1. हिन्दी समाचार
  2. दिल्ली
  3. शक्ति भोग कंपनी के अध्यक्ष मनी लॉन्ड्रिंग मामले में गिरफ्तार, ED की छापेमारी में मिले कई अहम सबूत

शक्ति भोग कंपनी के अध्यक्ष मनी लॉन्ड्रिंग मामले में गिरफ्तार, ED की छापेमारी में मिले कई अहम सबूत

प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने बैंक धोखाधड़ी और मनी लॉन्ड्रिंग के मामले में शक्ति भोग फूड्स के मालिक केवल कृष्ण कुमार को सोमवार को गिरफ्तार कर लिया है। इन पर आपराधिक साजिश, धोखाधड़ी और आपराधिक कदाचार के आरोप हैं।

By संतोष सिंह 
Updated Date

नई दिल्ली। प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने बैंक धोखाधड़ी और मनी लॉन्ड्रिंग के मामले में शक्ति भोग फूड्स के मालिक केवल कृष्ण कुमार को सोमवार को गिरफ्तार कर लिया है। इन पर आपराधिक साजिश, धोखाधड़ी और आपराधिक कदाचार के आरोप हैं। ईडी ने सोमवार को बताया कि उसने दिल्ली स्थित शक्ति भोग फूड्स लिमिटिड के अध्यक्ष एवं प्रबंधक निदेशक (सीएमडी) केवल कृष्ण कुमार को गिरफ्तार किया है। उनकी गिरफ्तारी कई करोड़ रुपये के कथित बैंक धोखाधड़ी से जुड़े धन शोधन के मामले में की गई है।

पढ़ें :- दावा: CM अ​रविंद केजरीवाल के सहयोगी और ED के अधिकारी भी थे पेगासस के निशाने पर!

केंद्रीय एजेंसी ने एक बयान में कहा कि केवल कृष्ण कुमार को रविवार 04 जुलाई 2021 को यहां से गिरफ्तार किया गया और बाद में प्रिवेंशन ऑफ मनी लॉन्ड्रिंग एक्ट (पीएमएलए) अदालत में पेश किया गया, जहां से उन्हें नौ जुलाई तक ईडी की हिरासत में भेज दिया। उनकी गिरफ्तारी से पहले एजेंसी ने दिल्ली और हरियाणा में कम से कम नौ जगहों पर छापे मारे थे।

बयान के मुताबिक, छापेमारी के दौरान विभिन्न अपराध संकेती दस्तावेज और डिजिटल साक्ष्य बरामद किए गए हैं। ईडी ने सीबीआई की एफआईआर के आधार पर पीएमएलए की आपराधिक धाराओं में मामला दर्ज किया था। सीबीआई ने इस साल के शुरू में भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआई) के नेतृत्व वाले 10 बैंकों के एक संघ के साथ 3,269 करोड़ रुपये की कथित धोखाधड़ी के लिए शक्ति भोग फूड्स लिमिटेड के खिलाफ एफआईआर दर्ज की थी। एसबीआई ने कंपनी के खिलाफ शिकायत दर्ज कराई थी।

एसबीआई के अनुसार, कंपनी के निदेशकों ने लोगों के पैसे को हड़पने के लिए कथित तौर पर खातों में हेराफेरी की और जाली दस्तावेज तैयार किए। बैंक ने कहा था कि 24 साल पुरानी कंपनी की 2008 में कारोबार वृद्धि 1411 करोड़ रुपये थी जो 2014 में बढ़कर 6,000 करोड़ रुपये हो गई। कंपनी आटा, गेंहू, चावल, बिस्किट आदि बनाने व बेचने के व्यापार में है। ईडी ने कहा कि उन पर आरोप है कि उन्होंने कुछ कंपनियों द्वारा संदिग्ध खरीद-फरोख्त के जरिए कर्ज खाते के पैसे को हेराफेरी करके बाहर भेज दिया।

पढ़ें :- ईडी ने भगोड़े व्यवसासियों की संपत्ति बेचकर अब तक 13,100 करोड़ की रिकवरी

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...