1. हिन्दी समाचार
  2. उत्तर प्रदेश
  3. Yogi cabinet expansion : योगी मंत्रिमंडल के आखिरी विस्तार में इनको बनाया गया मंत्री

Yogi cabinet expansion : योगी मंत्रिमंडल के आखिरी विस्तार में इनको बनाया गया मंत्री

यूपी आगामी विधानसभा चुनाव 2022 से पहले रविवार को योगी सरकार अपनी कैबिनेट का आखिरी विस्तार कर दिया है। प्रदेश की राज्यपाल आनंदी बेन पटेल ने मंत्रियों को राजभवन के गांधी सभागार में पद व गोपनीयता की शपथ दिलाई है।

By संतोष सिंह 
Updated Date

लखनऊ। यूपी आगामी विधानसभा चुनाव 2022 से पहले रविवार को योगी सरकार अपनी कैबिनेट का आखिरी विस्तार कर दिया है। प्रदेश की राज्यपाल आनंदी बेन पटेल ने मंत्रियों को राजभवन के गांधी सभागार में पद व गोपनीयता की शपथ दिलाई है।

पढ़ें :- YOGI GOV: इलाहाबाद हाई कोर्ट के रिटायर्ड जज को सौंपी गई लखीमपुर हिंसा की जांच, जानें कब आयेगी रिपोर्ट

जितिन प्रसाद ने कैबिनेट मंत्री पद की शपथ ली।जितिन प्रसाद यूपीए की मनमोहन सिंह सरकार में मंत्री रहे हैं।

बरेली की बहेड़ी सीट से विधायक छत्रपाल गंगवार ने राज्य मंत्री पद की शपथ ली।

आगरा के एमएलसी धर्मवीर प्रजापति ने राज्य मंत्री पद की शपथ ली।

दिनेश खटिक ने राज्य मंत्री पद की शपथ ली।

पढ़ें :- गोरखपुर: 72 घंटे में दूसरी हत्या, रामगढ़ताल में वेटर को दबंगो ने पीट-पीट कर मारा

संजीव कुमार ने राज्य मंत्री पद की शपथ ली।

गाजीपुर के सदर सीट से विधायक संगीता बलवंत बिंदू ने राज्य मंत्री पद की शपथ ली।

बलरामपुर से विधायक पलटू राम ने राज्य मंत्री पद की शपथ ली।

योगी सरकार का है ये तीसरा कैबिनेट विस्तार

उत्तर प्रदेश के 2017 में हुए विधानसभा चुनाव में बीजेपी और उसके सहयोगियों ने 325 सीटें जीती थीं। उसके बाद 19 मार्च 2017 को सरकार ​का पहला शपथ ग्रहण समारोह हुआ था। उसके बाद 21 अगस्त 2019 को दूसरा कैबिनेट विस्तार हुआ, जिसमें 23 मंत्रियों ने शपथ ली। आज तीसरा विस्तार हुआ है।

पढ़ें :- अपर निदेशक सूचना पद पर अंशुमानराम त्रिपाठी की तैनाती, लंबे अरसे से खाली पड़ी थी कुर्सी

इन मंत्रियों का ऐसी है जाति प्रोफाइल

जितिन प्रसाद (ब्राह्मण – सवर्ण) , डॉ. संगीता बिंद (मल्लाह ओबीसी) , धर्मवीर प्रजापति (कुम्हार – ओबीसी) , पलटूराम (अनुसूचित जाति) , छत्रपाल गंगवार (कुर्मी – ओबीसी) , दिनेश खटिक (दलित – एससी), संजय गौड़ (अनुसूचित जनजाति – एसटी)।

योगी मंत्रिमंडल में अभी 53 मंत्री है जबकि सात नये मंत्रियों के शामिल होने से मंत्रिमंडल के लिये निर्धारित कोटा 60 का आंकड़ा पूरा हो गया है। यूपी में विधानसभा चुनाव के लिये अभी नौ महीने का समय शेष है, लेकिन नये मंत्रियों के लिये प्रतिभा दर्शाने के लिये संभवत: सिर्फ छह महीने मिलेंगे क्योंकि तीन महीने पहले आदर्श चुनाव संहिता लागू होने से उनके लिये करने के लिये कुछ रह नहीं जायेगा।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...