1. हिन्दी समाचार
  2. दिल्ली
  3. IB की रिपोर्ट के बाद CDS अनिल चौहान को मिली Z+सिक्योरिटी

IB की रिपोर्ट के बाद CDS अनिल चौहान को मिली Z+सिक्योरिटी

देश के नव नियुक्त प्रमुख रक्षा अध्यक्ष ले. जनरल अनिल चौहान (सेवानिवृत) को जेड प्लस श्रेणी की सुरक्षा दी गयी है। गृह मंत्रालय के एक अधिकारी के अनुसार सीडीएस को यह सुरक्षा दिल्ली पुलिस द्वारा दी गई है। ले. जनरल चौहान ने हाल ही में देश के दूसरे सीडीएस का कार्यभार संभाला था।

By संतोष सिंह 
Updated Date

नई दिल्ली । देश के नव नियुक्त प्रमुख रक्षा अध्यक्ष ले. जनरल अनिल चौहान (सेवानिवृत) को जेड प्लस श्रेणी की सुरक्षा दी गयी है। गृह मंत्रालय के एक अधिकारी के अनुसार सीडीएस को यह सुरक्षा दिल्ली पुलिस द्वारा दी गई है। ले. जनरल चौहान ने हाल ही में देश के दूसरे सीडीएस का कार्यभार संभाला था। उनके सामने सशस्त्र सेनाओं के तीनों अंगों के बीच समन्वय बनाने का जिम्मा है, ताकि देश की सेनाओं को भविष्य की सुरक्षा चुनौतियों से निपटने के लिए तैयार किया जा सके।

पढ़ें :- Mukesh Ambani की सुरक्षा में इजाफा, अब Z+ कैटेगरी की मिली सुरक्षा

बताया जा रहा है कि CDS को जेड प्लस श्रेणी की सुरक्षा के साथ दिल्ली पुलिस के जवानों का सिक्योरिटी कवर मिलेगा। खुफिया एजेंसी के इनपुट के बाद गृह मंत्रालय ने यह फैसला किया है। इससे पहले बीते दिन देश के नए चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ (सीडीएस) जनरल अनिल चौहान ने तीनों सेनाओं के साथ पहली बार बातचीत की थी। इस दौरान उन्होंने सेना, नौसेना और वायु सेना को एकीकृत थिएटर कमांड के सृजन की दिशा में आगे बढ़ने के लिए कहा था।

गौरतलब है कि नए सीडीएस के रूप में जनरल अनिल चौहान के पद ग्रहण करने के बाद एक बार फिर भारतीय सेना की तीनों इकाइयों को मिलाकर थिएटर कमांड्स के गठन के बहुप्रतीक्षित प्रस्ताव पर एक बार फिर चर्चा शुरू हो गई है। सीडीएस जनरल बिपिन रावत के गत दिसंबर में एक हेलिकॉप्टर हादसे में निधन से सेना के इस मॉडल की कोशिशों को आघात लगा था।

इससे पहले 28 सितंबर को केंद्र सरकार ने नए सीडीएस की नियुक्ति की थी। सरकार ने लेफ्टिनेंट जनरल (रि) अनिल चौहान को अगले चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ (सीडीएस) के रूप में नियुक्त किया था। वह भारत सरकार के सैन्य मामलों के विभाग के सचिव के रूप में भी कार्य करेंगे। रक्षा मंत्रालय ने ये जानकारी दी थी। ले. जनरल (रि) अनिल चौहान की गोरखा राइफल से सेना में एंट्री हुई थी। वह पीओके में बालाकोट स्ट्राइक की प्लानिंग में भी शामिल थे और पिछले साल ही रिटायर हुए हैं।

पढ़ें :- Rakesh Tikait को Z प्लस सुरक्षा दे सरकार, बीकेयू ने किया प्रदर्शन
इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...