HBE Ads
  1. हिन्दी समाचार
  2. क्षेत्रीय
  3. दबंगों से परेशान होमगार्ड ने जहरीला पदार्थ खाकर की आत्महत्या ,प्रधान के बेटे समेत नौ पर दर्ज हुआ मुकदमा

दबंगों से परेशान होमगार्ड ने जहरीला पदार्थ खाकर की आत्महत्या ,प्रधान के बेटे समेत नौ पर दर्ज हुआ मुकदमा

दबंगों से परेशान होमगार्ड ने जहरीला पदार्थ खाकर की आत्महत्या , प्रधान के बेटे समेत नौ पर दर्ज हुआ मुकदमा

पर्दाफाश न्यूज़ ब्यूरो महराजगंज : उत्तर प्रदेश के महराजगंज जिले के फरेंदा में एक होमगार्ड जहरीला पदार्थ खाकर खुद आत्महत्या कर लिया है। होमगार्ड ने जहर खाने से पहले ही एक सुसाइड नोट लिखा हुआ था।

पढ़ें :- चंदौली में चाची-भतीजी पर गिरी आकाशीय बिजली, एक की मौत, दूसरे की हालत गंभीर,परिवार में मचा कोहराम

होमगार्ड फरेंदा उप जिलाधिकारी कार्यालय में तैनात ग्राम सिधवारी निवासी होमगार्ड प्रहलाद चौरसिया का इलाज के दौरान सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र बनकटी में मृत्यु हो गई। होमगार्ड ने अपने मृत्यु का जिम्मेदार सिधवारी के ग्राम प्रधान के पुत्र गंगाराम यादव सहित नौ लोगों को ठहराया है।

पुलिस ने मृतक प्रहलाद चौरसिया के पुत्र अशोक चौरसिया के तहरीर पर नौ नामजद पर मुकदमा दर्ज किया है। मुकदमा दर्ज कर पुलिस मामले की जांच कर रही है।बताया जा रहा है कि प्रहलाद चौरसिया गुरुवार की रात उप जिलाधिकारी कार्यालय फरेंदा में ड्यूटी करने गए हुए थे। देर रात अचानक उनकी तबीयत बिगड़ गई जिसके बाद साथी सुरक्षा कर्मियों ने उनके परिवार को सूचना देते हुए उन्हें सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र बनकटी में भर्ती कराया, जहां उन्होंने दम तोड़ दिया। मृतक होमगार्ड के पास से एक सुसाइड नोट भी बरामद हुआ है जिसमें उन्होंने अपनी मृत्यु का कारण अपने ही गांव के ग्राम प्रधान पुत्र गंगाराम यादव समेत अपने नौ पाटीदारों को बताया है। मृतक होमगार्ड के पुत्र के मुताबिक गांव में ही बिल्डिंग मटेरियल की दुकान है जिससे ग्राम प्रधान के प्रतिनिधि के रूप में काम करने वाले उनके पुत्र गंगाराम यादव ने 8 लाख 35000 का बिल्डिंग मटेरियल का सामान लिया था। रुपए के लिए लंबे समय से दौड़ा रहे थे । इसी बीच गांव में ही एक भूमि दिलाने के नाम पर 20 लाख रुपए और नगद दिया गया लेकिन आज तक भूमि पर कब्जा नहीं मिला ।

इस संबंध में जब पिता ने गंगाराम यादव से अपने रुपए वापस मांगे तो पहले तो उन लोगों ने विवाद किया उसके बाद 10-10 लाख के दो चेक दिए लेकिन उस चेक का भुगतान नहीं हो सका। रुपए न देने पड़े इसके लिए ग्राम प्रधान पुत्र ने मेरे ही पाटीदारों को उठाकर हमारे घर आने जाने वाले रास्ते को भी और रद्द कर दिया गया तथा इस संबंध में राजनीति की गई । जिसके कारण आहत होकर मेरे पिता ने गुरुवार की रात तहसील कार्यालय में ड्यूटी के दौरान जहरीला पदार्थ खाकर आत्महत्या कर लिया है।

पीड़ित की तहरीर के आधार पर फरेंदा पुलिस ने ग्राम प्रधान पुत्र गंगाराम यादव के अलावा झगरू, महेंद्र, जितेंद्र, राजकुमार, विनय, आशीष, अर्जुन और रंजीत यादव के विरुद्ध आत्महत्या के लिए उकसाने का मुकदमा दर्ज कर जांच शुरू कर दी है।

पढ़ें :- LDA ने ई-ऑक्शन में 240 करोड़ रूपये से अधिक की सम्पत्ति बेची, 15 अगस्त तक देवपुर पारा योजना में 500 ईडब्ल्यूएस भवन होंगे लांच

फरेंदा थानाध्यक्ष अंकित कुमार सिंह ने बताया कि मुकदमा दर्ज कर मामले की जांच की जा रही है। शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया गया है।

 

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...