1. हिन्दी समाचार
  2. उत्तर प्रदेश
  3. योगी सरकार ने यूपी में अवैध शराब कारोबारियों पर कसा शिकंजा, की बड़ी कार्रवाई

योगी सरकार ने यूपी में अवैध शराब कारोबारियों पर कसा शिकंजा, की बड़ी कार्रवाई

यूपी में अवैध शराब (Illicit Liquor) के निर्माण, बिक्री व तस्करी कर आबकारी राजस्व (Excise Revenue) को नुकसान पहुंचाने वाले कारोबारियों पर लगातार कार्रवाई की जा रही है। अपर मुख्य सचिव आबकारी संजय आर भूसरेड्डी (Additional Chief Secretary Excise Sanjay R Bhusreddy) ने बताया कि अवैध शराब (Illicit Liquor) के निर्माण,बिक्री और तस्करी के कारोबार में संलिप्त माफियाओं को नेस्तनाबूद करने के लिए आबकारी विभाग (Excise Department) पूरी तरह से कटिबद्ध है।

By संतोष सिंह 
Updated Date

लखनऊ। यूपी में अवैध शराब (Illicit Liquor) के निर्माण, बिक्री व तस्करी कर आबकारी राजस्व (Excise Revenue) को नुकसान पहुंचाने वाले कारोबारियों पर लगातार कार्रवाई की जा रही है। अपर मुख्य सचिव आबकारी संजय आर भूसरेड्डी (Additional Chief Secretary Excise Sanjay R Bhusreddy) ने बताया कि अवैध शराब (Illicit Liquor) के निर्माण,बिक्री और तस्करी के कारोबार में संलिप्त माफियाओं को नेस्तनाबूद करने के लिए आबकारी विभाग (Excise Department) पूरी तरह से कटिबद्ध है। साढ़े चार साल के कार्यकाल में शासन द्वारा अवैध शराब की रोकथाम के लिए कई कड़े कदम उठाए गए है। शासन ने आबकारी अधिनियम में धारा 60 क जोड़ते हुए आजीवन कारावास तक की सजा का प्रावधान किया गया।

पढ़ें :- UP को नंबर एक योगी आदित्यनाथ ने बनाया, चमक, दमक नहीं बल्कि विकास को दी प्राथमिकता : धर्मेंद्र प्रधान
Jai Ho India App Panchang

अपर मुख्य सचिव आबकारी संजय आर भूसरेड्डी (Additional Chief Secretary Excise Sanjay R Bhusreddy) ने बताया कि इसके अतिरिक्त अवैध शराब के पकड़े गए मामलों में आबकारी अधिनियम के साथ साथ आई पी सी, गैंगस्टर एक्ट, गुंडा एक्ट के अंतर्गत कठोरतम कार्रवाई प्रशासन एवं पुलिस के सहयोग से करायी गयी। शराब कारोबार (liquor business) में संलिप्त अपराधियों पर कड़ी कार्रवाई करते हुए उनकी संपत्ति जब्त किए गए और कुर्की की कार्रवाई की गयी। शासन द्वारा पिछले दिनों प्रदेश में घटी अप्रिय घटनाओं एवं राजस्व क्षति को लेकर शासन ने गम्भीर रूख अपनाते हुए अवैध शराब कारोबारियों पर चारों ओर से शिंकजा कसा जा रहा है।

अपर मुख्य सचिव ने बताया कि शराब माफियाओं (liquor mafia) के विरुद्ध की गई कार्रवाई की जानकारी देते हुए बताया गया कि प्रदेश में विगत साढ़े चार वर्षों में पुलिस एवं आबकारी के संयुक्त प्रयास से 515 शराब माफियाओं को चिन्हित किया गया। जिसमें से 511 माफियाओं के विरुद्ध अवैध शराब के कारोबार में 60 आबकारी अधिनियम के अतिरिक्त आईपीसी की सुसंगत धाराओं में मुकदमा पंजीकृत कराया गया ।

आबकारी माफियाओं पर शिंकजा कसते हुए 493 शराब अवैध शराब माफियाओं को गिरफ्तार किया गया जिनमें से 30 माफियाओं की कुर्की कराई गई । 72 शराब माफियाओं के विरुद्ध गैंगस्टर एक्ट के तहत कार्रवाई करते हुए। उनकी संपत्ति जब्त की गई । इसी प्रकार अवैध शराब माफियाओं के विरूद्ध कार्रवाई कर 114 अपराधियों पर गुण्डा एक्ट लगाया गया। इस अवधि में 08 माफियाओं के शस्त्र के लाइसेंस निरस्त किए गए तथा 172 माफियाओं की हिस्ट्रीशीट खोलकर पुलिस एवं प्रशासन के सहयोग से अग्रेतर विधिक कार्रवाई कराई गई।

अपर मुख्य सचिव संजय आर. भूसरेड्डी ने बताया कि विगत साढ़े चार साल की अवधि में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (Chief Minister Yogi Adityanath) एवं आबकारी मंत्री रामनरेश अग्निहोत्री (Excise Minister Ramnaresh Agnihotri) के निर्देशन में लगातार विशेष प्रवर्तन अभियान एवं छापेमारी की कार्रवाई की गयी जिससे अवैध शराब माफिया अवैध शराब का कारोबार छोड़ने के लिये विवश हो रहे हैं। इसी क्रम में सेंथिल पांडियन सी, आबकारी आयुक्त ने बताया कि अवैध शराब के निर्माण, तस्करी एवं बिक्री के विरूद्ध छापेमारी की कार्रवाई अनवरत जारी रहेगी। अवैध शराब के कारोबार में संलिप्त माफियाओं की अब खैर नहीं, उन्हें किसी भी कीमत पर बख्शा नहीं जायेगा।

पढ़ें :- यूपी में अवैध शराब के तस्करों पर आबकारी विभाग की कार्रवाई जारी, अपर मुख्य सचिव ने दिए सख्त निर्देश

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...