World Hypertension Day: क्या है हाइपरटेंशन? इन संकेतों को कभी न करें इग्नोर

World Hypertension Day:, क्या है हाइपरटेंशन
World Hypertension Day: क्या है हाइपरटेंशन? इन संकेतों को कभी न करें इग्नोर

नई दिल्ली। वर्ल्ड हाइपरटेंशन डे 17 मई को मनाया जाता है। यह खास दिन हाई ब्लड प्रेशर के बारे में जानकारी देने के लिए और उससे बचाव के लिए लोगों को जागरूक करने के लिए हर साल मनाया जाता है। हाइपरटेंशन क्या है? दरअसल जब ब्लड प्रेशर हाई हो जाता है तो वह स्थिति हाइपरटेंशन की कहलाती है।

World Hypertension Day :

क्या है हाइपरटेंशन

हाइपरटेंशन को उच्च रक्त चाप भी कहा जाता है। इसमें रक्त वाहिनियों में रक्त का दबाव लगातार बढ़ा हुआ होता है। दबाव जितना अधिक होगा हृदय को उतनी अधिक क्षमता से पम्प करना पड़ेगा। हाईपरटेंशन के कारण विभिन्न अंग क्षतिग्रस्त हो सकते हैं और किडनी, हार्ट फेल होना, स्ट्रोक या हृदयाघात आदि हो सकते हैं। इसमें ब्लड प्रेशर 140 व 90 से अधिक हो ताे आप इस बीमारी के शिकार हैं।बता दें कि गलत खानपान की आदतों के कारण हाइपरटेंशन या हाई ब्लड प्रेशर जैसी बीमारियों को दावत देते है। इसे साइलेंट किलर बीमारी माना जाता है। इसके साथ ही आपको यह जानकर हैरानी होगी कि कई बार हार्ट अटैक हाइपरटेंशन की वजह से भी हो सकता है।

इन बातों का रखें ध्यान

  • वजन को कम करें, यदि अधिक हो तो। धूम्रपान छोड़ दें।
  • फलों को आहार का हिस्सा बनाएं। नमक का सेवन नियंत्रित करें और व्यायाम करें।

हाइपरटेंशन के लक्ष्मण

  • आपको गुस्सा आएगा, सांस लेने में तकलीफ होगी
  • आलसपन रहेगा, ताजगी नहीं रहेगी
  • चेस्ट पेन होगा, सिर दर्द
  • थकान और तनाव महसूस होगा
  • कई बार तो नाक से खून भी निकलेगा

2 करोड़ में से 28 लाख लोग हैं हाई ब्लड प्रेशर का शिकार

भारत में स्वास्थ्य मंत्रालय ने Preventiv Health Programme के तहत देंश के 100 ज़िलों में एक सर्वे करवाया। इस सर्वे में करीब 2 करोड़ लोगों का ब्लड प्रेशर चेक हुआ जिसमें ये पता चला कि 2 करोड़ लोगों में से 28 लाख हाई ब्लड प्रेशर से पीड़ित हैं। इन आंकड़ों के मुताबिक, भारत की करीब 8 प्रतिशत आबादी हाइपरटेंशन की शिकार है इनमें पुरुषों की संख्या 10 प्रतिशत और महिलाओं की संख्या करीब 7 प्रतिशत है।

नई दिल्ली। वर्ल्ड हाइपरटेंशन डे 17 मई को मनाया जाता है। यह खास दिन हाई ब्लड प्रेशर के बारे में जानकारी देने के लिए और उससे बचाव के लिए लोगों को जागरूक करने के लिए हर साल मनाया जाता है। हाइपरटेंशन क्या है? दरअसल जब ब्लड प्रेशर हाई हो जाता है तो वह स्थिति हाइपरटेंशन की कहलाती है।क्या है हाइपरटेंशनहाइपरटेंशन को उच्च रक्त चाप भी कहा जाता है। इसमें रक्त वाहिनियों में रक्त का दबाव लगातार बढ़ा हुआ होता है। दबाव जितना अधिक होगा हृदय को उतनी अधिक क्षमता से पम्प करना पड़ेगा। हाईपरटेंशन के कारण विभिन्न अंग क्षतिग्रस्त हो सकते हैं और किडनी, हार्ट फेल होना, स्ट्रोक या हृदयाघात आदि हो सकते हैं। इसमें ब्लड प्रेशर 140 व 90 से अधिक हो ताे आप इस बीमारी के शिकार हैं।बता दें कि गलत खानपान की आदतों के कारण हाइपरटेंशन या हाई ब्लड प्रेशर जैसी बीमारियों को दावत देते है। इसे साइलेंट किलर बीमारी माना जाता है। इसके साथ ही आपको यह जानकर हैरानी होगी कि कई बार हार्ट अटैक हाइपरटेंशन की वजह से भी हो सकता है।इन बातों का रखें ध्यान
  • वजन को कम करें, यदि अधिक हो तो। धूम्रपान छोड़ दें।
  • फलों को आहार का हिस्सा बनाएं। नमक का सेवन नियंत्रित करें और व्यायाम करें।
हाइपरटेंशन के लक्ष्मण
  • आपको गुस्सा आएगा, सांस लेने में तकलीफ होगी
  • आलसपन रहेगा, ताजगी नहीं रहेगी
  • चेस्ट पेन होगा, सिर दर्द
  • थकान और तनाव महसूस होगा
  • कई बार तो नाक से खून भी निकलेगा
2 करोड़ में से 28 लाख लोग हैं हाई ब्लड प्रेशर का शिकारभारत में स्वास्थ्य मंत्रालय ने Preventiv Health Programme के तहत देंश के 100 ज़िलों में एक सर्वे करवाया। इस सर्वे में करीब 2 करोड़ लोगों का ब्लड प्रेशर चेक हुआ जिसमें ये पता चला कि 2 करोड़ लोगों में से 28 लाख हाई ब्लड प्रेशर से पीड़ित हैं। इन आंकड़ों के मुताबिक, भारत की करीब 8 प्रतिशत आबादी हाइपरटेंशन की शिकार है इनमें पुरुषों की संख्या 10 प्रतिशत और महिलाओं की संख्या करीब 7 प्रतिशत है।