1. हिन्दी समाचार
  2. कोरोना संकट में योगी सरकार विपक्ष से नहीं बल्कि अपनों से है परेशान

कोरोना संकट में योगी सरकार विपक्ष से नहीं बल्कि अपनों से है परेशान

Yogi Government In Corona Crisis Is Troubled Not By Opposition But With Loved Ones

लखनऊ। उत्तर प्रदेश में भी तेजी के साथ कोरोना संक्रमित मरीजो की संख्या बढ़ती चली जा रही है। सरकार लगातार कोरोना संकट से उभरने की कोशिश कर रही है। लेकिन अब योगी सरकार की सबसे बड़ी मुसीबत उनके अपने ही बन गये हैं, सरकार की आलोचना जितना विपक्ष नही कर रहा, उससे ज्यादा बीजेपी के नेता कर रहे हैं।

पढ़ें :- विश्व के सबसे बड़े पर्यटन क्षेत्र के रूप में उभर रहा है केवड़िया: PM मोदी

लॉकडाउन के इस दौर में उत्तर प्रदेश में विपक्ष तो चुप्पी ओढ़े बैठा है। विपक्ष की जो कुछ भी थोड़ी बहुत भूमिका निभा रही हैं वो प्रियंका गाँधी दिल्ली में बैठ ट्विटर वार छेड़े हुए हैं। टीवी, अख़बारों से लेकर सोशल मीडिया तक योगी की कार्यकुशलता का गुणगान है। ऐसे में लगता है कि उत्तर प्रदेश में विपक्ष की भूमिका ख़ुद भारतीय जनता पार्टी के नेताओं ने संभाल ली है। रह रह कर विधायकों की ओर से सरकार पर हमले बोले जा रहे हैं। कुछ खुल कर सामने हैं तो बाक़ी दबी ज़ुबान में अपनी नाराज़गी ज़ाहिर कर रहे हैं। हफ्ते भर के अंदर सरकार व नेतृत्व के ख़िलाफ़ आवाज़ उठाने पर तीन विधायकों को कारण बताओ नोटिस दिया गया है।

आगरा के बीजेपी मेयर ने खोली पोल

आगरा के मेयर नवीन जैन, जिनका एक पत्र वायरल हुआ है, जिसमें उन्होंने मुख्यमंत्री को संबोधित करते हुए लिखा है कि आप आगरा को वुहान बनाने से बचा लीजिये, जबकि कोरोना से निपटने में उसी आगरा मॉडल की प्रशंसा राष्‍ट्रीय स्‍तर पर मीडिया ने की थी। बता दें कि वुहान चीन का शहर है, यहीं सबसे पहले कोरोना वायरस का मामला आया था और यह महामारी का केंद्र था। उन्होने अधिकारियों पर कालाबजारी का भी आरोप लगाया था।

बीजेपी विधायक ने सब्जी वाले पर धार्मिक टिप्पणी कर भगाया

पढ़ें :- सीएम योगी ने झांसी में स्ट्रॉबेरी महोत्सव का किया वर्चुअल शुभारम्भ, कहा-बुन्देलखण्ड में मिलेगी ...

बुधवार को ही महोबा के चरखारी से भाजपा विधायक ब्रजभूषण राजपूत का एक वीडियो वायरल हो गया जिसमें वह राजधानी के गोमतीनगर इलाक़े में एक मुसलिम सब्ज़ी विक्रेता को अपने मोहल्ले में न घुसने की धमकी दे रहे हैं।

मज़ाक़ उड़ा रहे हैं भाजपा विधायक

सीतापुर के विधायक राकेश राठौर ने सोशल मीडिया पर वायरल हुए अपने वक्तव्यों में कोरोना से निपटने के मोदी फ़ॉर्मूले की धज्जियाँ उड़ाईं तथा मज़ाक़ बनाया। राकेश राठौर यहीं नहीं रुके, उन्होंने मुख्यमंत्री कार्यालय से फ़ीडबैक के लिये किये गये फ़ोन का हास्‍यास्‍पद जवाब देकर रही-सही कसर पूरी कर दी।

विधायक ने निधि का पैसा वापस मांगा

हरदोई के बीजेपी विधायक श्याम प्रकाश ने भी कोई कसर नही छोड़ी। उन्होंने कोरोना से लड़ने के लिए दी गई अपनी निधि का पैसा बाक़ायदा पत्र लिखकर वापस माँगा। इस पत्र के वायरल होते ही सनसनी मच गयी। ख़बर चली कि स्वास्थ्य विभाग में भ्रष्टाचार की ख़बरों पर गोपामऊ के विधायक ने अपनी निधि द्वारा दी गयी रक़म वापस माँगी है, जिसमें कहा गया था कि कोरोना से बचाव के लिए अपने क्षेत्र में सेनेटाइजर और मास्क उपलब्ध कराने के लिए विधायक ने अपनी निधि से 25 लाख रुपए दिये थे। भ्रष्टाचार की शिकायतों पर विधायक ने अपने फंड के ख़र्च का हिसाब माँगा था। बताते हैं कि जब जवाब नहीं मिला तो पत्र लिखकर अपनी निधि के 25 लाख रुपये विधायक ने वापस माँग लिये।

पढ़ें :- सीएम योगी आदित्यनाथ का आदेश, वैक्सीनेशन कार्य को सुव्यवस्थित ढंग से करें क्रियान्वित

विधायक का फरमान मुस्लिमों से न खरीदें सब्जी

देवरिया से भाजपा विधायक सुरेश तिवारी का एक वीडियो वायरल हुआ है, जिसमें वह मुसलमानों से सामान न खरीदने की बात करते दिख रहे हैं। जब विधायक का वायरल वीडियो मीडिया संस्थानो पर चला तब भाजपा का राष्ट्रीय नेतृत्व हरकत में आया। उसने राज्य इकाई को इस मुद्दे पर कड़ी कार्रवाई करने का निर्देश दिया।

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे...