1. हिन्दी समाचार
  2. विश्व बैंक ने घटाया विकास दर का अनुमान, आर्थिक मंदी में लगा भारत को एक और झटका

विश्व बैंक ने घटाया विकास दर का अनुमान, आर्थिक मंदी में लगा भारत को एक और झटका

By शिव मौर्या 
Updated Date

World Bank Cuts India Growth Projection To 6 Percent

नई दिल्ली। आर्थिक मंदी के बीच भारत को विश्व बैंक से एक और झटका ​लगा है। विश्व बैंक ने रविवार को मौजूदा वित्त वर्ष में भारत का विकास दर का अनुमान घटा दिया है। विश्व ​बैंक की माने तो भारत की विकास दर छह ​फीसदी रह सकती है। वहीं, 2018—19 में यह दर 6.9 फीसदी थी। हालांकि, साउथ एशिया इकोनॉमिक फोकस के लेटेस्ट एडिशन में विश्व बैंक ने यह भी कहा कि वर्ष 2021 में भारत ग्रोथ रेट को 6.9 फीसदी से रिकवर कर सकता है।

पढ़ें :- Lamborghini ने इलेक्ट्रिक वाहनों की योजना किया ऐलान, पहली इलेक्ट्रिक सुपरकार को 2030 तक किया जाएगा पेश

विश्व बैंक के अनुसार, लगातर दूसरे वर्ष भारत की आर्थिक विकास दर की रफ्तार गिरी है। 2017-18 में यह 7.2 फीसदी थी, जो 2018-19 में घटकर 6.8 फीसदी हो गई। हालांकि मैन्युफैक्चरिंग और कंस्ट्रक्शन एक्टिविटीज बढ़ने से इंडस्ट्रियल आउटपुट ग्रोथ बढ़कर 6.9 फीसदी हो गई जबकि एग्रीकल्चर और सर्विस सेक्टर में ग्रोथ 2.9 फीसदी और 7.5 फीसदी तक रही। वहीं, 15 अक्टूबर को आईएमएफ चालू और अगले वर्ष के लिए अपने ​वृद्धि दर अनुमान के आधिकारिक संशोधित आंकेड़े जारी करेगा।

अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष ने वित्त वर्ष 2019-20 के लिए भारत की विकास दर के अनुमान को घटाया था। हालांकि आईएमएफ ने वित्त वर्ष 2019—20 में आर्थिक विकास दर सात रहने की उम्मीद जताई है। इसमें 0.30 फीसदी की कटौती की गई है। उधर, विकास दर के घटने के अनुमान से केंद्र की मोदी सरकार को बड़ा झटका लग सकता है। विकास दर घटने से केंद्र सरकार की देश को 50 खरब इकोनॉमी बनाने की कवायद को भी झटका लग सकता है।

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...
X