नेपाल में अपनी ही सरकार के खिलाफ सड़क पर उतरे युवा,रुपनदेही में प्रदर्शन

IMG-20200612-WA0028

महराजगंज । सोनौली बार्डर से सटे नेपाल के रुपन्‍देही, भैरहवा सहित कई स्‍थानों पर युवाओं ने प्रदर्शन किया। कोरोना संक्रमण से बचाव में अपनी ही सरकार पर लापरवाही का आरोप लगाते हुए नागरिकों ने काठमांडू, पोखरा और चितवन में भी प्रदर्शन किए। प्रदर्शनकारी नेपाल सरकार पर कोरोना से बचाव में लापरवाही, सर्जिकल सामानों की खरीद में गड़बड़ी सहित विदेशी अनुदान में धांधली का आरोप लगा रहे थे।

Youth Rupanadehi Protest On The Road Against Their Own Government In Nepal :

सीमा से सटे रूपनदेही के बुटवल, भैरहवा, मणिग्राम, लुम्बनी सहित तमाम जगहों पर युवाओं ने बिना किसी राजनीतिक दल के बैनर सरकार की कमजोर नीति और कोरोना नियंत्रण की तैयारी के खिलाफ विरोध प्रदर्शन किया है। सोशल मीडिया पर आंदोलन में भाग लेने का आह्वान करने वाले युवाओं ने विभिन्न नारों के साथ तख्तियां पर सरकार की कमियों को लिखकर विरोध जताया।

इनका कहना रहा कि नेपाल सरकार कोविड को नियंत्रित करने मे विफल रही है। क्वारंटीन, स्वास्थ परीक्षण, कोरेना से निपटने के लिए अस्पतालों में संसाधन नहीं हैं। इन लोगों ने बताया कि बीते बुधवार से आंदोलन शुरू हुआ था, जो शुक्रवार को समाप्त हो गया है। अगर इसके बाद भी सरकार गंभीर नहीं हुई तो जल्द एक बड़ा आंदोलन शुरू किया जाएगा।

महराजगंज । सोनौली बार्डर से सटे नेपाल के रुपन्‍देही, भैरहवा सहित कई स्‍थानों पर युवाओं ने प्रदर्शन किया। कोरोना संक्रमण से बचाव में अपनी ही सरकार पर लापरवाही का आरोप लगाते हुए नागरिकों ने काठमांडू, पोखरा और चितवन में भी प्रदर्शन किए। प्रदर्शनकारी नेपाल सरकार पर कोरोना से बचाव में लापरवाही, सर्जिकल सामानों की खरीद में गड़बड़ी सहित विदेशी अनुदान में धांधली का आरोप लगा रहे थे। सीमा से सटे रूपनदेही के बुटवल, भैरहवा, मणिग्राम, लुम्बनी सहित तमाम जगहों पर युवाओं ने बिना किसी राजनीतिक दल के बैनर सरकार की कमजोर नीति और कोरोना नियंत्रण की तैयारी के खिलाफ विरोध प्रदर्शन किया है। सोशल मीडिया पर आंदोलन में भाग लेने का आह्वान करने वाले युवाओं ने विभिन्न नारों के साथ तख्तियां पर सरकार की कमियों को लिखकर विरोध जताया। इनका कहना रहा कि नेपाल सरकार कोविड को नियंत्रित करने मे विफल रही है। क्वारंटीन, स्वास्थ परीक्षण, कोरेना से निपटने के लिए अस्पतालों में संसाधन नहीं हैं। इन लोगों ने बताया कि बीते बुधवार से आंदोलन शुरू हुआ था, जो शुक्रवार को समाप्त हो गया है। अगर इसके बाद भी सरकार गंभीर नहीं हुई तो जल्द एक बड़ा आंदोलन शुरू किया जाएगा।