1. हिन्दी समाचार
  2. जीवन मंत्रा
  3. विश्व ऑस्टियोपोरोसिस दिवस: जानिए ऑस्टियोपोरोसिस का क्या है लाइफ मे महत्व…

विश्व ऑस्टियोपोरोसिस दिवस: जानिए ऑस्टियोपोरोसिस का क्या है लाइफ मे महत्व…

By आराधना शर्मा 
Updated Date

लखनऊ: आज20 अक्टूबर को विश्व ऑस्टियोपोरोसिस दिवस है। इस दिन का उद्देश्य हड्डियों को प्रभावित करने वाले ओस्टोपोरोसिस की रोकथाम, निदान और उपचार के बारे में जागरूकता पैदा करना है। यह स्थिति एक व्यक्ति को ताकत और घनत्व खोने के लिए हड्डी बनाती है।

पढ़ें :- हल्दी ठंढ भी बढ़ा रही है गड़िया या जोड़ो का दर्द, अपनाए ये आसान से टिप्स

आपको बता दें, ऑस्टियोपोरोसिस के कारण कमजोर और भंगुर हड्डियां फ्रैक्चर के उच्च जोखिम में हैं। छोटी क्षति से भी फ्रैक्चर हो सकता है। लक्षणों से सावधान रहें, यदि किसी का ध्यान नहीं है और अनियंत्रित है तो आपको दिन-प्रतिदिन की गतिविधियों में बाधा डाल सकता है। ऑस्टियोपोरोसिस में योगदान करने वाले कारक हैं…

पारिवारिक इतिहास

गैर-परिवर्तनीय जोखिम कारक, पारिवारिक इतिहास वाले व्यक्ति की परिवार श्रृंखला में उच्च जोखिम होता है।

लिंग

50 वर्ष की आयु के बाद महिलाओं को पुरुषों की तुलना में अधिक जोखिम होता है।

शरीर का वजन

पढ़ें :- सोने से पहले पत्तागोभी का ऐसे करें इस्तेमाल, सुबह देखें इसका चमत्कार

शरीर के वजन या छोटे शरीर के फ्रेम वाले व्यक्ति अधिक जोखिम में हैं। नियमित व्यायाम और स्वस्थ आहार शरीर के वजन को बनाए रखता है।

रोग के कारक

सीलिएक रोग, किडनी रोग, कैंसर, सूजन आंत्र रोग, संधिशोथ से ओस्टोपोरोसिस का खतरा बढ़ जाता है।

ओस्टोफोरोसिस के जोखिम से बचने के लिए प्रोटीन, कैल्शियम, विटामिन डी और अन्य आवश्यक पोषक तत्वों के साथ एक संतुलित आहार बहुत आवश्यक है। नियमित व्यायाम उचित काया को बनाए रखने में मदद करता है।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे...