कन्नौज की यह बकरी खा गयी दो-दो हज़ार के 33 नोट, जाने फिर मालिक ने क्या किया

Yah Bakri Kha Gayi 2 Hazar Ke 33 Note Jane Fir Malik Ne Kya Kiya

कन्नौज। ‘भूख न देखे सूखी रोटी’ इन्सानों के लिए तो यह कहावत अमूमम आप सभी ने सुनी होगी लेकिन आपने कभी सोचा है जानवरों को जब भूख लगती है और उन्हे खाने के लिए चीज़ें नहीं मिल पाती तो वे क्या-क्या खा सकते है। अब अगर आपसे पूछा जाए कि एक बकरी को भूख लगी है तो वो क्या खाएगी। जबाब में अगर ये कहा जाए कि ‘दो हजार के नोट’ तो मामला थोड़ा अजीब लगता है लेकिन कुछ ऐसा ही देखने को मिला है यूपी के कन्नौज में जहां एक भूखी बकरी को खाने के लिए जब कुछ नहीं मिला तो उसने 2 हज़ार के 33 नोट चबा डाले। यानी इस बकरी की भूख मालिक को पूरे 66 हजार रुपये की चपत लगा गई।



मिली जानकारी के अनुसार ये घटना कन्नौज के सिलुआपुर गांव की है यहां के किसान सर्वेश कुमार पटेल ने दो-दो हज़ार के पूरे 35 नोट अपनी पैंट की जेब में रखे थे। वो इस पैसे से अपने मकान के लिए ईंटें खरीदने जाने वाला था लेकिन ये पैंट जिस जगह पर टंगा हुआ था, वहीं पास में सर्वेश की बकरी भी बंधी थी।



बताया जाता है कि पैंट टांगकर जाने के बाद थोड़ी देर में जब सर्वेश लौटा तो उसने देखा कि बकरी कुछ चबा रही है। ये देखकर उसके पैरों तले से जमीन खिसक गई कि बकरी उसके पैंट की जेब में रखे दो-दो हजार के नोट चबा रही है। उसने बकरी के मुंह से नोट बचाने की कोशिश की लेकिन वो सिर्फ दो नोट ही बचा सका और बकरी 66 हजार रुपये चबा गई।



खबर की माने तो सर्वेश ने कहा कि वो नहाने गया था तभी ये वाकया हुआ. हालांकि उसके पास नुकसान सहकर चुप रहने के अलावा कोई चारा नहीं था क्योंकि बकरी को भी वो अपने बच्चे की तरह प्यार करता है। लोगों ने बकरी को कसाई के पास ले जाने या पुलिस को सौंप देने जैसे सुझाव दिए लेकिन उसने सबको खारिज कर दिया और बकरी अब भी उसके यहां पहले की तरह बंधी हुई है।

कन्नौज। 'भूख न देखे सूखी रोटी' इन्सानों के लिए तो यह कहावत अमूमम आप सभी ने सुनी होगी लेकिन आपने कभी सोचा है जानवरों को जब भूख लगती है और उन्हे खाने के लिए चीज़ें नहीं मिल पाती तो वे क्या-क्या खा सकते है। अब अगर आपसे पूछा जाए कि एक बकरी को भूख लगी है तो वो क्या खाएगी। जबाब में अगर ये कहा जाए कि 'दो हजार के नोट' तो मामला थोड़ा अजीब लगता है लेकिन कुछ ऐसा…