क्यों योगी मंत्रिमंडल में प्रमुख विभागों को बदलने की हो रही कवायद !

cm yogi and amit shah
क्यों योगी मंत्रिमंडल में प्रमुख विभागों को बदलने की हो रही कवायद !

लखनऊ। योगी सरकार के मंत्रिमंडल में विस्तार की चर्चा के बीच खबर आ रही है कि कई बड़े विभागों में फेरबदल किया जा सकता है। सूत्रों की मानें तो ये फेरबदल विभागीय मंत्रियों के परफ़ार्मेंस को देखते हुए किया जाएगा। मंत्रिमंडल विस्तार में पूर्वाञ्चल के चेहरों को जगह दी जा सकती है। चर्चा ये भी है कि पूर्व केन्द्रीय मंत्री अनुप्रिया पटेल के पति एमएलसी आशीष पटेल को मंत्रिमंडल में जगह दी जा सकती है।

Yogi Adityanath Cabinet Reshuffle Soon :

बताते चलें कि केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह से शुक्रवार सीएम योगी और प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह ने मुलाकात की, जिसके बाद से मंत्रिमंडल विस्तार की अटकलें तेज हो गयीं हैं। सूत्रों के मुताबिक योगी आदित्यनाथ और स्वतंत्र देव सिंह ने इस बारे में केंद्रीय मंत्री अमित शाह से चर्चा की। दरअसल, मौजूदा सीटों की स्थिति के मुताबिक उत्तर प्रदेश में 60 सदस्यों का मंत्रिपरिषद हो सकता है।

जब मुख्यमंत्री के रूप में योगी ने शपथ ली थी तब 47 सदस्यों को मंत्रिपरिषद में शामिल किया गया था। इसमें से तीन मंत्री सांसद बनने की वजह से इस्तीफा दे चुके हैं। सांसद बनने वाले मंत्रियों में रीता बहुगुणा जोशी, सत्यदेव पचौरी और डॉक्टर एसपी बघेल शामिल हैं।

सूत्रों की माने तो मंत्रिमंडल विस्तार मेें जातीय समीकरण को साधने की कोशिश की जायेगी। संघ और पार्टी के सूत्रों के मुताबिक योगी आदित्यनाथ मौजूदा हालात में मंत्रिमंडल में कुछ नए चेहरों को शामिल करना चाहते हैं और कुछ लोगों को तरक्की देना चाहते हैं साथ ही कुछ का कद भी घटाना चाहते हैं।

लखनऊ। योगी सरकार के मंत्रिमंडल में विस्तार की चर्चा के बीच खबर आ रही है कि कई बड़े विभागों में फेरबदल किया जा सकता है। सूत्रों की मानें तो ये फेरबदल विभागीय मंत्रियों के परफ़ार्मेंस को देखते हुए किया जाएगा। मंत्रिमंडल विस्तार में पूर्वाञ्चल के चेहरों को जगह दी जा सकती है। चर्चा ये भी है कि पूर्व केन्द्रीय मंत्री अनुप्रिया पटेल के पति एमएलसी आशीष पटेल को मंत्रिमंडल में जगह दी जा सकती है। बताते चलें कि केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह से शुक्रवार सीएम योगी और प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह ने मुलाकात की, जिसके बाद से मंत्रिमंडल विस्तार की अटकलें तेज हो गयीं हैं। सूत्रों के मुताबिक योगी आदित्यनाथ और स्वतंत्र देव सिंह ने इस बारे में केंद्रीय मंत्री अमित शाह से चर्चा की। दरअसल, मौजूदा सीटों की स्थिति के मुताबिक उत्तर प्रदेश में 60 सदस्यों का मंत्रिपरिषद हो सकता है। जब मुख्यमंत्री के रूप में योगी ने शपथ ली थी तब 47 सदस्यों को मंत्रिपरिषद में शामिल किया गया था। इसमें से तीन मंत्री सांसद बनने की वजह से इस्तीफा दे चुके हैं। सांसद बनने वाले मंत्रियों में रीता बहुगुणा जोशी, सत्यदेव पचौरी और डॉक्टर एसपी बघेल शामिल हैं। सूत्रों की माने तो मंत्रिमंडल विस्तार मेें जातीय समीकरण को साधने की कोशिश की जायेगी। संघ और पार्टी के सूत्रों के मुताबिक योगी आदित्यनाथ मौजूदा हालात में मंत्रिमंडल में कुछ नए चेहरों को शामिल करना चाहते हैं और कुछ लोगों को तरक्की देना चाहते हैं साथ ही कुछ का कद भी घटाना चाहते हैं।