सर्दी चरम पर: बच्चों के लिए कब स्वेटर खरीदेगी योगी सरकार

upcoca
सर्दी चरम पर: बच्चों के लिए कब स्वेटर खरीदेगी योगी सरकार

लखनऊ। उत्तर प्रदेश में शीत लहर के प्रभाव के चलते 4 जनवरी तक कक्षा आठ तक के बच्चों के लिए स्कूल की छुट्टी हो चुकी है। इसका मतलब स्पष्ट है कि सर्दी अपने चरम पर है और जिला प्रशासन ने बच्चों के स्वास्थ्य को ध्यान में रखते हुए ऐसे आदेश जारी किए हैं। एक ओर जिला प्रशासन की जागरुकता दिख रही है, तो दूसरी ओर प्रदेश सरकार की निष्क्रियता क्योंकि सरकार की ओर से सरकारी प्राइमरी स्कूलों में पढ़ने वाले गरीब बच्चों को प्रतिवर्ष दिए जाने वाले स्वेटरों की खरीद की प्रक्रिया अभी तक पूरी नहीं हो पाई है। नतीजतन इस सर्दी नए स्वेटर मिलने के इंतजार में बैठे बच्चों को ठिठुरना पड़ रहा है।

मीडिया के द्वारा दो महीने पहले स्वेटर की खरीद में हो रही देरी को लेकर सरकार का ध्यान आकर्षित किया गया था। जिसके बाद स्वेटर खरीद के लिए गंभीर हुए बेसिक शिक्षा विभाग के अधिकारियों ने आनन फानन में सक्रियता दिखाई, लेकिन यह सक्रियता उस समय धरी रह गई जब प्रदेश में नगरीय निकाय चुनाव की अधिसूचना जारी होने की वजह से निर्वाचन आयोग ने जिला स्तर पर जारी हुए टेंडरों पर रोक लगा दी। निकाय चुनाव खत्म होने के बाद एकबार फिर टेंडरिंग की प्रक्रिया को शुरू किया गया, लेकिन सप्लायर न मिलने पर विभागीय अधिकारियों ने अपने हाथ खड़े कर दिए।

{ यह भी पढ़ें:- जूते-मोजे की टेंडर प्रक्रिया में हुई मनमानी, हाईकोर्ट ने सरकार से मांगा जवाब }

जिसके बाद प्रदेश सरकार ने दिसंबर के महीने में अपने स्तर पर ई टेंडर जारी किया। जिसकी पहली डेडलाइन 22 दिसंबर तक सरकार को एक भी निविदा प्राप्त नहीं हुई। मजबूरन सरकार को अपनी डेडलाइन पांच दिन और बढ़ानी पड़ी, जिसके बाद सरकार को 5 कंपनियों की निविदा प्राप्त हुई। जिनमें से तीन फर्में अयोग्य पाई गईं, जबकि दो योग्य फर्मों की कीमत सरकारी के मानक 200 रुपए प्रति स्वेटर से 100 रुपए प्रति स्वेटर अधिक निकली। कुल मिलाकर सरकार को स्वेटर बांटने के मामले में अब तक कोई सफलता मिलती नजर नहीं आ रही।

स्वेटर के अलावा जूते मोजे भी देने वाली है योगी सरकार —

{ यह भी पढ़ें:- शिया सेंट्रल वक्फ बोर्ड ने ईद मनाने से किया इंकार, कहा पाकिस्तान की नापाक हरकतों की वजह से कर रहे विरोध }

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कुर्सी पर बैठने के बाद वादा किया था कि परिषदीय विद्यालयों में पढ़ने वाले बच्चों को पाठ्य पुस्तकें, बस्ता, ड्रेस और स्वेटर के साथ जूते—मोजे भी मुफ्त दिए जाएंगे। जूते मोजों की व्यवस्था भी बात की जाए तो सरकार ने यह घोषणा सर्दियों में नंगे पैर पढ़ने जाने वाले बच्चों की चिंता करते हुए ​की थी, लेकिन सर्दियों में हाड कपाउ ठंड में स्वेटर की खरीद हो सरकार से हो नहीं पा रही है, ऐसे में जूते मोजों का क्या होगा यह राम ही जाने।

200 का स्वेटर—

यूपी सरकार ने बच्चों के स्वेटर की अनुमानित कीमत 200 रुपए तय की है। अब सोचने वाली बात है कि जो स्वेटर 200 रुपए का आएगा वह कितनी गरमाहट देगा। अगर बाजार में 70 फीसदी डिस्काउंट सेल वाली दुकान पर भी आप 200 रुपए लेकर जाएंगे तो आपको खाली हाथ ही वापस आना पड़ेगा। शायद ऐसा ही कुछ यूपी सरकार के साथ भी हो रहा है। जिसे 200 रुपए में स्वेटर बेंचने वाला कोई सप्लायर नहीं मिल रहा है।

{ यह भी पढ़ें:- बस्ती: तीन लाख रिश्वत नहीं देने पर नौकरी से निकाला }

लखनऊ। उत्तर प्रदेश में शीत लहर के प्रभाव के चलते 4 जनवरी तक कक्षा आठ तक के बच्चों के लिए स्कूल की छुट्टी हो चुकी है। इसका मतलब स्पष्ट है कि सर्दी अपने चरम पर है और जिला प्रशासन ने बच्चों के स्वास्थ्य को ध्यान में रखते हुए ऐसे आदेश जारी किए हैं। एक ओर जिला प्रशासन की जागरुकता दिख रही है, तो दूसरी ओर प्रदेश सरकार की निष्क्रियता क्योंकि सरकार की ओर से सरकारी प्राइमरी स्कूलों में पढ़ने वाले…
Loading...