1. हिन्दी समाचार
  2. एस्ट्रोलोजी
  3. जानिए शनिदेव को प्रसन्न करने के उपाय

जानिए शनिदेव को प्रसन्न करने के उपाय

शनिदेव से जुड़े दोष को दूर करने के लिए शनिवार का दिन विशेष होता है। इस दिन कुछ विशेष उपाय करने से शनि देव को प्रसन्न किया जा सकता है।

By प्रीति कुमारी 
Updated Date

शनिदेव को न्याय का देवता कहा जाता है। वह कर्म का शासक है और लोगों को उनके कर्मों के अनुसार पुरस्कृत करता है। लोगों के विश्वास के विपरीत, शनिदेव न केवल लोगों के लिए बुरी स्थिति लाते हैं बल्कि यह सुनिश्चित करते हैं कि हर किसी को उनके कार्यों का फल मिले। जीवन में आने वाली समस्याओं और लक्षणों के आधार पर आप जान सकते हैं कि शनि की साढ़े साती शुरू हो गई है।

पढ़ें :- 27 जून 2022 का पंचांग: जाने आज का पंचांग, शुभ मुहूर्त और नक्षत्र की चाल के बारे में ...

शनि साढ़े साती क्या है?
ज्योतिष शास्त्र के अनुसार साढ़े सात साल तक चलने वाली दशा को शनि की साढ़े साती की दशा कहा जाता है। अन्य ग्रहों की तुलना में शनि की गति सबसे धीमी है। शनि एक राशि में कम से कम ढाई साल तक रहता है। इसके बाद शनि दूसरी राशि में प्रवेश करता है। शनि एक साथ तीन राशियों को प्रभावित कर सकते हैं।

जब शनि किसी व्यक्ति की जन्म राशि से बारहवें या पहले या दूसरे भाव में हो तो इस स्थिति को शनि की साढ़े साती कहते हैं। ऐसा होने पर व्यक्ति को मानसिक पीड़ा, शारीरिक पीड़ा, कलह और अधिक खर्च का सामना करना पड़ता है।

शनि छाया सती के तीन चरण हैं:
शनि की एक अवस्था ढाई वर्ष की होती है। शनि से प्रथम चरण में जातक मानसिक रूप से परेशान रहता है। और इस दौरान मानसिक तनाव और स्वभाव में बदलाव आता है। दूसरे चरण में वित्तीय और शारीरिक कठिनाइयाँ शामिल हैं। और अचानक से आपके काम बिगड़ने लगेंगे। आपको कोई बड़ी बीमारी या दुर्घटना हो सकती है। तीसरे चरण में शनि की साढ़े साती अच्छी मानी जाती है। क्योंकि इस समय में शनिदेव आपके नुकसान की भरपाई करते हैं।

जानिए शनि की साढ़े साती के लक्षण:

पढ़ें :- Shakun Shastra: सावन मास में असहाय वंचितों को दान देने का अनंत गुना फल प्राप्त होता है, जानिए इस मास में करने वाले शुभ कार्य

आपकी हथेली की रेखाओं का रंग बदल सकता है या हथेली की रेखाओं का रंग नीला या काला हो सकता है।
सिर की चमक गायब हो जाएगी और माथे पर काला रंग दिखने लगेगा।
अपनी छवि खराब करने के डर से आप हमेशा परेशान रहेंगे।
बातचीत पर गुस्सा आएगा।
आपकी वाणी और विचार बदलेंगे।
शनिदेव से जुड़े दोष को दूर करने के लिए शनिवार का दिन विशेष होता है। इस दिन कुछ विशेष उपाय करने से शनि देव को प्रसन्न किया जा सकता है।

शनि की साढ़े साती के उपाय बताएं:
शनिदेव अपने कर्म के अनुसार फल देते हैं।
शनिवार के दिन लोहा, काली उड़द की दाल और तिल या काला कपड़ा दान करना चाहिए।

स्नान के बाद साफ कपड़े पहनकर घर या शनि मंदिर में जाकर शनिदेव की पूजा करें।

शनि की साढ़े साती के दौरान ये न करें:
यदि शनि की साढ़े साती हो तो ऐसे में व्यक्ति को कोई भी जोखिम लेने से बचना चाहिए।
किसी से वाद-विवाद न करें।
वाहन के प्रयोग में आपको अतिरिक्त सावधानी बरतने की जरूरत है।
शनिवार और मंगलवार को काले कपड़े नहीं खरीदने चाहिए और न ही पहनने चाहिए।
शनि की साढ़े साती का प्रभाव व्यक्ति पर हो तो शनिवार और मंगलवार को शराब और व्यसन से बचना चाहिए।
शनि की साढ़े साती के समय रात्रि में यात्रा नहीं करनी चाहिए।

पढ़ें :- Vastu Tips : घर में दर्पण को लेकर ये बात जानना जरूरी है, जानिए वास्तु नियम
इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...