HBE Ads
  1. हिन्दी समाचार
  2. उत्तर प्रदेश
  3. माफिया डॉन मुख्तार अंसारी ने जेल में ही कोरोना को दी मात, देखें RTPCR रिपोर्ट

माफिया डॉन मुख्तार अंसारी ने जेल में ही कोरोना को दी मात, देखें RTPCR रिपोर्ट

यूपी की बांदा जेल में बंद माफिया डॉन मुख्तार अंसारी की कोरोना निगेटिव आ गई है। उसकी आरटीपीसीआर रिपोर्ट में सैंपल निगेटिव पाया गया है। बता दें कोरोना संक्रमण की चपेट में आने के बाद से ही बाहुबली मुख्तार अंसारी के स्वास्थ्य पर जेल प्रशासन लगातार नजर बनाए हुए था।

By संतोष सिंह 
Updated Date

बांदा। यूपी की बांदा जेल में बंद माफिया डॉन मुख्तार अंसारी की कोरोना निगेटिव आ गई है। उसकी आरटीपीसीआर रिपोर्ट में सैंपल निगेटिव पाया गया है। बता दें कोरोना संक्रमण की चपेट में आने के बाद से ही बाहुबली मुख्तार अंसारी के स्वास्थ्य पर जेल प्रशासन लगातार नजर बनाए हुए था। कोरोना की चपेट में आने के बाद मुख्तार को उसकी उसी बैरिक नंबर 16 में आइसोलेट किया गया था।संक्रमण के दौरान उसकी डाइट काफी कम हो गई थी और ब्‍लड शुगर लेवल भी बढ़ गया था। लेकिन ताजा आरटीपीसीआर रिपोर्ट में निगेटिव पाए जाने के बाद जेल प्रशासन ने राहत की सांस ली है।

पढ़ें :- Budget 2024: बजट में राज्यों के साथ पूरी तरह से किया गया भेदभाव...जानिए इंडिया गठबंधन की बैठक में क्या बनी रणनीति?

बता दें बांदा जेल आने के कुछ दिन बाद तक बाहुबली माफिया मुख्तार अंसारी कोरोना संक्रमण की चपेट में नहीं था। जेल के अंदर उसको कैसे कोरोना हो गया, यह तो सोचने वाली बात है। बता दें कि पंजाब की रोपड़ जेल से जब मुख्तार अंसारी को यूपी की बांदा जेल भेजने की बात चल रही थी उस दौरान उसने कई बार उत्तर प्रदेश की जेलों में लौटने से मना किया था। यही नहीं, उसने कई बार कोर्ट में हवाला दिया था कि उसे यूपी में जान और स्वास्थ्य का खतरा है। उसकी तबीयत ठीक नहीं है।

सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद यूपी किया गया शिफ्ट

सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद माफिया मुख्तार अंसारी को उत्तर प्रदेश की बांदा जेल में शिफ्ट करने का आदेश दिया गया था। हालांकि पंजाब के रोपड़ से लौटने के बाद अंसारी को कोरोना संक्रमण नहीं था। बांदा जेल के अंदर दाखिल करने से पहले उसकी जांच भी जिला प्रशासन और जेल प्रशासन ने मिलकर कराई थी, लेकिन उस समय जेल अंदर दाखिल होने तक मुख्तार को कोई भी बीमारी का संक्रमण नहीं था। यही नहीं, मुख्तार अंसारी की सुरक्षा व्यवस्था को लेकर उत्तर प्रदेश सरकार और उत्तर प्रदेश जेल विभाग के डीजी खुद निगरानी कर रहे थे।

पढ़ें :- BJP MLA ने काली नदी की सफाई और अवैध कब्जा मुक्त कराने के लिए सीएम से लगाई गुहार,अधिकारियों पर लगाए गंभीर आरोप

मुख्तार अंसारी की रिपोर्ट

इसके अलावा लखनऊ से मुख्तार अंसारी की बैरिक में और जेल के अंदर मौजूद सुरक्षाकर्मियों के बॉडी बॉल कैमरे लगाए गए, जिससे मुख्तार अंसारी के बैरिक में कोई जरूरी कर्मचारी के अलावा कोई दूसरा व्यक्ति नहीं जा सके। आखिरकार जब इतनी व्यवस्थाएं की गई तो मुख्तार अंसारी कोरोना संक्रमण की चपेट में कैसे आ गया?

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...