सऊदी प्रिंस की याट में लगी है दुनिया की सबसे महंगी पेंटिंग

penting
सऊदी प्रिंस की याट में लगी है विंची की बनाई दुनिया की सबसे महंगी पेंटिंग

नई दिल्ली। दुनिया का सबसे बेहतरीन नमूना मानी जाने वाली लियोनार्डो द विंची की पेंटिंग ‘सल्वाटोर मुंडी’ नामक पेंटिंग, जिसे लियोनार्डो दा विंची की कृति बताया जाता है, रिकॉर्ड 45 करोड़ अमेरिकी डॉलर में बिकी थी, तभी से इसका पता-ठिकाना कला की दुनिया के सबसे बड़े रहस्यों में शुमार किया जाता है लेकिन अब इसका खुलासा हो गया है आप को बता दे कि यह पेंटिंग अब सऊदी अरब के युवराज मोहम्मद बिन सलमान के विशाल यॉट पर मौजूद है।

Worlds Most Expensive Painting Is On Saudi Crown Princes Yacht :

वर्ष 2017 में क्रिस्टी’ज़ में हुई रिकॉर्ड नीलामी के बाद से यह पेंटिंग, जिसमें ईसा मसीह (Jesus Christ) को अंधेरे से निकलकर एक हाथ से दुनिया को आशीर्वाद देते हुए दिखाया गया है, जबकि उनके दूसरे हाथ में एक पारदर्शी ग्लोब मौजूद है, कभी सार्वजनिक रूप से सामने नहीं आई, जिसकी वजह से इसके मालिकान, पता-ठिकाना और वास्तविकता के बारे में सवाल उठने लगे थे।

याट से हटाकर अल-उला शहर में लग सकती है पेंटिंग

शेक्टर ने लेख में सूत्रों के हवाले से दावा किया है कि पेंटिंग पर बोली लगवाने के बाद प्रिंस सलमान ने रातोंरात उसे प्लेन से सऊदी पहुंचाया और फिर इसे अपना याट में लगा दिया। शेक्टर ने यह भी लिखा कि पेंटिंग को जल्द ही अल-उला शहर के गवर्नर ऑफिस में लगाया जाएगा, जिसे सऊदी लंबे समय से सांस्कृतिक और पर्यटन स्थल बनाना चाहता है।

पेंटिंग की वास्तविकता को लेकर संशय में एक्सपर्ट्स

पहली बार अमेरिकी न्यूज ग्रुप वॉल स्ट्रीट जर्नल ने खुलासा किया था कि पेंटिंग को सऊदी प्रिंस बद्र बिन अब्दुल्ला ने खरीदा जो कि उस वक्त सऊदी क्राउन प्रिंस के प्रतिनिधि के तौर पर नीलामी में मौजूद थे। तब रियाद की तरफ से इस बारे में कोई बयान नहीं दिया गया था। हालांकि कई आर्ट एक्सपर्ट्स अभी भी पेंटिंग की वास्तविकता को संशय में हैं। उनका कहना है कि सल्वाटोर मुंडी को लियोनार्डो ने नहीं बल्कि उनके साथ काम करने वाले किसी व्यक्ति ने बनाया था।

नई दिल्ली। दुनिया का सबसे बेहतरीन नमूना मानी जाने वाली लियोनार्डो द विंची की पेंटिंग ‘सल्वाटोर मुंडी’ नामक पेंटिंग, जिसे लियोनार्डो दा विंची की कृति बताया जाता है, रिकॉर्ड 45 करोड़ अमेरिकी डॉलर में बिकी थी, तभी से इसका पता-ठिकाना कला की दुनिया के सबसे बड़े रहस्यों में शुमार किया जाता है लेकिन अब इसका खुलासा हो गया है आप को बता दे कि यह पेंटिंग अब सऊदी अरब के युवराज मोहम्मद बिन सलमान के विशाल यॉट पर मौजूद है। वर्ष 2017 में क्रिस्टी'ज़ में हुई रिकॉर्ड नीलामी के बाद से यह पेंटिंग, जिसमें ईसा मसीह (Jesus Christ) को अंधेरे से निकलकर एक हाथ से दुनिया को आशीर्वाद देते हुए दिखाया गया है, जबकि उनके दूसरे हाथ में एक पारदर्शी ग्लोब मौजूद है, कभी सार्वजनिक रूप से सामने नहीं आई, जिसकी वजह से इसके मालिकान, पता-ठिकाना और वास्तविकता के बारे में सवाल उठने लगे थे। याट से हटाकर अल-उला शहर में लग सकती है पेंटिंग शेक्टर ने लेख में सूत्रों के हवाले से दावा किया है कि पेंटिंग पर बोली लगवाने के बाद प्रिंस सलमान ने रातोंरात उसे प्लेन से सऊदी पहुंचाया और फिर इसे अपना याट में लगा दिया। शेक्टर ने यह भी लिखा कि पेंटिंग को जल्द ही अल-उला शहर के गवर्नर ऑफिस में लगाया जाएगा, जिसे सऊदी लंबे समय से सांस्कृतिक और पर्यटन स्थल बनाना चाहता है। पेंटिंग की वास्तविकता को लेकर संशय में एक्सपर्ट्स पहली बार अमेरिकी न्यूज ग्रुप वॉल स्ट्रीट जर्नल ने खुलासा किया था कि पेंटिंग को सऊदी प्रिंस बद्र बिन अब्दुल्ला ने खरीदा जो कि उस वक्त सऊदी क्राउन प्रिंस के प्रतिनिधि के तौर पर नीलामी में मौजूद थे। तब रियाद की तरफ से इस बारे में कोई बयान नहीं दिया गया था। हालांकि कई आर्ट एक्सपर्ट्स अभी भी पेंटिंग की वास्तविकता को संशय में हैं। उनका कहना है कि सल्वाटोर मुंडी को लियोनार्डो ने नहीं बल्कि उनके साथ काम करने वाले किसी व्यक्ति ने बनाया था।