1. हिन्दी समाचार
  2. खबरें
  3. शिया और सुन्नी वक्‍फ बोर्ड की संपत्तियों की CBI जांच करवायेगी योगी सरकार

शिया और सुन्नी वक्‍फ बोर्ड की संपत्तियों की CBI जांच करवायेगी योगी सरकार

लखनऊ। योगी सरकार ने शिया और सुन्नी वक्फ बोर्ड की संपत्तियों की जांच सीबीआई से करवाने का फैसला लिया है। यूपी के अपर मुख्य सचिव (गृह) अवनीश कुमार अवस्थी ने जानकारी देते हुए बताया कि बोर्ड की जमीनो की खरीद-फरोख्त में अनियमितता को लेकर प्रयागराज और लखनऊ में दर्ज मुकदमों को इसका आधार बनाया गया है। इसके लिए सचिव कार्मिक एवं प्रशिक्षण विभाग, कार्मिक लोक शिकायत एवं पेंशन मंत्रालय भारत सरकार और निदेशक सीबीआई को पत्र भेज दिया गया है।

उन्होने बताया कि 26 अगस्त 2016 को प्रयागराज कोतवाली में और 27 मार्च 2017 को हजरतगंज कोतवाली में दर्ज दोनो मुकदमो को लेकर इस सीबीआई जांच करवाने की सिफारिश की गयी है। आपको बता दें कि प्रयाग राज में जो एफआईआर दर्ज हुई था उसमें इमामबाड़ा गुलाम हैदर त्रिपोलिया (पुरानी जीटी रोड) पर अवैध रूप से दुकानों का निर्माण करवाये जाने की बात सामने आयी थी, लखनऊ में शिया सेंट्रल वक्फ बोर्ड के अधिकारियों पर आरोप था ​कि इन्होने 27 लाख रूपये के लिए कानपुर में वक्फ की बेशकीमती संपत्ति का पंजीकरण निरस्त किया और पत्रावली से महत्वपूर्ण कागजात भी गायब करवा दिये।

उत्तर प्रदेश में 2017 में जब योगी सरकार बनी थी तब ये दोनो मामले तूल पकड़ चुके थे, उसी समय योगी सरकार ने सीबीआई जांच करवाने की घोषणा भी कर दी थी लेकिन सरकार औपचारिकताएं नही पूरी कर पायी तो मामला ढ़ाई साल तक आगे बढ़ता चला गया। इसके बावजूद लगातार यूपी शिया सेंट्रल वक्फ बोर्ड और यूपी सुन्नी सेंट्रल वक्फ बोर्ड द्वारा गलत तरीके से तमाम जमीनों की खरीद और ट्रांसफर कराने की शिकायतें मिल रही थीं। अब जाकर योगी सरकार ने सारी औपचारिकताएं पूरी कर ली हैं और केंद्र सरकार को सिफारिश भेज दी है।

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...