1. हिन्दी समाचार
  2. उत्तर प्रदेश
  3. NTPC Project की चौथी यूनिट के बॉयलर में रिसाव शुरू, 210 मेगावाट बिजली उत्पादन ठप, पांचवीं यूनिट पहले से है बंद

NTPC Project की चौथी यूनिट के बॉयलर में रिसाव शुरू, 210 मेगावाट बिजली उत्पादन ठप, पांचवीं यूनिट पहले से है बंद

एनटीपीसी परियोजना (NTPC Project) की चौथी यूनिट के बॉयलर में गुरुवार की दोपहर रिसाव शुरू हो गया। इससे यूनिट को बंद कर दिया गया। यूनिट बंद होने से 210 मेगावाट बिजली उत्पादन (Power Generation) कम हो गया है। उधर, मांग कम होने के कारण पांचवीं यूनिट पहले से ही बंद है। परियोजना के अधिकारी तकनीकी खामी दूर कर जल्द ही यूनिट चालू करने की बात कह रहे हैं।

By संतोष सिंह 
Updated Date

नई दिल्ली। एनटीपीसी परियोजना (NTPC Project) की चौथी यूनिट के बॉयलर में गुरुवार की दोपहर रिसाव शुरू हो गया। इससे यूनिट को बंद कर दिया गया। यूनिट बंद होने से 210 मेगावाट बिजली उत्पादन (Power Generation) कम हो गया है। उधर, मांग कम होने के कारण पांचवीं यूनिट पहले से ही बंद है। परियोजना के अधिकारी तकनीकी खामी दूर कर जल्द ही यूनिट चालू करने की बात कह रहे हैं।

पढ़ें :- जब तक आप मोदी को सत्ता से नहीं हटाएंगे, तब तक देश में सुख-समृद्धि नहीं आएगी : मल्लिकार्जुन खड़गे

एनटीपीसी परियोजना (NTPC Project)  में 210-210 मेगावाट बिजली उत्पादन क्षमता की पांच यूनिटें लगी हैं। छठवीं यूनिट से 500 मेगावाट बिजली बनती है। गुरुवार को दोपहर बाद 210 मेगावाट बिजली उत्पादन क्षमता (Power Generation Capacity) वाली यूनिट नंबर चार के बॉयलर में रिसाव हो गया। इसकी जानकारी होते ही अधिकारियों ने यूनिट बंद कर दी।

सूचना पर परियोजना के इंजीनियर मौके पर पहुंचे और खामी का निरीक्षण किया। सूत्रों के मुताबिक शुक्रवार को यूनिट की मरम्मत का काम शुरू कराया जाएगा। इसके पहले गत 17 नवंबर को बिजली की मांग कम होने के चलते 210 मेगावाट उत्पादन क्षमता वाली यूनिट नंबर पांच को बंद कर दिया गया था। उसे अभी चालू नहीं किया गया है।

दो यूनिटों के बंद होने से परियोजना में 420 मेगावट बिजली उत्पादन कम हो रहा है। इस समय एक, दो, तीन व छठवीं यूनिट से 1130 मेगावाट बिजली का उत्पादन हो रहा है। परियोजना की जनसंपर्क अधिकारी कमल शर्मा (Public Relations Officer Kamal Sharma) ने बताया कि तकनीकी खामी के कारण एक यूनिट बंद की गई है। मरम्मत के बाद चालू की जाएगी।

दिनभर गुल रही 250 गांवों की बिजली

पढ़ें :- देश में राजनीति का 'नर्व सेंटर' है बिहार, यहीं से होती है बदलाव की शुरुआत : राहुल गांधी

रायबरेली जिले में हुई बारिश के चलते कई इलाकों में बिजली आपूर्ति व्यवस्था (Power Supply System)  चरमरा गई। लाइनों में फॉल्ट आने से चार उपकेंद्रों के 250 गांवों में बिजली गुरुवार को दिन भर गुल रही। इससे डेढ़ लाख आबादी को परेशानी का सामना करना पड़ा। अधिकांश गांवों की आपूर्ति देर शाम तक शुरू नहीं हो पाई थी।

जिले में बुधवार रात शुरू हुई बारिश रुक-रुककर बृहस्पतिवार दोपहर तक हुई। बरसात के दौरान लाइनों में फाॅल्ट आने के चलते रात से आपूर्ति बाधित होने लगी है। गुरुवार सुबह तक उतरपारा, कठगर, कुड़वल और गुरुबख्शगंज उपकेंद्र क्षेत्र के करीब 250 गांवों को बिजली आपूर्ति ठप हो गई।

कई घंटे तक आपूर्ति शुरू नहीं होने पर लोगों ने उपकेंद्रों पर शिकायत दर्ज कराई। इसके बाद उपकेंद्रों की टीमें फॉल्ट ठीक करने निकलीं। अधिकांश गांवों की आपूर्ति शाम तक शुरू नहीं हो सकी। उतरपारा उपकेंद्र क्षेत्र (Uttarapara Sub-Centre Area) के दिनेश यादव, संतराम प्रजापति और राम आसरे ने बिजली आपूर्ति व्यवस्था (Power Supply System) को दुरुस्त किए जाने के दावों की हल्की बारिश में पोल खुल गई।

दिनभर बिजली गुल रहने के चलते सबसे ज्यादा परेशानी पानी को लेकर हुई। पावर कॉर्पोरेशन के अधीक्षण अभियंता वाईएन राम (Power Corporation Superintending Engineer YN Ram) ने बताया कि लाइनों में फॉल्ट होने के चलते आपूर्ति बाधित हुई है। फॉल्ट ठीक कराकर आपूर्ति शुरू कराने का प्रयास किया जा रहा है।

पढ़ें :- जनविश्वास महारैली में अखिलेश यादव ने बीजेपी को हराने का दिया मंत्र, बोले- बिहार120 हटाओ, देश बचाओ...
इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...