योगी दरबार में फरियादियों को पकड़े रहते है सुरक्षाकर्मी, आखिर क्यो ?

c2
लखनऊ। यूपी के सीएम अपने आवास पर जनसमस्या सुनने के लिए दरबार लगाते है। इस दौरान सीएम दरबार में आए फरियादियों की फरियाद सुनते है और समस्या से निजात दिलाने का वाद भी करते है। इसी उम्मीद के साथ प्रदेश के हर कोने से लोग यहां पहुँचते है। हर बार की तरह बुधवार को सीएम आवास पर बड़ी तादाद में फरियादी पहुंचे। इस दौरान वहां अफरातफरी जैसा माहौल हो गया। लेकिन हम आपको बता दे की सीएम जब अपनी दरबार में फरियाद सुनते है तो वहां का माहौल कैसा होता है।



c6

सीएम के जनता दरबार में बड़ी संख्या में फरियादी एक साथ बैठते हैं। उनके लिए कुर्सियां लगाई जाती हैं और सभी लोग अपनी शिकायतों के साथ वहां बैठते हैं। योगी आकर उनकी समस्या सुनते हैं। जब तक सीएम वहां मौजूद होते हैं, हर फरियादी के पीछे एक सुरक्षाकर्मी मौजूद रहता है।

c7

खास बात यह है कि इस दौरान सीएम जिस फरियादी के सामने होते हैं उसके ठीक पीछे एक सुरक्षाकर्मी खड़ा रहता है। सिर्फ इतना ही नहीं, वो फरियादी के कंधों को पकड़े रहता है।



c5
सिर्फ एक तस्वीर में ऐसा नहीं है। हर दिन आने वाले फरियादियों के साथ ऐसा नजारा पेश आता है। इतना ही नहीं पूरे हॉल में सुरक्षाकर्मी पैनी नजर के साथ घूमते रहते हैं।
c1
सीएम के जनता दरबार में ज्यादातर महिलाएं पहुंचती है। ऐसे में महिलाओं के लिए खासतौर पर महिला सुरक्षाकर्मी दरबार में तैनात रहती है। पुरुषों की तरह ही महिला फरियादियों के कंधों पर भी सुरक्षाकर्मियों के हाथ होते हैं।




सुरक्षा कारणों से होता है ऐसा—

मुख्यमंत्री की सुरक्षा में तैनात कर्मीयों की यह ड्यूटी रहती है कि जब वह किसी फरियादी की बात सुन रहे हों तो वह उस समय उसके पीछे खड़े होकर उसके कंधों पर हाथ रख लें। जिससे कि फरियादी खड़ा न हो सके और मुख्यमंत्री और फरियादी के बीच एक दूरी बनी रहे। पिछली सरकार में भी जब जनता दरबार लगता था तो इसी तरह का दृश्य देखने को मिलता था। इस पूरी प्रक्रिया का एक मात्र उद्देश्य मुख्यमंत्री की सुरक्षा को पुख्ता रखने को लेकर है न कि किसी अन्य कारण से।

c3




c4