1. हिन्दी समाचार
  2. उत्तर प्रदेश
  3. विपक्ष एकजुट होकर भी नहीं कर सकता भाजपा का मुकाबला : डॉ. दिनेश शर्मा 

विपक्ष एकजुट होकर भी नहीं कर सकता भाजपा का मुकाबला : डॉ. दिनेश शर्मा 

कौशलेंद्र विक्रम सिंह महाविद्यालय की हीरक जयंती के अवसर पर आयोजित विशाल सम्मेलन एवं उसके बाद पयागपुर में आयोजित विराट प्रबुद्ध जनसभा में उपमुख्यमंत्री डा दिनेश शर्मा ने कहा कि भगवान राम का नाम बदनाम करने वाले भी आज  प्रभु राम की शरण में जाने को मजबूर हैं।

By संतोष सिंह 
Updated Date

 बहराइच : कौशलेंद्र विक्रम सिंह महाविद्यालय की हीरक जयंती के अवसर पर आयोजित विशाल सम्मेलन एवं उसके बाद पयागपुर में आयोजित विराट प्रबुद्ध जनसभा में उपमुख्यमंत्री डा दिनेश शर्मा ने कहा कि भगवान राम का नाम बदनाम करने वाले भी आज  प्रभु राम की शरण में जाने को मजबूर हैं।

पढ़ें :- डबल इंजन की सरकार ने  विकास के डबल डोज से प्रदेश को बदला : Dinesh Sharma

यह देश में आए बडे बदलाव का प्रतीक है। उन्होंने कहा कि एक समय वह भी था जब राम लला   हम आएंगे मंदिर वहीं बनाएंगे का नारा लगाने वाले राम भक्तों पर तत्कालीन सरकारों ने लाठी गोली  भी चलवा दी थी।  तब प्रभु श्रीराम के नाम को बदनाम किया गया। राम का नाम लेने वालों को साम्प्रदायिक तक कहा गया। राम के जन्म स्थान पर मंदिर निर्माण को लेकर भी तमाम तरह की बाते कही गईं  पर आज वहीं लोग बडा टीका लगाकर प्रभु श्रीराम के दरबार में दर्शन कर अपने कल्याण की कामना  कर रहे हैं।

डॉ. शर्मा आज बइराइच के कौशलेन्द्र विक्रम सिंह इंटर कालेज की हीरक जयंती  के अवसर पर आयोजित विशाल सम्मेलन एवं बहराइच नवीन मंडी में आयोजित भाजपा प्रबुद्ध वर्ग की विराट जनसभा तथा पत्रकार वार्ता को सम्बोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि विपक्ष आज विकास के मुद्दे पर भाजपा का सामना करने के काबिल नहीं है। भाजपा का मुकाबला करने के लिए हैदराबाद के भाई जान को भी बुलाया जा रहा है। बंगाल और महाराष्ट्र से भी नेता बुलाए जा रहे हैं। ये सभी दल भले ही मिल क्यों नहीं जाए पर भाजपा का मुकाबला नहीं कर सकते हैं।

जनता जानती है कि प्रदेश के स्वरूप को बदलने का काम किसने किया है।  पिछले साढे चार साल में एक भी दंगा प्रदेश में नहीं हुआ है। दीन दयाल जी के एकात्म मानववाद को सबका साथ सबका विकास के साथ प्रधानमंत्री और मुख्यमंत्री ने पूरा किया है। आज प्रदेश प्रगति की राह पर तेजी से आगे बढ रहा है। यह प्रदेश अब जातिवाद , सम्प्रदायवाद , भ्रष्टाचारवाद  के आधार पर नहीं बल्कि विकासवाद के आधार पर चलेगा।  पिछले साढे चार साल में  मुख्यमंत्री के नेतृत्व में प्रगति की जो गाथा लिखी गई है उसका परिणाम है कि आज  यूपी देश की दूसरी सबसे बडी अर्थव्यवस्था बन गया है। 2017 में जो अर्थ व्यवस्था 11 लाख करोड की थी वह आज 22 लाख करोड की हो गई है। अपराध के लिए जाना जाने वाला यूपी आज पंूजी निवेश के लिए जाना जा रहा है।

कोरोना जैसे संक्रमण काल में भी प्रदेश में 56 हजार करोड का निवेश आया है। प्रदेश में 3 लाख करोड के निवेश की योजनाए क्रियाशील हो रही हैं। आजादी के बाद यह पहली ऐसी सरकार है जिसने साढे चार साल में साढे चार लाख नौकरियां दी है। एक भी नौकरी विवादित नहीं है। सरकार का लक्ष्य प्रदेश में बेरोजगारी को पूरी तरह से समाप्त करने का है। वर्तमान सरकार के कार्यकाल में कई प्रकार की योजनाओं से करोडों प्रत्यक्ष एवं अप्रत्यक्ष रोजगार सृजित हुए हैं।

पढ़ें :- योगी सरकार प्रोफेसर पद पर प्रोन्नति की कट ऑफ डेट जल्द निर्धारित करे : Luacta

डिप्टी सीएम ने कहा कि कोरोना संक्रमण काल में   मुख्यमंत्री ने लोगों की सुरक्षा व  सेवा को  सबसे बडा धर्म माना और अपने पिता के अन्तिम संस्कार में भी नहीं गए।  वे उस समय में लोगों तक दवा और अन्य सुविधा पहुचाने की व्यवस्था में लगे रहे। प्रदेश का सौभाग्य है कि उसे इस प्रकार का परिश्रमी मुख्यमंत्री मिला है। दूसरी तरफ ऐसे विपक्ष के ऐसे नेता थे जो आज  तो तिरंगा यात्रा , साइकिल यात्रा अथवा जातीय सम्मेलन कर रहे हैं पर उस समय में बिल में छिपे बैठे थे।  यह ट्विटर का खेल खेल रहे थे पर अपने क्षेत्र की जनता का दर्द जानने नहीं गए।

इसके विपरीत भाजपा के कार्यकर्ता नेता और मुख्यमंत्री मंत्री सभी जनता की सेवा में लगे थे। मुख्यमंत्री को भी कोरोना हुआ पर वे तब भी आराम करने  नहीं गए बल्कि वर्चुअल बैठक के जरिए व्यवस्थाओं  के लिए निर्देश देते रहे।  यह अन्तर है विपक्ष और भाजपा में । उन्होंने कहा कि कांग्रेस के प्रधानमंत्री कहते थे कि वे किसान के लिए 100 रुपए भेजते हैं तो मात्र 15 रुपए ही वहां तक पहुचते हैं। इसके विपरीत आज प्रधानमंत्री ने ऐसी व्यवस्था की है कि आज एक क्लिक मात्र पर पूरा का पूरा पैसा लाभार्थी के खाते में पहुच जाता है। यह बदलाव है जो 2014 के बाद आया है। डा शर्मा ने कहा कि  पिछली सरकारों की उपेक्षा के चलते   महिलाएं धुए में खाना बनाने को मजबूर थी । यह धुअंा उनके स्वास्थ्य पर प्रतिकूल प्रभाव भी डाल रहा था। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और सीएम योगी आदित्यनाथ ने महिलाओं की इस समस्या को समझा और इसके निराकरण के लिए फ्री में गैस का कनेक्शन उपलब्ध कराने का काम किया है। प्रदेश में उज्जवला योजना के तहत  1 करोड 67 लाख फ्री गैस कनेक्शन दिए गए हैं।

पिछली सरकारों द्वारा जनता की उपेक्षा का आलम  तो यह था कि माताओं और बहनों को नित्यकर्म से निवृत होने के लिए भी रात के अंधेरे का इंतजार करना पडता था। प्रधानमंत्री ने महिलाओं के सम्मान और गरिमा की सुरक्षा के लिए  हर घर में शौचालय बनवाने का काम किया है। सरकार ने महिलाओं के सशक्तीकरण और सम्मान के लिए हर संभव कदम उठाए हैं। महिलाओं के जनधन खातों में 1500 रुपए , किसान के खाते में सम्मान निधि , श्रमिकों के खाते में 1000 रुपए की मदद, 15 करोड लोगों को फ्री में राशन  यह सब काम योगी सरकार ने किए हैं। यह भाजपा की सरकार में बदला उत्तर प्रदेश है जिसमें जनता को किसी भी प्रकार की परेशानी नहीं होने दी जा रही है।

उन्होंने कहा कि आज प्रदेश की शिक्षा व्यवस्था की पूरी तस्वीर ही बदल गई है। राज्य की शिक्षा व्यवस्था एक माडल बन गई है। नकलविहीन परीक्षा ने शिक्षा  व्यवस्था की गरिमा को लौटाने का काम किया है। प्रदेश की शिक्षा व्यवस्था सुखी मन शिक्षक , तनावमुक्त विद्यार्थी , नकलविहीन परीक्षा तथा गुणवत्तायुक्त शिक्षा के आधार पर आगे बढ रही है। नोयडा  आईटी हब बनने की और अग्रसर है। देश में बनने वाले 100 मोबाइल में से 70 मोबाइल प्रदेश में  बन रहे हैं। देश का सबसे बढा डाटा सेन्टर यूपी में बना  है। शिक्षा विभाग के अधिकारियों के साथ बैठक में उन्होंने अंक सुधार के लिए आयोजित हो रही यूपी बोर्ड की  परीक्षाओं को नकलविहीन सम्पादित कराने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि संस्कृत विद्यालयों के लिए शिक्षकों के पद स्थापन का कार्य शीघ्र पूरा करें शिक्षा में माध्यमिक व उच्च शिक्षा में प्रोन्नत किए गए विद्यार्थियों का प्रवेश सुनिश्चित कराएं।

कार्यक्रमों को क्षेत्रीय सांसद  बृजभूषण शरण सिंह , सांसद  अक्षयबर लाल, विधायक  सुभाष त्रिपाठी , सुरेश्वर सिंह , अनुपमा जयसवाल ,राजा जयेंद्र विक्रम सिंह, जिला अध्यक्ष श्याम करण टेकरीवाल, जिला पंचायत अध्यक्ष,  मंजू सिंह निशंक त्रिपाठी, राजा राकेश प्रताप सिंह आदि ने भी संबोधित किया।

पढ़ें :- पिछली सरकारों में अपराधियों के हौसले रहते थे बुलंद: डॉ. दिनेश शर्मा

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...