योगी सरकार का रिहा हुए कैदियों को तोहफा, बढ़ाई गई पैरोल सीमा

yogi
योगी सरकार का रिहा हुए कैदियों को तोहफा, बढ़ाई गई पैरोल सीमा

लखनऊ. कोरोना वायरस की वजह से पिछले दो महीनो से लॉकडाउन चल रहा है, इस दौरान यूपी की योगी सरकार ने कैदियों को कुछ ह्फ्ते के लिए पैरोल पर रिहा किया था, अब पैरोल समाप्त होने वाली थी लेकिन योगी आदित्यनाथ सरकार ने सोमवार को कैदियों को बड़ी राहत दी है. योगी सरकार ने प्रदेश के सभी जेलों से रिहा किए 2234 सिद्ध दोष बंदियों की पैरोल सीमा 8 सप्ताह के लिए और बढ़ा दी है. यूपी के अपर मुख्य सचिव, गृह अवनीश कुमार अवस्थी ने डीजी जेल को आदेश जारी किया है और बताया कि सुप्रीम कोर्ट के निर्देश पर जेल में बंद कैदियों को रिहा किया गया था. इसी कड़ी में सरकार ने 2234 कैदियों की पैरोल सीमा 8 सप्ताह के लिए और बढ़ा दी गई है.

Yogi Governments Gift To Released Prisoners Increased Parole Limit :

बता दें कि योगी सरकार ने भीड़भाड़ कम करने के मकसद से यह कदम उठाया है, ताकि कोरोना वायरस उत्तर प्रदेश की जेलों में न फैले. आपको बताते चलें कि यूपी की 71 जेलों में 1.1 लाख कैदी फिलहाल बंद है. इससे पहले डीजी जेल आनंद कुमार ने बताया कि प्रभावी रूप से 11 हजार बंदियों को छोड़े जाने की प्रक्रिया शुरू कर दी गई थी.

गौरतलब हे कि जेलों में कोरोना संक्रमण के चलते सुप्रीम कोर्ट में दाखिल एक रिट याचिका का सुप्रीम कोर्ट ने 23 मार्च को स्वतः संज्ञान लिया था और जेलों में भीड़-भाड़ कम करने के लिए सुप्रीम कोर्ट ने सभी राज्यों को एक कमेटी बनाकर 7 साल से कम सजा वाले कैदियों, बंदियों को ज़मानत और पैरोल पर छोड़ने के निर्देश दिए थे.

लखनऊ. कोरोना वायरस की वजह से पिछले दो महीनो से लॉकडाउन चल रहा है, इस दौरान यूपी की योगी सरकार ने कैदियों को कुछ ह्फ्ते के लिए पैरोल पर रिहा किया था, अब पैरोल समाप्त होने वाली थी लेकिन योगी आदित्यनाथ सरकार ने सोमवार को कैदियों को बड़ी राहत दी है. योगी सरकार ने प्रदेश के सभी जेलों से रिहा किए 2234 सिद्ध दोष बंदियों की पैरोल सीमा 8 सप्ताह के लिए और बढ़ा दी है. यूपी के अपर मुख्य सचिव, गृह अवनीश कुमार अवस्थी ने डीजी जेल को आदेश जारी किया है और बताया कि सुप्रीम कोर्ट के निर्देश पर जेल में बंद कैदियों को रिहा किया गया था. इसी कड़ी में सरकार ने 2234 कैदियों की पैरोल सीमा 8 सप्ताह के लिए और बढ़ा दी गई है. बता दें कि योगी सरकार ने भीड़भाड़ कम करने के मकसद से यह कदम उठाया है, ताकि कोरोना वायरस उत्तर प्रदेश की जेलों में न फैले. आपको बताते चलें कि यूपी की 71 जेलों में 1.1 लाख कैदी फिलहाल बंद है. इससे पहले डीजी जेल आनंद कुमार ने बताया कि प्रभावी रूप से 11 हजार बंदियों को छोड़े जाने की प्रक्रिया शुरू कर दी गई थी. गौरतलब हे कि जेलों में कोरोना संक्रमण के चलते सुप्रीम कोर्ट में दाखिल एक रिट याचिका का सुप्रीम कोर्ट ने 23 मार्च को स्वतः संज्ञान लिया था और जेलों में भीड़-भाड़ कम करने के लिए सुप्रीम कोर्ट ने सभी राज्यों को एक कमेटी बनाकर 7 साल से कम सजा वाले कैदियों, बंदियों को ज़मानत और पैरोल पर छोड़ने के निर्देश दिए थे.