1. हिन्दी समाचार
  2. उत्तर प्रदेश
  3. गाजीपुर में साथ गरजे अखिलेश और ओमप्रकाश, कहा- चिलमजीवियों की सरकार में बढ़ी महंगाई और बेरोजगारी

गाजीपुर में साथ गरजे अखिलेश और ओमप्रकाश, कहा- चिलमजीवियों की सरकार में बढ़ी महंगाई और बेरोजगारी

कल अखिलेश यादव व ओमप्रकाश राजभर की संयुक्त जनसभा होनी थी। ये जनसभा समाजवादी विकास रथ यात्रा तले होनी सुनिश्चित थी। लेकिन पूर्वांचल एक्सप्रेसवे के उद्घाटन में भारत के प्रधानमंत्री और उत्तरप्रदेश के मुख्यमंत्री के बड़े कार्यक्रम की वजह से जिला प्रशासन ने इस जनसभा को अनुमति नहीं दी।

By प्रिन्स राज 
Updated Date

गाजीपुर। समाजवादी पार्टी के प्रमुख व यूपी के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव व ओमप्रकाश राजभर की बीते मंगलवार को संयुक्त जनसभा होनी थी। ये जनसभा समाजवादी विकास रथ यात्रा तले होनी सुनिश्चित थी। लेकिन पूर्वांचल एक्सप्रेसवे के उद्घाटन में भारत के प्रधानमंत्री और उत्तरप्रदेश के मुख्यमंत्री के बड़े कार्यक्रम की वजह से जिला प्रशासन ने इस जनसभा को अनुमति नहीं दी। कल होने वाली जनसभा को रद्द कर दिन 17 नवंबर को इस जनसभा की तारीख तय की गई। आज गाजीपुर जिले से लखनऊ तक होने वाली चौथे चरण की विकास रथ यात्रा में सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव और सुभासपा प्रमुख ओमप्रकाश राजभर एक साथ मंच पर दिखाई दिये। उत्तरप्रदेश में अगले साल 2022 में विधानसभा(Up Election 2022) के चुनाव होने हैं।

पढ़ें :- पीएम मोदी के बयान पर अखिलेश यादव ने किया पलटवार, कहा-भाजपा के लिए ये ‘रेड अलर्ट’ है

इस चुनाव में इन दोनों पार्टियों में हुए गठबंधन के बाद ये दूसरा मौका था जब ये दोनों नेता एक साथ सभा को संबोधित कर रहे थे। इससे पहले ये दोनों  मऊ के हलधर मैदान में हुए जनसभा में नजर आ चुके हैं। इस दौरान सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने भारतीय जनता पार्टी पर जमकर हमला बोला। उन्होंने कहा कि पूर्वांचल एक्सप्रेसवे का शिलान्यास हमने किया था जिसका कल उद्घाटन किया गया है। ये तो अभी लखनऊ से गाजीपुर(Lucknow to Gazipur) तक ही है जनता ने अगर फिर से सेवा का मौका दिया तो इसे बढ़ाकर कर बलिया होते हुए बिहार से जोड़ा जायेगा।

जिससे पूर्वांचल का विकास सुनिश्चित किया जा सके। इस दौरान कल से सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे वीडियो जिसमे नरेंद्र मोदी गाड़ी में और उनके गाड़ी के पीछे पैदल चलते दिख रहे मुख्यमंत्री योगी पर भी जमकर तंज कसा। अखिलेश ने कहा कि जनता द्वारा पैदल किये जाने से पहले ही हमारे मुख्यमंत्री जी को पैदल कर दिया गया है। ये चिलमजीवियों की सरकार ने महंगाई,बेरोजगारी जैसी समस्याओं को बढ़ाने का काम किया है। किसानों के लिए खाद नहीं है उनके लिए डीएपी(DAP) नहीं उपलब्ध कराई गयी। बाकी किसानों के साथ कैसा व्यवहार किया जा रहा है ये कोई कहने की बात ही नहीं है।

अखिलेश के संबोधन के बाद माइक संभालने आये सुभासपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष ओमप्रकाश राजभर(Omprakash Rajbhar) ने भी अपने पुराने सहयोगी दल भाजपा पर निशाना साधा। इस दौरान उन्होंने क्षेत्रवासियों से अपने नये नारे के माध्यम से अपील की कि ‘जब तक भाजपा की विदाई नहीं तब तक ढ़िलाई नहीं’। उनका ये नारा कोरोना काल में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के निर्देश जब तक दवाई नहीं तब तक ढ़िलाई नहीं से प्रेरित है।

पढ़ें :- Akhilesh-Jayant Rally: अखिलेश यादव का बड़ा हमला, कहा-पश्चिम यूपी में बीजेपी का सूरज हमेशा के लिए डूब जाएगा

इस दौरान दोनों बड़े नेता गाजीपुर में उमड़ी भीड़ देख उत्साह से लबरेज दिखाई दिये। विकास रथ यात्रा से किये जा रहे संबोधन के दौरान मंच पर अखिलेश(Akhilesh Yadav) और ओमप्रकाश के साथ जनवादी सोशलिस्ट पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष संजय चौहान,सपा के गाजीपुर से पूर्व मंत्री ओमप्रकाश सिंह और गाजीपुर के मोहम्मदाबाद सीट से पूर्व विधायक और बाहुबली मुख्तार अंसारी के बड़े भाई सिग्बतुल्लाह अंसारी भी मौजूद रहे।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...