1. हिन्दी समाचार
  2. सेहत
  3. Emotional eating v/s mindful eating : इमोशनल इटिंग को कहें बाय- बाय ,  माइंडफुल ईटिंग से बढ़ती है समझदारी

Emotional eating v/s mindful eating : इमोशनल इटिंग को कहें बाय- बाय ,  माइंडफुल ईटिंग से बढ़ती है समझदारी

खाने का भावनाओं से गहरा संबंध है। लेकिन भावना से प्रेरित हो कर खाये जाने वाली व्यंजन आपको  स्वस्थ रखें यह जरूरी नहीं है।

By अनूप कुमार 
Updated Date

Emotional eating v/s mindful eating : खाने का भावनाओं से गहरा संबंध है। लेकिन भावना से प्रेरित हो कर खाये जाने वाली व्यंजन आपको  स्वस्थ रखें यह जरूरी नहीं है। इमोशनल इटिंग और माइंडफुल ईटिंग में बड़ा अंतर है। इसलिए दोनों प्रकार के खाने के बीच अंतर जानना जरूरी है क्योंकि यह वजन घटाने से लेकर आंत स्वास्थ्य, प्रतिरक्षा, मूड, भोजन के साथ संबंध, डर, चिंता और बहुत कुछ तक हर चीज का आपका जवाब हो सकता है।

पढ़ें :- तरबूज खाने के बाद भूलकर भी नहीं खानी चाहिए ये चीजें, होते है कई नुकसान

इमोशनल इटिंग में, लोग अपनी भावनाओं, जैसे कि तनाव, उदासी, या बोरियत, के कारण खाते हैं। इसमें खाना एक सांत्वना या भावनात्मक राहत के रूप में आता है। दूसरी ओर, माइंडफुल ईटिंग खाने के प्रति जागरूकता और समझदारी को बढ़ावा देती है। इसमें खाने के प्रति पूरी तरह से सजग रहते हुए, उसे खाते हैं। जिससे हम अपने शरीर की भूख और संतुष्टि को बेहतर समझ पाते हैं।

समझदारी से खाना : माइंडफुल ईटिंग का मतलब है ध्यान से खाना। इसमें हम यह सोचते हैं कि हम क्या और क्यों खा रहे हैं। इससे हम सही मात्रा में और सही खाना खाते हैं।  माइंडफुल ईटिंग से हमें अपने खाने की आदतों के बारे में पता चलता है और हम स्वस्थ खाना चुनने लगते हैं।

1. भोजन के साथ अपना रिश्ता सुधारें : भोजन पोषण है। आपका शरीर जिन खरबों कोशिकाओं से बना है उन्हें वास्तविक पोषण और ऊर्जा प्रदान करने के लिए इसे खाएं। आपको ठीक करने और पोषण देने में भोजन और उसकी भूमिका का सम्मान करें।

2. हर भावना को अच्छा या बुरा महसूस करें :  हम अक्सर यह स्वीकार नहीं करते हैं कि हमारा दिन खराब चल रहा है। मनुष्य “पीड़ा” की भावना से भागता है। इसलिए, हम इन भावनाओं को सुन्न करने के लिए खाद्य पदार्थों का सहारा लेते हैं। इसे रोकने के लिए हर भावना को महसूस करना जरूरी है।

पढ़ें :- Coconut Water In Summer : गर्मियों में नारियल पानी हाइड्रेशन के लिए है फायदेमंद , गर्मी के तनाव को करता हे कम

3. अपनी गलतियों पर रखें नज़र : एक दुर्लभ गड़बड़ी ठीक है, लेकिन अगर आप इसके चारों ओर एक पैटर्न बना रहे हैं और हर बार जब आप नाखुश होते हैं तो पेस्ट्री का सहारा लेते हैं, तो यह एक समस्या है।

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...