शामली मुठभेड़: शहीद सिपाही के परिजनों को योगी सरकार देगी 50 लाख

ankit-tomar

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के शामली में बदमाशों से हुई पुलिस मुठभेड़ में शहीद हुए सिपाही अंकित तोमर के परिजनों को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने 50 लाख की आर्थिक सहायता देने का ऐलान किया है, साथ ही सीएम योगी ने सिपाही की वीरता और साहस की प्रशंसा की है। मुख्यमंत्री ने दिवंगत आत्मा की शान्ति की कामना करते हुए उनके परिजनों के प्रति संवेदना व्यक्त की।

Yogi Announced 50 Lac To Up Police Constable Family :

बता दें कि बीती 2 जनवरी को शामली में मुठभेड़ के दौरान कैराना थानाध्यक्ष भगवत सिंह और कांस्टेबल अंकित घायल हुए थे। अंकित बागपत का रहने वाला है। अंकित को पहले मेरठ में एडमिट कराया गया था, बाद में उन्हें नोएडा के फोर्टिस अस्पताल में भर्ती किया गया। जहां उपचार के दौरान उनकी मृत्यु हो गई।

शामली में डीआईजी सहारनपुर, एसपी शामली समेत तमाम प्रशासनिक अधिकारियों ने शहीद को श्रद्धांजलि दी। शहीद के पिता ने बताया कि उसका बेटा बहादुर था और उन्हें उनकी शहादत पर गर्व है लेकिन एक पिता होने के नाते दर्द भी है। गुरुवार को पैतृक गांव बागपत में अंकित का अंतिम संस्कार किया गया। गौरतलब है कि शहीद सिपाही अंकित तोमर बागपत जिले के बाजितपुर गांव के मूल निवासी थे। वे अपने पीछे 3 वर्ष की बेटी और 3 माह का बेटा छोड़ गए हैं।

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के शामली में बदमाशों से हुई पुलिस मुठभेड़ में शहीद हुए सिपाही अंकित तोमर के परिजनों को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने 50 लाख की आर्थिक सहायता देने का ऐलान किया है, साथ ही सीएम योगी ने सिपाही की वीरता और साहस की प्रशंसा की है। मुख्यमंत्री ने दिवंगत आत्मा की शान्ति की कामना करते हुए उनके परिजनों के प्रति संवेदना व्यक्त की।बता दें कि बीती 2 जनवरी को शामली में मुठभेड़ के दौरान कैराना थानाध्यक्ष भगवत सिंह और कांस्टेबल अंकित घायल हुए थे। अंकित बागपत का रहने वाला है। अंकित को पहले मेरठ में एडमिट कराया गया था, बाद में उन्हें नोएडा के फोर्टिस अस्पताल में भर्ती किया गया। जहां उपचार के दौरान उनकी मृत्यु हो गई।शामली में डीआईजी सहारनपुर, एसपी शामली समेत तमाम प्रशासनिक अधिकारियों ने शहीद को श्रद्धांजलि दी। शहीद के पिता ने बताया कि उसका बेटा बहादुर था और उन्हें उनकी शहादत पर गर्व है लेकिन एक पिता होने के नाते दर्द भी है। गुरुवार को पैतृक गांव बागपत में अंकित का अंतिम संस्कार किया गया। गौरतलब है कि शहीद सिपाही अंकित तोमर बागपत जिले के बाजितपुर गांव के मूल निवासी थे। वे अपने पीछे 3 वर्ष की बेटी और 3 माह का बेटा छोड़ गए हैं।