HBE Ads
  1. हिन्दी समाचार
  2. एस्ट्रोलोजी
  3. Astro Opal Gem : ओपल रत्न धारण करने से दांपत्य जीवन रहेगा तनाव मुक्त , इसके बारे में जानें 

Astro Opal Gem : ओपल रत्न धारण करने से दांपत्य जीवन रहेगा तनाव मुक्त , इसके बारे में जानें 

दांपत्य जीवन को सुखी संपन्न और चिरजीवी बनाने के लिए ज्योतिषीय सलाह के बाद ओपल रत्न पहना जाता है। रंग और चमक के कारण  देखने में सुंदर और आकर्षित करने के बाद वाला यह चमत्कारी रत्न ओपल जन्म कुंडली में कमजोर ग्रह शुक्र का इलाज करता है।

By अनूप कुमार 
Updated Date

Astro Opal Gem : दांपत्य जीवन को सुखी संपन्न और चिरजीवी बनाने के लिए ज्योतिषीय सलाह के बाद ओपल रत्न पहना जाता है। रंग और चमक के कारण  देखने में सुंदर और आकर्षित करने के बाद वाला यह चमत्कारी रत्न ओपल जन्म कुंडली में कमजोर ग्रह शुक्र का इलाज करता है। ओपल रत्न हीरे का सबसे अच्छा का उपरत्न है, इसे ‘रत्नों की रानी’ भी कहा जाता है।  इसमें शक्तिशाली ज्योतिषीय गुण भी हैं। यह हीरे का विकल्प है। इसे शुक्र ग्रह को मजबूत करने के लिए धारण किया जाता है। कभी कभी तो यह हीरे से भी ज्यादा अच्छा रिजल्ट देता है। इसे चांदी की धातु में पहनना शुभ होता है।

पढ़ें :- Ganga Dussehra 2024 : अद्भुत संयोग में मानया जाएगा गंगा दशहरा , इन 3 राशियों के लिए रहेगा बेहद शुभ

ओपल वास्तव में एकमात्र ऐसा रत्न है जिसमें स्पेक्ट्रम के सभी दृश्य रंग देखे जा सकते हैं। ओपल मुख्य रूप से सिलिकॉन से बना होता है जिसमें लगभग 3-10 प्रतिशत पानी होता है।

1.ओपल रत्न वैवाहिक जीवन में पति पत्नी के बीच कलह को दूर करने में सहायक होता है। अगर शादीशुदा जिंदगी में तलाक की स्थिति आने लगे तो ओपल धारण करने से इसे बहुत हद तक दूर किया जा सकता है।

2.ज्योतिष शास्त्र के मुताबिक ओपल रत्न शुक्र ग्रह के प्रभाव को और अधिक बढ़ाने के लिए पहना जाता है।

3.ओपल किसी किसी भी महीने के शुक्ल पक्ष में पड़ने वाले शुक्रवार के दिन पहना जा सकता है। इसे दाहिने हाथ की रिंग फिंगर में पहनना अच्छा होता है। इसे धारण करने से पहले कच्चे दूध या गंगाजल से शुद्ध कर लेना चाहिए।

पढ़ें :- Mithun Sankranti 2024 : मिथुन संक्रांति के दिन राशि के अनुसार करें इन चीजों का दान , सूर्य देव की मिलेगी कृपा  

4. किसी किसी भी महीने के शुक्ल पक्ष में पड़ने वाले शुक्रवार के दिन पहना जा सकता है। इसे दाहिने हाथ की रिंग फिंगर में पहनना अच्छा होता है। इसे धारण करने से पहले कच्चे दूध या गंगाजल से शुद्ध कर लेना चाहिए।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...