1. हिन्दी समाचार
  2. दिल्ली
  3. दिल्ली ​की एयर क्वालिटी गंभीर श्रेणी में पहुंची, दृश्यता स्तर कम रहा और धुएं की परत छाई रही

दिल्ली ​की एयर क्वालिटी गंभीर श्रेणी में पहुंची, दृश्यता स्तर कम रहा और धुएं की परत छाई रही

देश की राजधानी दिल्ली में धीमी हवाएं चलने और पंजाब में पराली जलाए जाने के मामले बढ़ने के बीच वायु गुणवत्ता 'गंभीर' श्रेणी में पहुंच गई है। इस कारण दिल्ली में मंगलवार को धुंध और धुएं की परत छाई रही और दृश्यता स्तर कम रहा।

By प्रिया सिंह 
Updated Date

 

पढ़ें :- Delhi BJP Protest: दिल्ली भाजपा ने किया AAP कार्यालय के बाहर जोरदार प्रदर्शन, CM केजरीवाल मांगा इस्तीफा

नई दिल्ली। देश की राजधानी दिल्ली में धीमी हवाएं चलने और पंजाब में पराली जलाए जाने के मामले बढ़ने के बीच वायु गुणवत्ता ‘गंभीर’ श्रेणी में पहुंच गई है। इस कारण दिल्ली में मंगलवार को धुंध और धुएं की परत छाई रही और दृश्यता स्तर कम रहा।

अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी ‘नासा’ की उपग्रह से ली गई तस्वीरों में कई लाल निशान दिख रहे हैं, जो पंजाब और हरियाणा के कुछ हिस्सों में पराली जलाए जाने के मामलों को दर्शाते हैं। पूर्वी पाकिस्तान से पूर्वी उत्तर प्रदेश तक सिंधु-गंगा के मैदानों के विशाल क्षेत्रों में धुंध की एक परत दिखाई दे रही है।

दिल्ली का वायु गुणवत्ता सूचकांक (एक्यूआई) मंगलवार को पूर्वाह्न 10 बजे 429 पर रहा, जबकि यह सोमवार को शाम चार बजे 352 था। यदि एक्यूआई 400 से अधिक हो तो उसे ‘गंभीर’ श्रेणी में माना जाता है और इसके कारण लोगों के स्वास्थ्य पर गंभीर असर पड़ सकता है।

जानिए, कहां कितना रहा एक्यूआई?

पढ़ें :- भारत और पाकिस्तान के बीच होने जा रहा है महामुकाबला, 8 दिनों बाद दोनों टीमों के बीच होगी भिड़ंत

बुराड़ी क्रॉसिंग (एक्यूआई 477), बवाना (465), वजीरपुर (467), नरेला (465), विवेक विहार (457), रोहिणी (462), जहांगीरपुरी (475), सोनिया विहार (469) और अशोक विहार (465) में वायु गुणवत्ता गंभीर श्रेणी में रही। केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (सीपीसीबी) के अनुसार, कई क्षेत्रों में पीएम 2.5 यानी फेफड़ों को नुकसान पंहुचा सकने वाले सूक्ष्म कणों की सांद्रता 450 माइक्रोग्राम प्रति घन मीटर से अधिक रही, जो 60 माइक्रोग्राम प्रति घन मीटर की सुरक्षित सीमा से लगभग आठ गुना अधिक है।

दिल्ली प्रदूषण नियंत्रण समिति के एक विश्लेषण के अनुसार, जब एक नवंबर से 15 नवंबर के बीच पराली जलाए जाने की घटनाएं चरम पर होती हैं, तब राजधानी में लोग सबसे खराब हवा में सांस लेते हैं।

 

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...