HBE Ads
  1. हिन्दी समाचार
  2. एस्ट्रोलोजी
  3. Amazing Owl Facts : उल्लू को कहीं सौभाग्य माना जाता है तो कहीं अशुभ , ऐसे देता है सफलता का संकेत

Amazing Owl Facts : उल्लू को कहीं सौभाग्य माना जाता है तो कहीं अशुभ , ऐसे देता है सफलता का संकेत

शताब्दियों से उल्लू मानव संस्कृति और पौराणिक कथाओं का हिस्सा रहे हैं। जिन्हें बुद्धिमान सौभाग्य आकर्षण से लेकर मृत्यु के दूत के रूप में देखा जाता है।

By अनूप कुमार 
Updated Date

Amazing Owl Facts : शताब्दियों से उल्लू मानव संस्कृति और पौराणिक कथाओं का हिस्सा रहे हैं। जिन्हें बुद्धिमान सौभाग्य आकर्षण से लेकर मृत्यु के दूत के रूप में देखा जाता है। यह आकर्षण उनकी अजीब शारीरिक रचना से आ सकता है, जो उन्हें अन्य पक्षी प्रजातियों के बीच खड़ा करता है। उल्लू अपने सिर को इधर-उधर घुमा सकते हैं, रात्रिचर होते हैं, लगभग चुपचाप उड़ते हैं, और असाधारण छलावरण के कारण छिपे रह सकते हैं।  उल्लू आश्चर्यजनक रूप से अनोखे पक्षी हैं। तांत्रिक और तंत्र विद्या के लोग  उल्लू को महत्पूर्ण मानते है। धार्मिक ग्रंथों के अनुसार, देवी लक्ष्मी मां  की सवारी उल्लू है। पौराणिक मान्यताओं के अनुसार , यदि दीवाली की रात को दर्शन हो जाए तो वह बहुत शुभ माना जाता है। कई शास्त्रों में उल्लुओ का जिक्र एक अशुभ जीव की तरह भी किया गया है।

पढ़ें :- Surya Dev Arghya : सूर्य देव को अर्घ्य देने से मानसिक और आध्यात्मिक दुर्बलताएं समाप्त होती है,नौकरी या बिजनेस में लाभ मिलता है

शकुन शास्त्र में बताया गया है कि , अगर कोई उल्लू किसी घर के पास रोज बैठने लगे तो वह घर जल्द ही उजड सकता है और उस घर के मालिक पर कोई आपत्ति भी आने की संभावनाएँ बढ जाती हैं। जिस कारण शास्त्रों में उल्लू को एक अशुभ जीव माना जाता है।

उल्लुओं से जुड़े फैक्‍ट – इनके अलवा उल्लू के आसपास दिखने से कुछ शुभ संकेत भी मिलते हैं जैसे कि, अगर आपको उल्लू अपने मेहमान के पीछे दिखाई दे तो मतलब आपको सफलता मिल सकती है। इसके अलावा अगर आपको सफेद रंग का उल्लू दिखाई देता है तो उसे शुभ माना जाता है।

उल्लुओं की आंखें नहीं होतीं—वे नेत्र नलिकाओं की तरह होती हैं। वे लंबे होते हैं और खोपड़ी में एक हड्डी की संरचना द्वारा अपनी जगह पर टिके रहते हैं जिन्हें स्क्लेरोटिक रिंग कहा जाता है। इस वजह से, उल्लू न तो हिल सकते हैं और न ही अपनी आँखों को अपनी जेब में घुमा सकते हैं। (यही वह जगह है जहां गर्दन की बढ़ी हुई गतिशीलता आती है।)

उल्लुओं की दूरबीन दृष्टि मनुष्यों के समान होती है, जिसका अर्थ है कि वे एक ही समय में दोनों आँखों से किसी वस्तु को देख सकते हैं। इससे उल्लुओं को ऊंचाई, वजन और दूरी का आकलन करने की बेहतरीन क्षमता मिलती है। उल्लुओं की आंखें अद्भुत हो सकती हैं, लेकिन शिकार करते समय असली काम उनके कान ही करते हैं।

पढ़ें :- Diwali 2024 date : साल 2024 में इस तारीख को दिवाली पर्व मनाया जाएगा, जानें कार्तिक अमावस्या और शुभ मुहूर्त  

 

 

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...