1. हिन्दी समाचार
  2. एस्ट्रोलोजी
  3. Dussehra 2021 : दशहरा पर इस बार जरूर करें ये काम, होंगे मालामाल और चमकेगा भाग्य

Dussehra 2021 : दशहरा पर इस बार जरूर करें ये काम, होंगे मालामाल और चमकेगा भाग्य

Dussehra 2021: आश्विन मास (Ashwin Month) की शुक्ल पक्ष (shukl paksh) की दशमी तिथि (Dashami Tithi) (15 अक्टूबर) को दशहरा (Dussehra 2021) पर्व पूरे देश में धूमधाम से मनाया जाएगा। भगवान श्रीराम (Lord Shri Ram) के हाथों रावण का वध होने के बाद से ही इस पर्व को मनाने की परंपरा चली आ रही है। वहीं इस दिन मां दुर्गा ने महिषासुर का संहार (Killing of Mahishasura) भी किया था, इसलिए भी इसे विजय दशमी (Vijay Dashami)  के रूप में मनाया जाता है।

By संतोष सिंह 
Updated Date

Dussehra 2021: आश्विन मास (Ashwin Month) की शुक्ल पक्ष (shukl paksh) की दशमी तिथि (Dashami Tithi) (15 अक्टूबर) को दशहरा (Dussehra 2021) पर्व पूरे देश में धूमधाम से मनाया जाएगा। भगवान श्रीराम (Lord Shri Ram) के हाथों रावण का वध होने के बाद से ही इस पर्व को मनाने की परंपरा चली आ रही है। वहीं इस दिन मां दुर्गा ने महिषासुर का संहार (Killing of Mahishasura) भी किया था, इसलिए भी इसे विजय दशमी (Vijay Dashami)  के रूप में मनाया जाता है। दशहरे पर अस्त्र-शस्त्रों की पूजा की जाती है और विजय पर्व मनाया जाता है। ज्योतिषाचार्य पंडित गोरखनाथ मिश्र ने बताया कि इस दिन कुछ खास नियम बताए गए हैं, जिन्हें करने से कभी भी पैसों की कमी नहीं होगी। इतना ही नहीं आपकी तरक्की के नए रास्ते भी खुलेंगे।

पढ़ें :- Dussehra 2021 : रावण दहन अयोध्या में शाम साढ़े पांच बजे तो दिल्ली में छह बजे , देखें अपने शहर का समय

करें ये 10 काम

विजय दशमी (Vijay Dashami) के दिन अपने अस्त्र-शस्त्र की साफ-सफाई कर उसका निरीक्षण करें। इन अस्त्र-शस्त्रों का पूजन (Worship of Weapons) भी करें।

यदि आपका कोई मुकदमा चल रहा है, तो अपने केस की फाइल घर के मंदिर में भगवान की प्रतिमा के नीचे रख दें। ऐसा करने से आपको विजय प्राप्त होगी।

इस दिन सूरजमुखी की जड़ (Sunflower Root) का विधि पूर्वक पूजन करने के बाद अपनी तिजोरी में इसे रखें, ऐसा करने से कभी भी आपके यहां धन की कमी नहीं होगी।

पढ़ें :- Dussehra 2021: दशहरा पर निभाई जाती है पान खाने की परंपरा, जानिए लोग क्यों खिलाते हैं एक दूसरे को पान

इस दिन किसी कुशल योद्धा से युद्ध कौशल की शिक्षा ग्रहण करने, अस्त्र-शस्त्र के संचालन का प्रशिक्षण लेना भी शुभ होता है।

विजय दशमी (Vijay Dashami)  पर भगवान श्रीराम के 108 नामों का जाप (Chanting 108 names of Shri Ram) करने से जीवन में आने वाली हर कठिनाई दूर होगी। साथ ही आपके साहस और शौर्य में वृद्धि होगी।

विजय दशमी (Vijay Dashami)  पर कन्याओं के लिए किए गए दान पुण्य कार्य से मां दुर्गा का विशेष आशीर्वाद प्राप्त होता है। धन में बढ़ोत्तरी होती है और सफलता मिलती है।

विजय दशमी (Vijay Dashami) के दिन अपनी नौकरी में उन्नति के लिए एक सफेद कच्चे सूत को केसर से रंगे और ओम नमो नारायण मंत्र का 108 बार जाप (Chant Om Namo Narayan Mantra 108 times) करके अपने पास रखें।

इस दिन बादाम लाल कपड़े में लपेट कर पूजा के दौरान रखें। पूजा के बाद प्रतिदिन बादाम भिगो कर घिसकर गाय के देशी घी में मिलाकर खाने से बुद्धि तीव्र होगी और याददाश्त बढ़ेगी।

पढ़ें :- दशहरा 2021: जानिये इस त्योहार को क्यों कहा जाता है विजयादशमी? क्या है इस त्योहार का महत्व?

इस दिन से प्रतिदिन गायत्री मंत्र (Gayatri Mantra) का 108 बार जाप करना शुरू करते हैं, तो बुद्धि-शुद्धि एवं निर्मल होगी, जिससे आप अपनी शक्ति सामर्थ्य का किसी कमजोर एवं निर्बल व्यक्ति पर प्रयोग न करें और अधर्म एवं अनीति का मुकाबला करें। इससे आपका ह्रदय बल एवं आत्मबल भी बढ़ेगा।

विजय दशमी (Vijay Dashami)  के दिन अपने पर या परिवार पर आए नकारात्मक दुष्प्रभाव को खत्म करने के लिए दक्षिण दिशा में मुंह करके हनुमानजी के सामने तिल के तेल का दिया जलाएं और सुंदरकांड का उच्च स्वर में पाठ करें।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...