CAA के विरोध प्रदर्शन में पकड़े गए निर्दोषों को रिहा कर माफी मांगे योगी सरकार : मायावती

mayawati
बसपा सुप्रीमो ने मोदी सरकार 2.0 पर साधा निशाना, कहा- विवादों का एक साल

लखनऊ। नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ विरोध प्रदर्शन जारी है। इस बीच हुई हिंसा को लेकर पुलिस कार्रवाई कर रही है। नागरिकता कानून को लेकर यूपी के कई जिलों में हिंसा भी हुई, जिसके बाद यूपी पुलिस ने कार्रवाई शुरू की। हिंसा करने वाले लोगों को चिन्हित कर यूपी पुलिस कार्रवाई कर रही है। ऐसे में बसपा सुप्रीमो मायावती ने योगी सरकार पर हमला बोला है।

Yogi Government Apologizes For Releasing Innocents Caught In Caa Protests Mayawati :

उन्होंने यूपी पुलिस की कार्रवाई पर सवाल उठाया है। उन्होंने कहा कि बिना जांच किए ही प्रदर्शनकारियों पर कार्रवाई की जा रही है। पुलिस की कार्रवाई शर्मनाक और निंदनीय है। यूपी सरकार तुरंत निर्दोषों को रिहा करे। पूरे मामले की न्यायिक जांच होनी चाहिए। मायावती ने ट्वीट कर यूपी सरकार पर हमला बोला है।

उन्होंने कहा कि, यू.पी. में CAA/NRC के विरोध में किये गये प्रदर्शनों में बिना जांच-पड़ताल के ही विशेषकर बिजनौर, सम्भल, मुजफ्फरनगर, मेरठ, फिरोज़ाबाद व अन्य और ज़िलों में भी जिन निर्दोषों को जेल भेज दिया है, जिसे मीडिया ने भी उजागर किया है, यह अति-शर्मनाक व निन्दनीय है। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि यूपी सरकार इनको तुरन्त छोड़े व इसके लिए सरकार को अपनी गलती की माफी भी मांगनी चाहिये।

साथ ही, इसमें जिन निर्दोषों की मृत्यु हो गई है, राज्य सरकार को उन परिवारों की न्यायोचित आर्थिक मदद भी जरूर करनी चाहिये। बी.एस.पी. की यह मांग है। उन्होंने कहा कि, लेकिन ऐसे में अब इस पूरे राज्य-स्तरीय प्रकरण की न्यायिक जांच होना बहुत जरूरी है। इसकी मांग हेतु माननीया गर्वनर को एक लिखित ज्ञापन भी बी.एस.पी. प्रतिनिधिमण्डल द्वारा कल दिनांक 6 जनवरी को प्रातः 11 बजे राजभवन में दिया जायेगा।

लखनऊ। नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ विरोध प्रदर्शन जारी है। इस बीच हुई हिंसा को लेकर पुलिस कार्रवाई कर रही है। नागरिकता कानून को लेकर यूपी के कई जिलों में हिंसा भी हुई, जिसके बाद यूपी पुलिस ने कार्रवाई शुरू की। हिंसा करने वाले लोगों को चिन्हित कर यूपी पुलिस कार्रवाई कर रही है। ऐसे में बसपा सुप्रीमो मायावती ने योगी सरकार पर हमला बोला है। उन्होंने यूपी पुलिस की कार्रवाई पर सवाल उठाया है। उन्होंने कहा कि बिना जांच किए ही प्रदर्शनकारियों पर कार्रवाई की जा रही है। पुलिस की कार्रवाई शर्मनाक और निंदनीय है। यूपी सरकार तुरंत निर्दोषों को रिहा करे। पूरे मामले की न्यायिक जांच होनी चाहिए। मायावती ने ट्वीट कर यूपी सरकार पर हमला बोला है। उन्होंने कहा कि, यू.पी. में CAA/NRC के विरोध में किये गये प्रदर्शनों में बिना जांच-पड़ताल के ही विशेषकर बिजनौर, सम्भल, मुजफ्फरनगर, मेरठ, फिरोज़ाबाद व अन्य और ज़िलों में भी जिन निर्दोषों को जेल भेज दिया है, जिसे मीडिया ने भी उजागर किया है, यह अति-शर्मनाक व निन्दनीय है। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि यूपी सरकार इनको तुरन्त छोड़े व इसके लिए सरकार को अपनी गलती की माफी भी मांगनी चाहिये। साथ ही, इसमें जिन निर्दोषों की मृत्यु हो गई है, राज्य सरकार को उन परिवारों की न्यायोचित आर्थिक मदद भी जरूर करनी चाहिये। बी.एस.पी. की यह मांग है। उन्होंने कहा कि, लेकिन ऐसे में अब इस पूरे राज्य-स्तरीय प्रकरण की न्यायिक जांच होना बहुत जरूरी है। इसकी मांग हेतु माननीया गर्वनर को एक लिखित ज्ञापन भी बी.एस.पी. प्रतिनिधिमण्डल द्वारा कल दिनांक 6 जनवरी को प्रातः 11 बजे राजभवन में दिया जायेगा।