं पाई और लगातार विकेट खोती रही। 154 के स्कोर तक आते-आते उसने अपने पांच विकेट खो दिए थे। नताली स्काइवर (18) को दीप्ती शर्मा ने पवेलियन भेजा।

इंग्लैंड की कप्तान हीथर नाइट (46) अच्छी बल्लेबाजी कर रही थीं, लेकिन रन लेने की जल्दबाजी में रन आउट हो पवेलियन लौटीं। उन्होंने 69 गेंदों में दो छक्के और एक चौका लगाया। डेनियल व्याट (9) को दीप्ति ने अपनी ही गेंद पर कैच आउट किया।

इसके बाद एक छोर से दमदार बल्लेबाजी कर रहीं विल्सन को कैथरीन ब्रंट (24) का साथ मिला। दोनों ने टीम की उम्मीदों के जिंदा रखा और छठे विकेट के लिए 62 रनों की साझेदारी की। यह जोड़ी अच्छी तरह से भारतीय गेंदबाजी का सामना कर रही थी, लेकिन रन लेने की जल्दबाजी में ब्रंट नॉन स्ट्राइक छोर से आगे निकल आईं और दीप्ति ने गली से सीधा थ्रो मारते हुए इस साझेदारी को तोड़ा। ब्रंट 217 के कुल स्कोर पर पवेलियन लौटीं।

{ यह भी पढ़ें:- T-20 में सिक्सर किंग क्रिश गेल ने बनाया हैरतअंगेज वर्ल्ड रिकॉर्ड... जानिए! }

विल्सन भी रन आउट होकर पवेलियन लौटीं। उन्होंने अपनी पारी में 75 गेंदों का सामना करते हुए छह चौके लगाए। उन्हें एकता विष्ट ने रनआउट किया। टीम के खाते में एक रन भी नहीं जुड़ा था कि जैनी गन (9) भी रन आउट हो गईं।

पूनम राउत ने डेनियल हेजेल (4) को आउट कर मेजबानों का नौवां विकेट गिराया। दीप्ती ने अन्या श्रबसोले को आउट कर इंग्लैंड की पारी का अंत किया।

इससे पहले टॉस हारकर बल्लेबाजी करने उतरी भारत ने शानदार शुरुआत की। पारी की शुरुआत करने उतरी मंधाना और राउत ने पहले विकेट के लिए 26.5 ओवरों में 144 रन जोड़े। इस मैच में अपने वनडे करियर का छठा अर्धशतक लगाने वाली मंधाना बेहतरीन अंदाज में खेल रही थीं, लेकिन 144 के कुल योग पर वह कप्तान नाइट की गेंद पर हेजेल को आसान सा कैच थमा बैठीं। उन्होंने 72 गेंदों पर 11 चौके और दो छक्के लगाए।

मंधाना के आउट होने के बाद राउत ने कप्तान मिताली के साथ दूसरे विकेट के लिए 78 रन जोड़े और टीम को 200 के पार पहुंचाया। इस बीच, राउत ने अपने वनडे करियर का नौंवा अर्धशतक भी पूरा किया। राउत ने 134 गेंदों की पारी में सात चौके और एक छक्का लगाया।

{ यह भी पढ़ें:- दक्षिण अफ्रीकी क्रिकेट टीम के मुख्य कोच बने ओटिस गिब्सन }

मिताली के साथ अपनी साझेदारी को जमाने की कोशिश में लगीं राउत का विकेट 222 रन के कुल योग पर गिरा। उन्हें हेजेल की गेंद पर व्याट ने लपका। राउत ने 134 गेंदों पर सात चौके और एक छक्का लगाया।

टीम का दूसरा विकेट गिरने के बाद कप्तान मिताली ने हरमनप्रीत कौर (नाबाद 24) के साथ पारी को आगे बढ़ाया। दोनों के बीच तीसरे विकेट के लिए 59 रनों की साझेदारी हुई। हालांकि, अंतिम ओवर में गेंदबाजी कर रही नाइट की अंतिम गेंद पर बड़ा शॉट मारने की कोशिश करने वाली मिताली, ब्रंट के हाथों लपकी गईं।

मिताली ने 73 गेंदों पर आठ चौके लगाए। मिताली ने अपने वनडे करियर का 47वां अर्धशतक लगाया। हरमनप्रीत नाबाद रहीं। हरमनप्रीत ने 22 गेंदों का सामना कर एक चौका और छक्का लगाया।

इंग्लैंड के लिए कप्तान हीथर नाइट ने सात ओवर में 41 रन खर्च करते हुए दो और हेजेल ने 10 ओवरों में 51 रन देते हुए एक विकेट लिया। भारतीय टीम को 10 अतिरिक्त रन मिले।

{ यह भी पढ़ें:- घरेलू परिस्थितियों में बांग्लादेशी स्पिन गेंदबाजी आस्ट्रेलिया से बेहतर : शाकिब   }