1. हिन्दी समाचार
  2. उत्तर प्रदेश
  3. Dr. Sangram Yadav jeevan Parichay : पिता के ​विरोधी को रिकॉर्ड तोड़ मतों से पटखनी दे दूसरी बार बने विधायक डॉ. संग्राम यादव

Dr. Sangram Yadav jeevan Parichay : पिता के ​विरोधी को रिकॉर्ड तोड़ मतों से पटखनी दे दूसरी बार बने विधायक डॉ. संग्राम यादव

Dr. Sangram Yadav jeevan Parichay : यूपी (UP) के आजमगढ़ जिले (Azamgarh District) में निर्वाचन क्षेत्र - 343, अतरौलिया विधानसभा सीट (Constituency - 343, Atraulia Assembly seat) पर डॉ. संग्राम यादव (Dr. Sangram Yadav) समाजवादी पार्टी (Samajwadi Party ) के टिकट पर उत्तर प्रदेश के 17 वीं विधानसभा चुनाव (Uttar Pradesh's 17th Assembly Elections) में रिकॉर्ड तोड़ मतों से  ऐतिहासिक जीत प्राप्त  की है।

By संतोष सिंह 
Updated Date

Dr. Sangram Yadav jeevan Parichay : यूपी (UP) के आजमगढ़ जिले (Azamgarh District) में निर्वाचन क्षेत्र – 343, अतरौलिया विधानसभा सीट (Constituency – 343, Atraulia Assembly seat) पर डॉ. संग्राम यादव (Dr. Sangram Yadav) समाजवादी पार्टी (Samajwadi Party ) के टिकट पर उत्तर प्रदेश के 17 वीं विधानसभा चुनाव (Uttar Pradesh’s 17th Assembly Elections) में रिकॉर्ड तोड़ मतों (Record Breaking Votes) से  ऐतिहासिक जीत प्राप्त  की है। डॉ. संग्राम यादव (Dr. Sangram Yadav) ने 2017 के उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव में बहुजन समाजवादी पार्टी (Bahujan Samajwadi Party) के दिग्गज नेता सुरेंद्र प्रसाद मिश्र ( Surendra Prasad Mishra) को मात दी है। 2012 के विधानसभा चुनाव में सुरेंद्र प्रसाद ने ही डॉ. संग्राम के पिता बलराम यादव (Balram Yadav)  को पटखनी दी थी, लेकिन 2017 के उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव (Uttar Pradesh’s 17th Assembly Elections)  में अपनी पिता की विरासत को बनाए रखने के लिए डॉ. संग्राम ने चुनाव में रिकॉर्ड तोड़ मत (Record Breaking Votes)  प्राप्त कर सपा का झंडा लहराया है।

पढ़ें :- Anurag Singh jeevan parichay : अनुराग सिंह ने RSS स्वयं सेवक से बीजेपी विधायक बनने का ऐसे तय किया सफर

जीवन शैली व शिक्षा

आजमगढ़ जिले (Azamgarh District)  के सेनपुर में जन्में डॉ. संग्राम की पारिवारिक पृष्ठभूमि राजनीतिक रही है। उन्होंने वर्ष 1994 में एम.ए की डिग्री प्राप्त की है। साथ ही उन्होंने वर्ष 1997 में एलएलबी की डिग्री ली है। इसके पश्चात उन्होंने वर्ष 2005 में उन्होंने इलाहाबाद यूनिवर्सिटी (Allahabad University) से पीएचडी (PhD ) तक शिक्षा प्राप्त की है। शिक्षा पूरी होने के पश्चात उन्होंने अपने पिता के पद चिन्हों पर चलना शुरू किया। डॉ. संग्राम यादव के पिता बलराम यादव अतरौलिया विधानसभा सीट (Atraulia Assembly seat)से 5 बार विधायक रह चुके हैं।

ये है पूरा सफरनामा

नाम- डॉ. संग्राम यादव

पढ़ें :- Rajni Tiwari jeevan parichay : मोदी लहर में रजनी तिवारी ने इस सीट पर फहराया भाजपा का झंडा, मारी हैट्रिक

निर्वाचन क्षेत्र – 343, अतरौलिया ,आजमगढ़
दल – समाजवादी पार्टी
पिता का नाम –बलराम यादव
जन्‍म तिथि –10 मार्च, 1971
जन्‍म स्थान- सेनपुर (आजमगढ़)
धर्म –हिन्दू
जाति –पिछड़ी जाति (यादव)
शिक्षा- स्नातकोत्तर, पी-एच0डी0
विवाह तिथि- 29 अप्रैल, 2005
पत्‍नी का नाम –संध्या यादव
सन्तान- दो पुत्र
व्‍यवसाय- कृषि।
मुख्यावास- ग्राम व पोस्ट- सेनपुर, जनपद- आजमगढ़।

डॉ. संग्राम यादव ने अपने पिता को ही  माना अपना राजनीतिक गुरु

डॉ. संग्राम के पिता बलराम यादव (Balram Yadav) समाजवादी पार्टी (Samajwadi Party )  के संस्थापक सदस्य के रूप में भी जाने जाते हैं। उनके सपा के संस्थापक मुलायम सिंह यादव (SP founder Mulayam Singh Yadav) से अच्छे संबध रहे हैं। बलराम यादव ने विधानसभा व विधान परिषद् दोनों ही जगह विपक्षी दल को करारी मात दी है। इसके साथ ही उन्होंने पार्टी के अंतर्गत मंत्री पदों पर भी कार्य किया है। उन्होंने अपना राजनीतिक सफ़र वर्ष 1978 में ब्लॉक प्रमुख चुनाव में सफलता प्राप्त कर आरंभ किया। इसके बाद उन्होंने सपा से विधानसभा चुनाव लड़ कांग्रेस प्रत्याशी को हराया।

सपा के टिकट से ही उन्होंने वर्ष 1991 और 1993 में भी विधायक पद पर सफलता प्राप्त की और बसपा प्रत्याशी को हराया। परन्तु वर्ष 2007 में विधायक पद के चुनाव में बहुजन समाज पार्टी से प्रत्याशी सुरेंद्र मिश्रा ने बलराम यादव को हरा दिया। इसके बाद उन्होंने वर्ष 2012 में सम्पन्न हुए चुनाव में सीट अपने बेटे डॉ. संग्राम यादव (Dr. Sangram Yadav) को दी जिसमें सफलता हासिल की। डॉ. संग्राम ने अपने पिता को ही अपना राजनीतिक गुरु माना है। उनके पिता को समाजवादी सरकार में उन्हें स्वास्थ्य, पंचायती राज, कारगर व माध्यमिक शिक्षा जैसे महत्वपूर्ण विभागों का भी कार्यभार सौंपा गया। उनके सरल स्वाभाव के चलते वह स्वयं और उनके पुत्र डॉ. संग्राम यादव आमजन के मध्य काफी लोकप्रिय हैं।

राजनीतिक योगदान

पढ़ें :- Shobha Singh Chauhan jeevan parichay : शोभा सिंह चौहान ने बीकापुर विधानसभा सीट का तोड़ा मिथ, पहली बार खिलाया कमल

मार्च, 2012  16 वीं विधान सभा के सदस्य प्रथम बार निर्वाचित
2012-2013 सदस्य, विशेषाधिकार समिति
मार्च, 2017  17वीं विधान सभा के सदस्य दूसरी बार निर्वाचित

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...