1. हिन्दी समाचार
  2. एस्ट्रोलोजी
  3. Astro Opal Gem : शक्तिशाली ज्योतिषीय गुण है इस रत्न में, पहनने से शादीशुदा लाइफ रहेगी तनावमुक्त

Astro Opal Gem : शक्तिशाली ज्योतिषीय गुण है इस रत्न में, पहनने से शादीशुदा लाइफ रहेगी तनावमुक्त

ओपल रत्न हीरे का सबसे अच्छा का उपरत्न है, इसे 'रत्नों की रानी' भी कहा जाता है। यह मुख्य रूप से ऑस्ट्रेलिया में पाया जाता है, लेकिन अब यह दुनिया के अन्य हिस्सों में भी आसानी से उपलब्ध है।

By अनूप कुमार 
Updated Date

Astro Opal Gem : ओपल रत्न हीरे का सबसे अच्छा का उपरत्न है, इसे ‘रत्नों की रानी’ भी कहा जाता है। यह मुख्य रूप से ऑस्ट्रेलिया में पाया जाता है, लेकिन अब यह दुनिया के अन्य हिस्सों में भी आसानी से उपलब्ध है। यह रत्न पत्थर पारदर्शी, पारभासी या अपारदर्शी हो सकता है। इसमें शक्तिशाली ज्योतिषीय गुण भी हैं।ओपल जन्म कुंडली में कमजोर ग्रह शुक्र का इलाज करता है। यह हीरे का विकल्प है। और जीवन में तृप्ति और शक्ति प्रदान करने के लिए जाना जाता है। यदि आप आप यह रत्न धारण करते हैं तो यह आप में प्रेम की ज्वाला प्रज्वलित करता है और स्नेह भी।इसे शुक्र ग्रह को मजबूत करने के लिए धारण किया जाता है। कभी कभी तो यह हीरे से भी ज्यादा अच्छा रिजल्ट देता है। इसे चांदी की धातु में पहनना शुभ होता है।

पढ़ें :- साल में सिर्फ एकबार 5 घंटे के लिए खुलता है ये मन्दिर, भक्तों की आस्था से स्वयं प्रज्जवलित होती है ज्योत

ओपल पत्थर एक ही पत्थर में दिखाई देने वाले सभी रंगों में शानदार रंगों के साथ एक अद्भुत दृश्य उपचार है। वास्तव में एकमात्र ऐसा रत्न है जिसमें स्पेक्ट्रम के सभी दृश्य रंग देखे जा सकते हैं। ओपल मुख्य रूप से सिलिका से बना होता है जिसमें लगभग 3-10 प्रतिशत पानी होता है। ओपल लाखों साल पहले बने थे जब मेजबान चट्टान की परतों के बीच फंसे सिलिका जेल सख्त हो गए थे।

1.ओपल रत्न वैवाहिक जीवन में पति पत्नी के बीच कलह को दूर करने में सहायक होता है। अगर शादीशुदा जिंदगी में तलाक की स्थिति आने लगे तो ओपल धारण करने से इसे बहुत हद तक दूर किया जा सकता है।

2.ज्योतिष शास्त्र के मुताबिक ओपल रत्न शुक्र ग्रह के प्रभाव को और अधिक बढ़ाने के लिए पहना जाता है।

3.ओपल किसी किसी भी महीने के शुक्ल पक्ष में पड़ने वाले शुक्रवार के दिन पहना जा सकता है। इसे दाहिने हाथ की रिंग फिंगर में पहनना अच्छा होता है। इसे धारण करने से पहले कच्चे दूध या गंगाजल से शुद्ध कर लेना चाहिए।

पढ़ें :- Aaj ka Panchang: माघ शुक्ल पक्ष नवमी, जाने शुभ-अशुभ समय मुहूर्त और राहुकाल...

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...