हर महीने करें ये काम, PF का पैसा हो जायेगा दोगुना

214833-miss-call-for-pf-balance

हर प्राइवेट नौकरी करने वाले ब्यक्ति के लिए  रिटायरमेंट के बाद ईपीएफ ही उसकी सबसे बड़ी पूंजी होती है। ऐसे में यदि आप अपना ईपीएफ का स्‍ट्रक्‍चर बदलना चाहते हैं तो, अप्रैल में आपके पास एक शानदार मौका है। आप चाहे तो कंपनी से अपने पीएफ कंट्रीब्‍यूशन बढ़ाने की रिक्‍वेस्‍ट कर सकते हैं। इस रिक्‍वेस्‍ट को यदि कंपनी मान लेती है तो, आपके पीएफ अकाउंट में प्रत्येक महीने जाने वाला कंट्रीब्‍यूशन बढ़ जाएगा, जिससे रिटायरमेंट के बाद आपको इसका दोगुना फायदा मिलेगा।

You Can Double Your Pf By Newsepfo Rule :

क्या है मंथली कंट्रीब्‍यूशन बढ़ाने का नियम

कर्मचारी भविष्य निधि संगठन (ईपीएफओ) अब एक ऐसे नियम की शरुआत किया है। जिससे ईपीएफओ का कोई भी मेंबर अपने पीएफ अकाउंट में मंथली कंट्रीब्‍यूशन बढाकर रिटायरमेंट के बाद खुशहाल जिंदगी जी सकते हैं। मालूम हो कि, एक प्राइवेट नौकरी करने वाले व्यक्ति के मंथली सैलरी से हर महीने पीएफ में बेसिक सैलरी और डीए का 12 फीसदी कर्मचारी का कंट्रीब्‍यूशन जाता है। जबकि 12 फीसदी के तरफ कंट्रीब्‍यूशन किया जाता है।

क्या है ईपीएफओ

ईपीएफओ एक ऐसी योजना है, जिसे रिटायरमेंट बेनिफिट पहुंचाने के लिए और बेहतर तरीके से बचत कराने के लिए बनाया गया है। जिसमें आम जमा योजनाओं से बेहतर ब्याज मिलता है। इसके अलावा इसपर इनकम टैक्स की तरफ से छूट भी मिलती है। इस योजना में आपका एम्प्लायर भी अपना योगदान करता है और आपकी सैलेरी में से भी योगदान काटा जाता है। रिटायरमेंट के समय ब्याज सहित एक मुश्त राशि आपको मिल जाती है।

हर प्राइवेट नौकरी करने वाले ब्यक्ति के लिए  रिटायरमेंट के बाद ईपीएफ ही उसकी सबसे बड़ी पूंजी होती है। ऐसे में यदि आप अपना ईपीएफ का स्‍ट्रक्‍चर बदलना चाहते हैं तो, अप्रैल में आपके पास एक शानदार मौका है। आप चाहे तो कंपनी से अपने पीएफ कंट्रीब्‍यूशन बढ़ाने की रिक्‍वेस्‍ट कर सकते हैं। इस रिक्‍वेस्‍ट को यदि कंपनी मान लेती है तो, आपके पीएफ अकाउंट में प्रत्येक महीने जाने वाला कंट्रीब्‍यूशन बढ़ जाएगा, जिससे रिटायरमेंट के बाद आपको इसका दोगुना फायदा मिलेगा।

क्या है मंथली कंट्रीब्‍यूशन बढ़ाने का नियम

कर्मचारी भविष्य निधि संगठन (ईपीएफओ) अब एक ऐसे नियम की शरुआत किया है। जिससे ईपीएफओ का कोई भी मेंबर अपने पीएफ अकाउंट में मंथली कंट्रीब्‍यूशन बढाकर रिटायरमेंट के बाद खुशहाल जिंदगी जी सकते हैं। मालूम हो कि, एक प्राइवेट नौकरी करने वाले व्यक्ति के मंथली सैलरी से हर महीने पीएफ में बेसिक सैलरी और डीए का 12 फीसदी कर्मचारी का कंट्रीब्‍यूशन जाता है। जबकि 12 फीसदी के तरफ कंट्रीब्‍यूशन किया जाता है।

क्या है ईपीएफओ

ईपीएफओ एक ऐसी योजना है, जिसे रिटायरमेंट बेनिफिट पहुंचाने के लिए और बेहतर तरीके से बचत कराने के लिए बनाया गया है। जिसमें आम जमा योजनाओं से बेहतर ब्याज मिलता है। इसके अलावा इसपर इनकम टैक्स की तरफ से छूट भी मिलती है। इस योजना में आपका एम्प्लायर भी अपना योगदान करता है और आपकी सैलेरी में से भी योगदान काटा जाता है। रिटायरमेंट के समय ब्याज सहित एक मुश्त राशि आपको मिल जाती है।