1. हिन्दी समाचार
  2. उत्तर प्रदेश
  3. Good News : IIT Kanpur का बड़ा दावा, Third Wave of Corona की आशंका न के बराबर

Good News : IIT Kanpur का बड़ा दावा, Third Wave of Corona की आशंका न के बराबर

कोरोना महामारी (Corona Pandemic) से जूझ रहे देशवासियों के लिए आईआईटी कानपुर (IIT Kanpur) से राहत भरी आई है। इस संस्थान के वरिष्ठ वैज्ञानिक पद्मश्री प्रो. मणींद्र अग्रवाल (Padmashree Prof. Manindra Agarwal) ने बड़ी भविष्यवाणी की है। उन्होंने कहा कि देश में कोरोना संक्रमण की तीसरी लहर की आशंका अब न के बराबर है। उन्होंने इसकी मुख्य वजह बड़ी संख्या में वैक्सीनेशन होना बताया है। महामारी को लेकर नई स्टडी (New Study)  प्रो. अग्रवाल ने गणितीय सूत्र मॉडल (Mathematical Formula Model) के आधार पर जारी की है। इसके मुताबिक कोरोना संक्रमण (Corona Infection) अब लगातार कम होगा।

By संतोष सिंह 
Updated Date

कानपुर। कोरोना महामारी (Corona Pandemic) से जूझ रहे देशवासियों के लिए आईआईटी कानपुर (IIT Kanpur) से राहत भरी आई है। इस संस्थान के वरिष्ठ वैज्ञानिक पद्मश्री प्रो. मणींद्र अग्रवाल (Padmashree Prof. Manindra Agarwal) ने बड़ी भविष्यवाणी की है। उन्होंने कहा कि देश में कोरोना संक्रमण की तीसरी लहर की आशंका अब न के बराबर है। उन्होंने इसकी मुख्य वजह बड़ी संख्या में वैक्सीनेशन होना बताया है। महामारी को लेकर नई स्टडी (New Study)  प्रो. अग्रवाल ने गणितीय सूत्र मॉडल (Mathematical Formula Model) के आधार पर जारी की है। इसके मुताबिक कोरोना संक्रमण (Corona Infection) अब लगातार कम होगा।

पढ़ें :- Corona virus: कोरोना संक्रमण ने फिर बढ़ाई चिंता, 24 घंटे में बढ़े मरीज

बता दें कि यूपी, बिहार, दिल्ली जैसे राज्य कोरोना महामारी (Corona Pandemic)  से लगभग मुक्ति की ओर हैं। स्टडी के अनुसार देश में कोरोना के एक्टिव केस अक्तूबर तक 15 हजार के करीब रहेंगे। ऐसा इसलिए क्योंकि तमिलनाडु, तेलंगाना, केरल, कर्नाटक, असम, अरुणाचल समेत पूर्वोत्तर के राज्यों में संक्रमित आते रहेंगे। मणींद्र अग्रवाल लगातार स्टडी के जरिए रिपोर्ट जारी कर सरकार को अलर्ट करते रहे हैं। दूसरी लहर का इनका दावा काफी हद तक सही भी साबित हुआ। उन्होंने अक्तूबर तक अपनी नई प्रिडक्शन रिपोर्ट जारी कर दावा किया कि तीसरी लहर की आशंका लगभग शून्य है। रिपोर्ट के मुताबिक अक्तूबर तक उत्तर प्रदेश, बिहार, दिल्ली, मध्य प्रदेश में कोरोना के एक्टिव केस इकाई अंक तक पहुंच जाएंगे।

टीके में तेजी का मिलेगा लाभ

प्रो. अग्रवाल के मुताबिक लॉकडाउन ( Lockdown) और वैक्सीनेशन (Vaccination) का काफी लाभ मिलता दिख रहा है। दूसरी लहर के बाद अधिकतर लोगों में हर्ड इम्युनिटी बन गई है। वहीं तेजी से चल रहे टीका अभियान का प्रभाव भी महामारी को रोकने में कारगर रहेगा।

तीसरी लहर की आशंका को लेकर वैज्ञानिक लगातार चिंता जताने के साथ अलग-अलग दावे कर रहे थे। प्रो. अग्रवाल दूसरी लहर के बाद मई से ही कह रहे थे कि थर्ड वेव प्रभावी नहीं होगी। यह दूसरी लहर से काफी कमजोर रहेगी। मई में ही दावा किया था कि वैक्सीनेशन ठीक से हुआ और लोगों ने कोविड प्रोटोकॉल (Covid Protocol) का पालन किया तो तीसरी लहर न के बराबर रहेगी।

पढ़ें :- Chhath Puja: सीएम केजरीवाल ने उपराज्यपाल को लिखा पत्र, कहा-कोरोना की स्थिति बेहतर, छठ पूजा की मिलनी चाहिए अनुमति

प्रो. अग्रवाल के सही साबित हो चुके हैं ये दावे

प्रो. अग्रवाल ने कहा ​था कि गांव में कोरोना संक्रमण (Corona Infection) बहुत अधिक नहीं फैलेगा। लॉकडाउन प्रभावी (Lockdown Effective) होने पर अचानक केस कम होंगे। दूसरी लहर में संक्रमण का पीक लगभग सच साबित हुआ। प्रो. अग्रवाल ने बताया ​था कि कोविड की दूसरी लहर मई से कमजोर होने लगेगी।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...