Yes बैंक संकट: लोन लेने के मामले में पूछताछ के लिए ED ने अनिल अंबानी को भेजा समन

anil ambani
Yes बैंक संकट: लोन लेने के मामले में पूछताछ के लिए ED ने अनिल अंबानी को भेजा समन

नई दिल्ली। यस बैंक के मामले में रिलायंस ग्रुप के चेयरमैन अनिल अंबानी की मुश्किलें बढ़ती जा रही हैं। यस बैंक प्रमोटर राणा कपूर के खिलाफ मनी लॉन्ड्रिंग के केस में प्रवर्तन निदेशालय(ED) ने अनिल अंबानी को समन भेजा है।  

Yes Bank Case Ed Summoned Anil Ambani For Examination In Connection With Loans Granted :

अधिकारियों ने जानकारी दी कि अनिल अंबानी को आज ईडी के दफ्तर पहुंचने को कहा गया, हालांकि वह आज नहीं पहुंचेंगे ईडी के दफ्तर। अनिल के ग्रुप की कई कंपनियां उन बड़ी कंपनियों की लिस्ट में हैं, जिनको दिया गया कर्ज बैड लोन की लिस्ट में पहुंच गया। इन कंपनियों ने यस बैंक से कर्ज लिया था, जो लौटाया नहीं गया।

बता दें, संकटग्रस्त यस बैंक ने दिसंबर, 2019 में समाप्त हुई तिमाही में उसे 18,564 करोड़ रुपये का घाटा होने की शनिवार को जानकारी दी। निजी क्षेत्र के इस बैंक का संचालन फिलहाल भारतीय रिजर्व बैंक के आदेश पर प्रशांत कुमार कर रहे हैं। बैंक ने पिछले साल इसी अवधि में 1,000 करोड़ रुपये का लाभ दर्ज किया था और सितंबर में समाप्त हुई तिमाही में 629 करोड़ रुपये का घाटा हुआ था।

येस बैंक की गैर-निस्पादित परिसंपत्तियां (एनपीए) दिसंबर तिमाही में 18.87 प्रतिशत हो गयी हैं जो पिछली तिमाही (सितंबर) में 7.39 प्रतिशत थीं। साथ ही बैंक के पास अनिवार्य रूप से रखी जाने वाली नकदी में भी गिरावट आयी है। केन्द्रीय मंत्रिमंडल की ओर से मंजूरी प्राप्त योजना के तहत कुमार बैंक के नए मुख्य कार्यकारी और प्रबंध निदेशक हो सकते हैं।

नई दिल्ली। यस बैंक के मामले में रिलायंस ग्रुप के चेयरमैन अनिल अंबानी की मुश्किलें बढ़ती जा रही हैं। यस बैंक प्रमोटर राणा कपूर के खिलाफ मनी लॉन्ड्रिंग के केस में प्रवर्तन निदेशालय(ED) ने अनिल अंबानी को समन भेजा है।   अधिकारियों ने जानकारी दी कि अनिल अंबानी को आज ईडी के दफ्तर पहुंचने को कहा गया, हालांकि वह आज नहीं पहुंचेंगे ईडी के दफ्तर। अनिल के ग्रुप की कई कंपनियां उन बड़ी कंपनियों की लिस्ट में हैं, जिनको दिया गया कर्ज बैड लोन की लिस्ट में पहुंच गया। इन कंपनियों ने यस बैंक से कर्ज लिया था, जो लौटाया नहीं गया। बता दें, संकटग्रस्त यस बैंक ने दिसंबर, 2019 में समाप्त हुई तिमाही में उसे 18,564 करोड़ रुपये का घाटा होने की शनिवार को जानकारी दी। निजी क्षेत्र के इस बैंक का संचालन फिलहाल भारतीय रिजर्व बैंक के आदेश पर प्रशांत कुमार कर रहे हैं। बैंक ने पिछले साल इसी अवधि में 1,000 करोड़ रुपये का लाभ दर्ज किया था और सितंबर में समाप्त हुई तिमाही में 629 करोड़ रुपये का घाटा हुआ था। येस बैंक की गैर-निस्पादित परिसंपत्तियां (एनपीए) दिसंबर तिमाही में 18.87 प्रतिशत हो गयी हैं जो पिछली तिमाही (सितंबर) में 7.39 प्रतिशत थीं। साथ ही बैंक के पास अनिवार्य रूप से रखी जाने वाली नकदी में भी गिरावट आयी है। केन्द्रीय मंत्रिमंडल की ओर से मंजूरी प्राप्त योजना के तहत कुमार बैंक के नए मुख्य कार्यकारी और प्रबंध निदेशक हो सकते हैं।