World Alzheimer Day: कहीं आप भी तो नहीं अल्जाइमर का शिकार, जाने बीमारी के लक्षण और बचाव

World Alzheimer Day: कहीं आप भी तो नहीं अल्जाइमर का शिकार, जाने बीमारी के लक्षण और बचाव
World Alzheimer Day: कहीं आप भी तो नहीं अल्जाइमर का शिकार, जाने बीमारी के लक्षण और बचाव

लखनऊ। आज की भागदौड़ भारी जिंदगी में भूलने की समस्या तो आम हो गई है। कई बार ऐसा होता है जब लोग रोजमर्रा की बातों को भी भूल जाते हैं। पहले के समय में ऐसा सिर्फ बुजुर्गों की ही बीमारी मानी जाती थी पर आजकल ये बीमारी युवाओं के साथ-साथ बच्चों को भी अपने चपेट में ले रही है। इस बीमारी के बारे में लोगों को जागरूक करने के लिए 21 सितंबर को पूरे विश्व भर में अल्जाइमर डे मनाया जाता है। चलिए जानते हैं इस बीमारी के लक्षण और बचाव के बारे में….

World Alzheimer Day 21 September Symptoms Causes And Treatment :

क्या है अल्जाइमर

अल्जाइमर भूलने की बीमारी है। इसका नाम डॉक्टर अलोइस अल्जाइमर पर रखा गया है। दिमाग में प्रोटीन की संरचना में गड़बड़ी के कारण अल्जाइमर की समस्या होती है। पहले 70 साल से ऊपर के लोगों में अल्जाइमर होता था लेकिन अब 40 वर्ष में भी लोग इस बीमारी के शिकार हो रहे हैं।

इसलिए मनाते हैं अल्जाइमर डे

दुनिया भर में 21 सितंबर वर्ल्ड अल्जाइमर डे के नाम से मनाया जाता है। आजकल ये समस्या लगातार बढ़ती जा रही है। अल्जाइमर से पीड़ित लोगों के प्रति एकजुटता दिखाने के लिए पूरी दुनिया में 21 सितंबर को ‘विश्व अल्जाइमर दिवस’ मनाया जाता है।

अल्जाइमर के लक्षण

  • रोजमर्रा की दिनचर्या में तेजी से बदलाव।
  • किसी काम में मन एकाग्र नहीं होना।
  • जरूरी फैसले लेते समय आत्मविश्वास कम होना।
  • सामान्य बातचीत में बार-बार शब्द भूलना, वाक्य नहीं बन पाना।
  • रोज आने-जाने वाले रास्तों में उलझना।

याददाश्त तेज रखने में मददगार

  • सोशल मीडिया से ज्यादा वास्तविक दुनिया से संपर्क।
  • खेल की गतिविधियों और उचित व्यायाम से शरीर और दिमागी तंदुरुस्ती बनी रहती है।
  • गुस्सा, चिड़चिड़ेपन से दूर रहें।
  • खुद भी खुश रहें और दूसरे को भी खुश रखें।
  • सेहतमंद आहार लें और हाई ब्लड प्रेशर, डायबिटीज पर नियंत्रण रखें।
  • नई भाषा सीखने, मेंटल गेम्स या म्यूजिक में खुद को व्यस्त रखें।
लखनऊ। आज की भागदौड़ भारी जिंदगी में भूलने की समस्या तो आम हो गई है। कई बार ऐसा होता है जब लोग रोजमर्रा की बातों को भी भूल जाते हैं। पहले के समय में ऐसा सिर्फ बुजुर्गों की ही बीमारी मानी जाती थी पर आजकल ये बीमारी युवाओं के साथ-साथ बच्चों को भी अपने चपेट में ले रही है। इस बीमारी के बारे में लोगों को जागरूक करने के लिए 21 सितंबर को पूरे विश्व भर में अल्जाइमर डे मनाया जाता है। चलिए जानते हैं इस बीमारी के लक्षण और बचाव के बारे में.... क्या है अल्जाइमर अल्जाइमर भूलने की बीमारी है। इसका नाम डॉक्टर अलोइस अल्जाइमर पर रखा गया है। दिमाग में प्रोटीन की संरचना में गड़बड़ी के कारण अल्जाइमर की समस्या होती है। पहले 70 साल से ऊपर के लोगों में अल्जाइमर होता था लेकिन अब 40 वर्ष में भी लोग इस बीमारी के शिकार हो रहे हैं। इसलिए मनाते हैं अल्जाइमर डे दुनिया भर में 21 सितंबर वर्ल्ड अल्जाइमर डे के नाम से मनाया जाता है। आजकल ये समस्या लगातार बढ़ती जा रही है। अल्जाइमर से पीड़ित लोगों के प्रति एकजुटता दिखाने के लिए पूरी दुनिया में 21 सितंबर को 'विश्व अल्जाइमर दिवस' मनाया जाता है। अल्जाइमर के लक्षण
  • रोजमर्रा की दिनचर्या में तेजी से बदलाव।
  • किसी काम में मन एकाग्र नहीं होना।
  • जरूरी फैसले लेते समय आत्मविश्वास कम होना।
  • सामान्य बातचीत में बार-बार शब्द भूलना, वाक्य नहीं बन पाना।
  • रोज आने-जाने वाले रास्तों में उलझना।
याददाश्त तेज रखने में मददगार
  • सोशल मीडिया से ज्यादा वास्तविक दुनिया से संपर्क।
  • खेल की गतिविधियों और उचित व्यायाम से शरीर और दिमागी तंदुरुस्ती बनी रहती है।
  • गुस्सा, चिड़चिड़ेपन से दूर रहें।
  • खुद भी खुश रहें और दूसरे को भी खुश रखें।
  • सेहतमंद आहार लें और हाई ब्लड प्रेशर, डायबिटीज पर नियंत्रण रखें।
  • नई भाषा सीखने, मेंटल गेम्स या म्यूजिक में खुद को व्यस्त रखें।