World Hypertension Day 2019: आज है विश्व हाइपरटेंशन डे, जाने इसके कारण और लक्षण

World Hypertension Day 2019: आज है विश्व हाइपरटेंशन डे, जाने इसके कारण और लक्षणWorld Hypertension Day 2019: आज है विश्व हाइपरटेंशन डे, जाने इसके कारण और लक्षण
World Hypertension Day 2019: आज है विश्व हाइपरटेंशन डे, जाने इसके कारण और लक्षण

लखनऊ। आज की भागड़ौड़ भरी जिंदगी के चलते लोगों को तरह-तरह की बीमारियों का शिकार होना पड़ता है। जिनमें से एक है हाइपरटेंशन। गड़बड़ खानपान व गलत आदतों के कारण लोगों को हाइपरटेंशन की समस्या लोगों लगती है। लोगों में हाइपरटेंशन के प्रति जागरुकता फैलाने के लिए हर साल 17 मई को वर्ल्ड हाइपरटेंशन डे मनाया जाता है। यह खास दिन इसलिए मनाया जाता है क्योंकि इससे समाज में लोगों को हाइपरटेंशन के प्रति जागरुक किया जाता है। चलिए आज हम आपको इस बीमारी के लक्षण और बचाव के तरीके बताने जा रहे हैं….

World Hypertension Day 2019 Symptoms And Facts Of Hypertension :

वर्ल्ड हाइपरटेंशन डे पहली बार साल 2005 में 14 मई को वर्ल्ड हाइपरटेंशन लीग द्वारा मनाया गया था। बता दें कि हाइपरटेंशन एक ऐसी बीमारी है जिसमें धीरे-धीरे आपका हार्ट, किडनी व शरीर के दूसरे अंग काम करना बंद कर सकते हैं। हाइपरटेंशन एक साइलेंट किलर है। हाइपरटेंशन कई कारणों से होता है, जिनमें से कुछ कारण शारीरिक और कुछ मानसिक होते हैं।

हाइपरटेंशन के कारण

  • देर रात को भोजन करना।
  • स्मार्टफोन पर लंबे वक्त तक समय बिताना।
  • शारीरिक व्यायाम ना करने के चलते हाइपरटेंशन की समस्या होने लगती है।
  • स्ट्रेस, गलत खानपान औक आधुनिक जीवनशैली के कारण हाइपरटेंशन हो सकते हैं।

हाइपरटेंशन के लक्षण

  • हाइपरटेंशन में चक्कर आना।
  • धमनियों में रक्त का दबाव बढ़ जाना।
  • सिर दर्द की शिकायत शुरू होती है।
  • ये सब हाइपरटेंशन के लक्षण हैं।
  • इसके अलावा बेचैनी, थकान, अनिंद्रा, आक्रोश आना शुरू हो जाता है।
  • हाइपरटेंशन के कारण व्यक्ति शारीरिक एवं मानसिक रूप से परेशान हो जाता है।
लखनऊ। आज की भागड़ौड़ भरी जिंदगी के चलते लोगों को तरह-तरह की बीमारियों का शिकार होना पड़ता है। जिनमें से एक है हाइपरटेंशन। गड़बड़ खानपान व गलत आदतों के कारण लोगों को हाइपरटेंशन की समस्या लोगों लगती है। लोगों में हाइपरटेंशन के प्रति जागरुकता फैलाने के लिए हर साल 17 मई को वर्ल्ड हाइपरटेंशन डे मनाया जाता है। यह खास दिन इसलिए मनाया जाता है क्योंकि इससे समाज में लोगों को हाइपरटेंशन के प्रति जागरुक किया जाता है। चलिए आज हम आपको इस बीमारी के लक्षण और बचाव के तरीके बताने जा रहे हैं.... वर्ल्ड हाइपरटेंशन डे पहली बार साल 2005 में 14 मई को वर्ल्ड हाइपरटेंशन लीग द्वारा मनाया गया था। बता दें कि हाइपरटेंशन एक ऐसी बीमारी है जिसमें धीरे-धीरे आपका हार्ट, किडनी व शरीर के दूसरे अंग काम करना बंद कर सकते हैं। हाइपरटेंशन एक साइलेंट किलर है। हाइपरटेंशन कई कारणों से होता है, जिनमें से कुछ कारण शारीरिक और कुछ मानसिक होते हैं। हाइपरटेंशन के कारण
  • देर रात को भोजन करना।
  • स्मार्टफोन पर लंबे वक्त तक समय बिताना।
  • शारीरिक व्यायाम ना करने के चलते हाइपरटेंशन की समस्या होने लगती है।
  • स्ट्रेस, गलत खानपान औक आधुनिक जीवनशैली के कारण हाइपरटेंशन हो सकते हैं।
हाइपरटेंशन के लक्षण
  • हाइपरटेंशन में चक्कर आना।
  • धमनियों में रक्त का दबाव बढ़ जाना।
  • सिर दर्द की शिकायत शुरू होती है।
  • ये सब हाइपरटेंशन के लक्षण हैं।
  • इसके अलावा बेचैनी, थकान, अनिंद्रा, आक्रोश आना शुरू हो जाता है।
  • हाइपरटेंशन के कारण व्यक्ति शारीरिक एवं मानसिक रूप से परेशान हो जाता है।