1. हिन्दी समाचार
  2. उत्तर प्रदेश
  3. योगी जी आवाज उठाना और आंदोलन करना जनता का एक संवैधानिक अधिकार : प्रियंका गांधी वाड्रा

योगी जी आवाज उठाना और आंदोलन करना जनता का एक संवैधानिक अधिकार : प्रियंका गांधी वाड्रा

यूपी कांग्रेस की प्रभारी व राष्ट्रीय महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने ट्वीट कर कहा कि इस देश में अपनी आवाज उठाना, प्रदर्शन करना और अपनी मांगों के लिए आंदोलन करना एक संवैधानिक अधिकार है। जायज मांगों के लिए आवाज उठाने वालों को डराने और धमकाने के लिए सत्ता का दुरुपयोग करना एक घोर अपराध है।

By संतोष सिंह 
Updated Date

Yogi Ji Raising Voice And Agitation Is A Constitutional Right Of The People Priyanka Gandhi Vadra

नई दिल्ली। यूपी कांग्रेस की प्रभारी व राष्ट्रीय महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने ट्वीट कर कहा कि इस देश में अपनी आवाज उठाना, प्रदर्शन करना और अपनी मांगों के लिए आंदोलन करना एक संवैधानिक अधिकार है। जायज मांगों के लिए आवाज उठाने वालों को डराने और धमकाने के लिए सत्ता का दुरुपयोग करना एक घोर अपराध है। प्रियंका गांधी वाड्रा ने कहा कि जिस “प्रॉपर्टी” पर योगी जी बैठे हैं, वह उनकी नहीं…देश की जनता की है। .. याद रखें कि वह “प्रॉपर्टी” भी एक दिन जनता ज़ब्त कर सकती है ।

पढ़ें :- Tokyo Olympic: भारत का खुला खाता, मीराबाई चानू ने वेटलिफ्टिंग में देश को दिलाया पहला पदक

पढ़ें :- Guru Purnima : देश के शिक्षकों को पीएम मोदी ने किया नमन, बोले- जहां ज्ञान, वहीं है पूर्णता

बता दें कि यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने गुरुवार को ट्वीट कर प्रदेश के युवाओं को किसी के बहकावे में न आने की अपील की थी। अपील के साथ-साथ सीएम योगी ने युवाओं को चेतावनी भी दी थी। योगी आदित्यनाथ ने अपने आधिकारिक ट्विटर हैंडल से ट्वीट करते हुए लिखा कि, ‘प्रदेश के युवाओं से मेरी अपील है कि वह किसी के बहकावे में न आयें। आज कोई गलत नहीं कर सकता है। जिसको अपनी प्रॉपर्टी जब्त करवानी हो, वह गलत कार्य करें।

सीएम योगी के ट्वीट पर युवा कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष श्रीनिवास ने अपनी प्रतिक्रिया देते हुए लिखा कि ‘यह एक मुख्यमंत्री की भाषा है या किसी सड़क छाप लफंगे की?’

सेवानिवृत्त आईएएस अधिकारी सूर्य प्रताप सिंह ने उनके इस ट्वीट पर अपनी प्रतिक्रिया देते हुए धरना प्रदर्शन कर रहे छात्रों को पीट रही पुलिस का एक वीडियो भी शेयर किया। इसके साथ ही उन्होंने लिखा कि ये है आपका असली चेहरा। बुरी तरह पीटे जाने के बाद इस छात्र के चेहरे की मायूसी और दर्द हर गरीब परिवार का बेटा महसूस कर सकता है। अब क्या पुलिस निर्धारित करेगी युवाओं का भविष्य? मुख्यमंत्री जी, उंगलियों पर गिनिए अपने बचे हुए दिन।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...