YES BANK: वित्तमंत्री बोलीं-मैं भरोसा दिलाती हूं कि हर जमाकर्ता का पैसा सुरक्षित

yes bank
यस बैंक संकट: ग्राहकों के लिए खुशखबरी, खाते से निकाल सकेंगे 50 हजार से ज्यादा रकम

नई दिल्ली। वित्तीय संकट में फंसे यस बैंक का संकट बढ़ता ही जा रहा है। गुरुवार को रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (आरबीआई) ने बैंक के ग्राहकों के लिए 50 हजार रुपये निकालने की सीमा तय कर दी है। यानी यस बैंक के खाताधारक महीने में सिर्फ 50 हजार रुपये ही निकाल सकते हैं।

Yes Bank Finance Minister Bid I Assure That Every Depositors Money Is Safe :

वहीं, इस फैसले के बाद हड़कंप मच गया। इस बीच वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण ने बैंक के खाता धाराकों को भरोसा दिलाते हुए कहा कि उनका जमा रुपया सुरक्षित है, मैं रिजर्व बैंक के साथ लगातार संपर्क में हूं। रिजर्व बैंक ने मुझे भरोसा दिलाया है कि यस बैंक के किसी भी ग्राहक को कोई नुकसान नहीं होगा।

वित्तमंत्री ने कहा कि यस बैंक के मुद्दे को रिजर्व बैंक और सरकार विस्तृत तौर पर देख रहे हैं, हमने वह रास्ता अपनाया है जो सबके हित में होगा। वित्त मंत्री ने कहा कि रिजर्व बैंक एक नियामक के तौर पर यस बैंक के मुद्दे का तेजी से समाधान करने की दिशा में काम कर रहा है, यह कदम जमाकर्ताओं, बैंक और अर्थव्यवस्था के हित में उठाए गए हैं।

उन्होंने कहा कि यस बैंक के ग्राहकों के लिए 50,000 रुपये की सीमा में पैसा निकालना सुनिश्चित करना सबसे पहली प्राथमिकता है। वहीं, वित्तमंत्री ने शाम को प्रेस कांफ्रेंस करके यस बैंक के खाताधारकों को भरोसा दिलाया है।

उन्होंने कहा कि 2017 से आरबीआई लगातार यस बैंक की स्थिति पर नजर रखे हुए है। ऐसा देखा गया कि बैंक में गवर्नेंस का मुद्दा है और बैंक के अनुपालन में भी कमी है। कर्ज देने की खतरनाक नीति के साथ पैसों का भी गलत श्रेणीकरण किया गया।

नई दिल्ली। वित्तीय संकट में फंसे यस बैंक का संकट बढ़ता ही जा रहा है। गुरुवार को रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (आरबीआई) ने बैंक के ग्राहकों के लिए 50 हजार रुपये निकालने की सीमा तय कर दी है। यानी यस बैंक के खाताधारक महीने में सिर्फ 50 हजार रुपये ही निकाल सकते हैं। वहीं, इस फैसले के बाद हड़कंप मच गया। इस बीच वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण ने बैंक के खाता धाराकों को भरोसा दिलाते हुए कहा कि उनका जमा रुपया सुरक्षित है, मैं रिजर्व बैंक के साथ लगातार संपर्क में हूं। रिजर्व बैंक ने मुझे भरोसा दिलाया है कि यस बैंक के किसी भी ग्राहक को कोई नुकसान नहीं होगा। वित्तमंत्री ने कहा कि यस बैंक के मुद्दे को रिजर्व बैंक और सरकार विस्तृत तौर पर देख रहे हैं, हमने वह रास्ता अपनाया है जो सबके हित में होगा। वित्त मंत्री ने कहा कि रिजर्व बैंक एक नियामक के तौर पर यस बैंक के मुद्दे का तेजी से समाधान करने की दिशा में काम कर रहा है, यह कदम जमाकर्ताओं, बैंक और अर्थव्यवस्था के हित में उठाए गए हैं। उन्होंने कहा कि यस बैंक के ग्राहकों के लिए 50,000 रुपये की सीमा में पैसा निकालना सुनिश्चित करना सबसे पहली प्राथमिकता है। वहीं, वित्तमंत्री ने शाम को प्रेस कांफ्रेंस करके यस बैंक के खाताधारकों को भरोसा दिलाया है। उन्होंने कहा कि 2017 से आरबीआई लगातार यस बैंक की स्थिति पर नजर रखे हुए है। ऐसा देखा गया कि बैंक में गवर्नेंस का मुद्दा है और बैंक के अनुपालन में भी कमी है। कर्ज देने की खतरनाक नीति के साथ पैसों का भी गलत श्रेणीकरण किया गया।