1. हिन्दी समाचार
  2. 49 सरकारी विभागों को खत्म करने की तैयारी में’ योगी सरकार, बचेंगे 44 विभाग

49 सरकारी विभागों को खत्म करने की तैयारी में’ योगी सरकार, बचेंगे 44 विभाग

Yogi Government Will End 49 Government Department

By आशीष यादव 
Updated Date

लखनऊ। उत्तर प्रदेश सरकार बहुत जल्द करीब चार दर्जन सरकारी विभागों को कम करने का फैसला लेने जा रही है। विभागों के पुनर्गठन के लिए बनी समिति की सिफारिशों को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने मंजूरी दी हैं, हालाकि उन्होने इसमें कुछ संशोधन भी किए है। अब इस फैलले के बाद सरकारी विभाग 93 की जगह 44 हो जाएंगे।

पढ़ें :- फिर बढ़े पेट्रोल और डीजल के दाम, जानिए क्‍या रहे 4 महानगरों में भाव...

बता दें कि नीति आयोग ने एक समान कार्यपद्धति वाले विभागों के एकीकरण का सुझाव राज्य सरकार को दिया था। इस सुझाव के बाद सरकार ने एक कमेटी का गठन किया और इस पर विचार करने का आदेश दिया। सचिवालय स्तर पर राज्य सरकार के विभागों के पुनर्गठन के लिए वरिष्ठ आईएएस संजय अग्रवाल की अध्यक्षता में बनी कमेटी की रिपोर्ट को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बीते शुक्रवार को संस्तुति दे दी थी। इस इस समिति की रिपोर्ट का सचिवालय प्रशासन विभाग निरीक्षण कर रहा है। जिसके बाद इसके कैबिनेट के सामने रखने का प्रस्ताव भी तैयार किया जा रहा है। प्रस्ताव तैयार करने से पूर्व वित्त, न्याय, कार्मिक जैसे विभागों की संस्तुति की जानी है।

बताया जा रहा है कि एक समान कार्यपद्धति वाले विभागों को मिलाकर एक करने की सिफारिश है। जैसे. लघु सिंचाई एवं भूगर्भ जल और परती भूमि विकास को मिलाकर एक करना। पशुधन, मत्स्य व दुग्ध विकास का विलय। ग्राम्य विकास, समग्र ग्राम्य विकास, ग्रामीण अभियंत्रण सेवा तथा पंचायती राज का विलय। सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्योग तथा निर्यात प्रोत्साहन, खादी एवं ग्रामोद्योग, हथकरघा एवं वस्त्रोद्योग को एक साथ किया जाना। अवस्थापना एवं औद्योगिक विकास, निजी पूंजी निवेश, एनआरआई तथा मुद्रण एवं लेखन सामग्री विभाग का विलय। आईटी एवं इलेक्ट्रानिक्स और विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विभाग का एक किया जाना। राज्य संपत्ति, नागरिक उड्डयन और प्रोटोकॉल का विलय। नगर विकास, नगरीय रोजगार एवं गरीबी उन्मूलन तथा आवास एवं शहरी नियोजन का एकीकरण। व्यवसायिक शिक्षा एवं कौशल विकास, उच्च शिक्षा, प्राविधिक शिक्षा तथा सेवायोजन का विलय। पर्यटन, संस्कृति, भाषा और धर्मार्थ कार्य को मिलाकर एक विभाग बढनाने का फैसला सरकार ले सकती है।
’’
बताया जा रहा है कि समिति ने समान कार्य पद्धति वाले विभागों के विलय की सिफारिश की है। बताया जाता है कि शासन स्तर पर आयुक्त के 6 पद प्रस्तावित किए गए हैं। वर्तमान में आयुक्त के 3 पद ही हैं। सिफारिश लागू होने पर शासन स्तर पर शिक्षा आयुक्त, स्वास्थ्य आयुक्त और राज्य संसाधन आयुक्त के 3 पद बढ़ जाएंगे।

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे...