1. हिन्दी समाचार
  2. दूसरे राज्यों में फंसे मजदूरों को लाएगी योगी सरकार, प्रियंका गांधी ने की थी अपील

दूसरे राज्यों में फंसे मजदूरों को लाएगी योगी सरकार, प्रियंका गांधी ने की थी अपील

Yogi Government Will Bring Laborers Trapped In Other States Priyanka Gandhi Appeals

लखनऊ। आखिरकार योगी सरकार उत्तर प्रदेश के 10 लाख मजदूरों को वापस लाने के लिए तेयार हो गयी है जो कोरोना लॉकडाउन की वजह से दूसरे राज्यों में फंसे रह गये। बता दें कि कुछ दिनो पहले विपक्ष की तरफ से कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने मजदूरों को लाने की योगी सरकार से अपील की थी। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने प्रवासी मजदूरों की वापसी के लिए अधिकारियों को रोडमैप तैयार करने को कहा है।

पढ़ें :- सीरम इंस्टीट्यूट में आग लगने से पांच लोगों की मौत, कोविड वैक्सीन सुरक्षित

सीएम योगी ने अधिकारियों को निर्देश दिया कि अलग-राज्यों के मुख्यमंत्रियों से बातचित कर इसका पूरा रोडमैप बनाकर तीन दिन में उनके समक्ष पेश किया जाए। बता दें लॉकडाउन के दौरान अभी तक पांच लाख मजदूर यूपी में आ चुके हैं। एक अनुमान के अनुसार देश के अलग-अलग राज्यों में अभी भी 10 लाख मजदूर फंसे हैं। बताया गया कि मजदूरों की घरवापसी प्रोटोकॉल के तहत होगी। इतना ही नहीं मुख्यमंत्री ने इस बात का भी ध्यान रखा है कि उन्हें घर वापसी के बाद रोजगार भी मिले। इसके लिए मुख्यमंत्री ने अधिकारियों को 15 लाख रोजगार के अवसर सृजित करने के निर्देश दिए हैं।

सीएम ने सभी अधिकारियों से कहा है कि मजदूरों की वापसी चरणबद्ध तरीके से हो। पहले उन लोगों की वापसी की जाए जो लोग अलग-अलग राज्यों में क्वारंटाइन सेंटर में 14 दिन की अवधि पूरी कर चुके हैं। उन्हें वापस लाकर उनका स्वास्थ्य परिक्षण करवाकर मेडिकल प्रोटोकॉल का पालन करते हुए भी क्वारंटाइन किया जाए। इसके बाद वे मजदूर आएंगे, जो काम धंधा बंद होने की वजह से अपनी-अपनी जगह फंसे हैं। यूपी वापसी पर भी मजदूरों का मेडिकल जांच के बाद क्वारंटाइन में रखा जाएगा।

बता दें कि प्रियंका गांधी ने कुछ दिनो पहले वीडियो के जरिए कहा था कि कई दिनों से जो उत्तर प्रदेश के प्रवासी मजदूर राजस्थान, दिल्ली, सूरत, इंदौर, भोपाल, मुंबई और अन्य प्रदेशों में फंसे हैं, उनसे मेरी बात हुई है। वह सब तो मजदूरी करने के लिए अलग-अलग शहरों में गए, लॉकडाउन हुआ मजदूरी बंद हो गई। आगे राशन भी खत्म हो गया, अब छह-छह लोग, आठ- आठ लोग एक कमरे में बंद हैं। राशन मिल नहीं रहा है। वो बहुत ही डरे हुए हैं और किसी भी तरह से घर जाना चाहते हैं। ऐसे संकट की घड़ी में हम और आप भी तो अपने परिवार के साथ रहना चाहते हैं, तो मजदूर और गरीब भी अपने परिवार के पास रहना चाहते हैं। इस दिशा में सरकार को कदम उठाना चाहिए।

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे...