1. हिन्दी समाचार
  2. एस्ट्रोलोजी
  3. गणेश चतुर्थी 2021: इस दिन के बारे में तिथि, समय, पौराणिक कथा, महत्व

गणेश चतुर्थी 2021: इस दिन के बारे में तिथि, समय, पौराणिक कथा, महत्व

अखुरथ संकष्टी गणेश चतुर्थी 2021: हिंदू मान्यता के अनुसार, इस दिन भगवान गणेश चंद्रोदय (चंद्रोदय) में कृष्ण चतुर्थी से पहले अपना आशीर्वाद देने के लिए प्रकट हुए थे।

By प्रीति कुमारी 
Updated Date

मार्गशीर्ष मास के कृष्ण पक्ष या पौष में पड़ने वाले संकष्टी गणेश चतुर्थी व्रत को अखुरथ संकष्टी गणेश चतुर्थी कहा जाता है। यह हिंदू भक्तों के लिए बहुत महत्व रखता है क्योंकि यह भगवान गणेश को समर्पित है। इस दिन, भक्त एक दिन का उपवास रखते हैं और चंद्रमा को देखने के बाद इसे तोड़ते हैं। हालाँकि, जब संकष्टी चतुर्थी मार्गशीर्ष महीने में आती है, तब भक्त न केवल भगवान गणेश, बल्कि सामान्य देव पीठ की भी पूजा करते हैं।

पढ़ें :- फरवरी मा​​​ह में विवाह के हैं 13 शुभ मुहूर्त, गृह प्रवेश, मुंडन व वाहन खरीद की नोट कर लें शुभ घड़ी?

तिथि और शुभ समय

दिनांक: 22 दिसंबर, शनिवार

चतुर्थी तिथि शुरू – 22 दिसंबर 2021 को शाम 04:52 बजे

चतुर्थी तिथि समाप्त – 23 दिसंबर 2021 को शाम 06:27 बजे

पढ़ें :- 31 जनवरी 2023 राशिफल: मेष राशि के जातकों को होगा अच्छा मुनाफा, जाने अपनी राशि का हाल

हिंदू मान्यता के अनुसार, इस दिन भगवान गणेश चंद्रोदय (चंद्रोदय) में कृष्ण चतुर्थी से पहले उनकी तपस्या से प्रसन्न होकर उन्हें आशीर्वाद देने के लिए प्रकट हुए थे। भगवान गणेश ने भी उन्हें भगवान के साथ हमेशा के लिए जुड़े रहने और भक्तों को उनके रास्ते में आने वाली बाधाओं से छुटकारा पाने में मदद करने की इच्छा दी। इसलिए इस दिन व्रत रखने वाले भक्तों को भगवान गणेश की कृपा प्राप्त होती है और उनके सभी कष्टों से मुक्ति मिलती है।

पूजा विधि

सुबह जल्दी उठकर नहा लें और साफ कपड़े पहनें.

भक्तों को अभिजीत या विजय मुहूर्त के दौरान पूजा करने की सलाह दी जाती है।

जल, ताजा कपड़ा, अक्षत, जनेयु, कुमकुम, हल्दी, चंदन, दूर्वा घास और अगरबत्ती चढ़ाएं।

पढ़ें :- Aaj ka Panchang: माघ शुक्ल पक्ष दशमी, जाने शुभ-अशुभ समय मुहूर्त और राहुकाल...

पूजा अनुष्ठान की शुरुआत ध्यान लगाकर करें और फिर भगवान गणेश की मूर्ति के सामने तेल का दीपक जलाएं।

मंत्रों का जाप करें और संकष्टी चतुर्थी व्रत कथा का पाठ करें।

प्रसाद के रूप में भोग या मोदक के लड्डू चढ़ाएं और फिर इसे परिवार के सदस्यों में बांट दें।

आरती कर पूजा का समापन करें।

मंत्र

वक्रतुण्ड महाकाया, सूर्य कोटि सम्प्रबः

पढ़ें :- साल में सिर्फ एकबार 5 घंटे के लिए खुलता है ये मन्दिर, भक्तों की आस्था से स्वयं प्रज्जवलित होती है ज्योत

निर्विघ्नम कुरुमेदेव सर्व कार्येशु सर्वदा

गण गणपतये नमः
एकदंतय विद्यामाहे, वक्रतुंडय धीमहि तन्नो दंति प्रचोदयात

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...