1. हिन्दी समाचार
  2. उत्तर प्रदेश
  3. कोरोना मरीजों को न मिले इलाज, तो सीधे सीएम योगी सहित इन नंबरों पर करें काॅल

कोरोना मरीजों को न मिले इलाज, तो सीधे सीएम योगी सहित इन नंबरों पर करें काॅल

यूपी में कोरोना महामारी की दूसरी लहर बेलगाम होती जा रही है। इसी बीच राजधानी लखनऊ समेत प्रदेश के कई जिलों से कोरोना पेशेंट व उनके तीमारदारों से दुव्र्यवहार की खबरें भी लगातार आ रही है। मिली जानकारी के अनुसार कोरोना महामारी को कई सरकारी व निजी अस्पताल आपदा में अवसर तलाश लिया है।

By संतोष सिंह 
Updated Date

लखनऊ। यूपी में कोरोना महामारी की दूसरी लहर बेलगाम होती जा रही है। इसी बीच राजधानी लखनऊ समेत प्रदेश के कई जिलों से कोरोना पेशेंट व उनके तीमारदारों से दुव्र्यवहार की खबरें भी लगातार आ रही है। मिली जानकारी के अनुसार कोरोना महामारी को कई सरकारी व निजी अस्पताल आपदा में अवसर तलाश लिया है। अस्पतालों में बेड की मुहमांगी कीमत वसूले जाने, दवाओं सहित अन्य उपकरणों की कालाबाजारी की खबरें आ रही हैं।

पढ़ें :- अखिलेश यादव का योगी सरकार पर निशाना, बोले-साढ़े 4 साल में प्रदेश की जनता को दुख, तकलीफ और परेशानी मिली है

इन्हीं खबरों को संज्ञान में लेते हुए सीएम योगी आदित्यनाथ खुद कोरोना संक्रमित होने के बावजूद व्यवस्थाओं को दुरुस्त बनाने में जुटे हुए हैं। वह लगातार अफसरों के साथ मीटिंग कर महामारी के समय में किसी भी तरह की कमी नहीं होने देने की हिदायत दे रहे हैं। बता दें कि ऑक्सीजन की कमी का हवाला देते हुए प्राइवेटअस्पतालों में मरीजों को एडमिट नहीं किया जा रहा है। मरीजों को लेकर पहुंच रहे तीमारदारों को घर में ही ऑक्सीजन सिलेंडर की व्यवस्था कर पेशेंट को लगाने को कह रहे हैं। इतना ही नहीं यदि अस्पताल पेशेंट को एडमिट करते हैं तो गैस सिलेंडर की व्यवस्था करने की जिम्मेदारी तीमारदार के ऊपर डाल देते हैं. जिसके बाद तीमारदार पहले खाली सिलेंडर का इंतजाम करता है और उसके बाद फिर भरवाने के लिए घंटों प्लांट पर लाइन लगाता है। इस दौरान तपती धूप में खड़ा तीमारदार कभी पुलिसवालों की तो कभी प्लांट संचालक की दुत्कार सुनता है।

सूचना विभाग के अपर मुख्य सचिव नवनीत सहगल ने बताया कि निजी अस्पतालों में भी कोविड मरीज से निर्धारित दर से ज्यादा शुल्क नहीं लिया जा सकेगा। अस्पतालों को सरकार ने सख्त आदेश दिए हैं कि किसी भी मरीज को कोई भी सरकारी अस्पताल वापस नहीं लौटा सकता, अगर सरकारी अस्पताल में बेड नहीं है तो निजी अस्पताल में भेजा जाएगा और निजी अस्पताल में उसका सारा खर्च आयुष्मान भारत के दर पर उत्तर प्रदेश सरकार वहन करेगी।

नवनीत सहगल ने बताया कि आपके शहर के जिम्मेदार फोन न उठाएं तो सीधे इन नंबरों पर कॉल करके मदद मांगें , जिसके तहत मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से इस नंबर पर 0522- 2236181, 2289010, 2236167, 2235435, 2235735, 2236838, उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य से 0522-2238217 व उपमुख्यमंत्री डाॅ. दिनेश शर्मा से 0522-2238088, 2213272  काॅल कर सकते हैं।

पढ़ें :- UP Election 2022: बुआ-बबुआ के शासन में हमारी आस्था का सम्मान नहीं होता था, अयोध्या में बोले अमित शाह
इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...