जायरा वसीम ने कश्‍मीर के हालात पर तोड़ी चुप्‍पी, कहा – फैलाया जा रहा है शांति का झूठ

zaira
जायरा वसीम ने कश्‍मीर के हालात पर तोड़ी चुप्‍पी, कहा - फैलाया जा रहा है शांति का झूठ

नई दिल्ली। फिल्म इंडस्ट्री को अलविदा कह चुकीं कश्मीरी एक्ट्रेस जायरा वसीम ने कश्मीर के हालात को लेकर सोशल मीडिया पर एक पोस्ट लिखा है।  उन्होंने एक सोशल मीडिया पोस्ट में लिखा, “कश्मीर लगातार परेशान हो रहा है और उम्मीद व झल्लाहट के बीच झूल रहा है। लगातार बढ़ते भेदभाव वाली इस जगह पर शांति का झूठा और असहज दिखावा किया जा रहा है। कश्मीरी लगातार एक ऐसी दुनिया में रहने और परेशान होने के लिए मजबूर हैं जहां उनकी आजादी पर पाबंदियां लगाना बहुत आसान बात है।”

Zaira Wasim Broke The Situation In Kashmir Said The Lie Of Peace Is Being Spread :

उन्होंने अपने पोस्ट में लिखा, “कश्मीरी लगातार उम्मीद और फ्रस्ट्रेशन के बीच जूझ रहे हैं. निराशा और दुःख के स्थान पर शांति का एक झूठ फैलाया जा रहा है। कश्मीरियों की आजादी पर कोई भी पाबंदी लगा सकता है. हमें ऐसे हालात में क्यों रखा जा रहा है जहां हम पर पाबंदियां हैं और हमें डिक्टेट किया जा रहा है।”

उन्होंने पूछा, “हमारी आवाज को दबा देना इतना आसान क्यों हैं? हमारी अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता पर पाबंदी लगाना इतना आसान क्यों है? हमें अपनी बात कहने और विचार रखने की आजादी क्यों नहीं है? हमारे विचारों को सुने बिना ही उन्हें बुरी तरह खारिज कर दिया जा रहा है। हम बिना किसी डर और चिंता के आम लोगों की तरह क्यों नहीं जी सकते?”

 

View this post on Instagram

 

A post shared by Zaira Wasim (@zairawasim_) on

साथ ही जायरा ने बताया कि किस तरह कश्मीरियों को मुश्किलों का सामना करना पड़ाता है। उन्होंने लिखा, “क्यों किसी भी कश्मीरी की जिंदगी उम्र भर मुश्किलों, पाबंदियों और परेशानियों में गुजरती है, इसे इतना आम क्यों बना दिया गया है? ऐसे हजारों सवाल हमारे जहन में उठते हैं। सरकारें हमारे इन सवालों के जवाब तो दूर इन्हें सुनना भी नहीं चाहती. हमारी शंकाओं और अटकलों पर विराम लगाने की थोड़ी सी भी कोशिश नहीं करती।”

इस दौरान जायरा ने मीडिया की भूमिका पर सवाल उठाए और लोगों को कश्मीर के हालात पर सवाल पूछने के लिए कहा। उन्होंने लिखा, “मैं इस दुनिया से पूछना ताहती हूं, दुख और उत्पीड़न की आपकी स्वीकार्यता में क्या बदलाव आया है? मीडिया ने जो यहां के हालात के बारे एक धुंधली तस्वीर बताई है, उस पर यकीन न करें, सवाल पूछें, हमारी आवाज़ों को चुप करा दिया गया है-और कब तक…हममें से कोई भी वास्तव में नहीं जानता है!” आपको बता दें कि 10 दिसबंर को कश्मीर से धारा 370 को हटा लिया गया था। तभी से कश्मीर में कई तरह की पाबंदियां लगाई गई हैं।

नई दिल्ली। फिल्म इंडस्ट्री को अलविदा कह चुकीं कश्मीरी एक्ट्रेस जायरा वसीम ने कश्मीर के हालात को लेकर सोशल मीडिया पर एक पोस्ट लिखा है।  उन्होंने एक सोशल मीडिया पोस्ट में लिखा, "कश्मीर लगातार परेशान हो रहा है और उम्मीद व झल्लाहट के बीच झूल रहा है। लगातार बढ़ते भेदभाव वाली इस जगह पर शांति का झूठा और असहज दिखावा किया जा रहा है। कश्मीरी लगातार एक ऐसी दुनिया में रहने और परेशान होने के लिए मजबूर हैं जहां उनकी आजादी पर पाबंदियां लगाना बहुत आसान बात है।" उन्होंने अपने पोस्ट में लिखा, "कश्मीरी लगातार उम्मीद और फ्रस्ट्रेशन के बीच जूझ रहे हैं. निराशा और दुःख के स्थान पर शांति का एक झूठ फैलाया जा रहा है। कश्मीरियों की आजादी पर कोई भी पाबंदी लगा सकता है. हमें ऐसे हालात में क्यों रखा जा रहा है जहां हम पर पाबंदियां हैं और हमें डिक्टेट किया जा रहा है।" उन्होंने पूछा, "हमारी आवाज को दबा देना इतना आसान क्यों हैं? हमारी अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता पर पाबंदी लगाना इतना आसान क्यों है? हमें अपनी बात कहने और विचार रखने की आजादी क्यों नहीं है? हमारे विचारों को सुने बिना ही उन्हें बुरी तरह खारिज कर दिया जा रहा है। हम बिना किसी डर और चिंता के आम लोगों की तरह क्यों नहीं जी सकते?"
 
View this post on Instagram
 

A post shared by Zaira Wasim (@zairawasim_) on

साथ ही जायरा ने बताया कि किस तरह कश्मीरियों को मुश्किलों का सामना करना पड़ाता है। उन्होंने लिखा, "क्यों किसी भी कश्मीरी की जिंदगी उम्र भर मुश्किलों, पाबंदियों और परेशानियों में गुजरती है, इसे इतना आम क्यों बना दिया गया है? ऐसे हजारों सवाल हमारे जहन में उठते हैं। सरकारें हमारे इन सवालों के जवाब तो दूर इन्हें सुनना भी नहीं चाहती. हमारी शंकाओं और अटकलों पर विराम लगाने की थोड़ी सी भी कोशिश नहीं करती।" इस दौरान जायरा ने मीडिया की भूमिका पर सवाल उठाए और लोगों को कश्मीर के हालात पर सवाल पूछने के लिए कहा। उन्होंने लिखा, "मैं इस दुनिया से पूछना ताहती हूं, दुख और उत्पीड़न की आपकी स्वीकार्यता में क्या बदलाव आया है? मीडिया ने जो यहां के हालात के बारे एक धुंधली तस्वीर बताई है, उस पर यकीन न करें, सवाल पूछें, हमारी आवाज़ों को चुप करा दिया गया है-और कब तक...हममें से कोई भी वास्तव में नहीं जानता है!" आपको बता दें कि 10 दिसबंर को कश्मीर से धारा 370 को हटा लिया गया था। तभी से कश्मीर में कई तरह की पाबंदियां लगाई गई हैं।