सरहदों में फंसी मोहब्बत

जोधपुर: भारत और पाकिस्तान के बीच बढ़ते तनाव के चलते सीमा पार से होने वाली एक शादी फंस गई है। हालांकि विदेशमंत्री सुषमा स्वराज ने ट्वीट करके भरोसा दिया है कि दुल्हन के परिवार को वीजा दे दिया जाएगा। जोधपुर निवासी नरेश तेवाणी और कराची की प्रिया बच्चाणी अब से ठीक एक महीने बाद शादी के बंधन में बंधने की योजना बना रहे हैं, लेकिन उन्हें अब चिंता सता रही है, क्योंकि पाकिस्तान में भारतीय दूतावास ने दुल्हन के परिवार और रिश्तेदारों को वीजा जारी नहीं किया है।




दूल्हे के मुताबिक, नियत समय और प्रारूप में वीजा के लिए आवेदन करने के बावजूद दुल्हन की तरफ से अब तक किसी को भी दस्तावेज जारी नहीं किए गए हैं। कोई प्रगति न देख तेवाणी ने ट्विटर पर विदेश मंत्री सुषमा स्वराज से मदद की गुहार लगाई। इस पर सुषमा स्वराज ने उन्हें भरोसा दिलाया कि शादी के लिए लड़की वालों को भारत का वीजा मिल जाएगा।

तेवाणी का कहना है कि दुल्हन के परिवार ने करीब तीन महीने पहले वीजा के लिए आवेदन किया था। हम मान रहे थे कि दस्तावेज वक्त पर जारी कर दिए जाएंगे। दूल्हे के परिवार ने कहा कि शादी की तैयारियां रुक गईं हैं क्योंकि उनकी सारी कोशिशें इसपर लगी हैं कि किसी तरह से दुल्हन के परिवार को दस्तावेज मिल जाए।

दुल्हे के पिता कन्हैया लाल ने कहा कि प्रिया का परिवार कराची में अपने समुदाय के निर्वाचित सदस्यों के लगातार संपर्क में है, लेकिन अब तक कुछ भी आशाप्रद नहीं हुआ है। उन्होंने कहा कि उन्होंने 2001 में पाकिस्तान की यात्रा की थी तब से उनकी तमन्ना थी उनके बेटे की दुल्हन पाकिस्तानी हो। इसकी वजह दोनों देशों की संस्कृति और परंपरा का समान होना है, लेकिन इन परिस्थितियों में उनके ख्याल से इस ख्वाब को साकार होने में लंबा वक्त लग सकता है।