1. हिन्दी समाचार
  2. एस्ट्रोलोजी
  3. Mahashivratri 2024: महाशिवरात्रि के दिन शिव की पूजा अर्चना के साथ करें ये उपाय, विवाह में आ रही अड़चन होगी दूर

Mahashivratri 2024: महाशिवरात्रि के दिन शिव की पूजा अर्चना के साथ करें ये उपाय, विवाह में आ रही अड़चन होगी दूर

महाशिवरात्रि  का दिन भगवान शिव की पूजा अर्चना और उनकी कृपा पाने के लिए यह सर्वोत्तम दिन है। पौराणिक ग्रथों के अनुसार, भगवान महादेव बड़े दयालु और कृपालु हैं।

By अनूप कुमार 
Updated Date

Mahashivratri 2024 : महाशिवरात्रि  का दिन भगवान शिव की पूजा अर्चना और उनकी कृपा पाने के लिए यह सर्वोत्तम दिन है। पौराणिक ग्रथों के अनुसार, भगवान महादेव बड़े दयालु और कृपालु हैं। भगवान शिव के बारे  में लोक मान्यता है कि कि जो भक्त भगवान महादेव की सच्ची भक्ति करता है उसकी मनोकमना अवश्य पूर्ण होती है।

पढ़ें :- Mahashivratri 2024 Vahan Ki Puja : महाशिवरात्रि पर करें अपने वाहन की पूजा, महाकाल की बरसेगी कृपा

पंचांग के अनुसार फाल्गुन माह के कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी तिथि की शुरुआत 8 मार्च को संध्याकाल 09 बजकर 57 मिनट पर होगी। इसका समापन अगले दिन 09 मार्च को संध्याकाल 06 बजकर 17 मिनट पर होगा। शिव जी की पूजा प्रदोष काल में की जाती है, इसलिए उदया तिथि देखना जरूर नहीं होता है। ऐसे में इस साल महाशिवरात्रि का व्रत 8 मार्च 2024 को रखा जाएगा।

जिन लोगों के जीवन विवाह संबंधी बाधा आ रही है उन लोगों के लिए शिवरात्रि का दिन बहुत महत्वपूर्ण है। इस दिन कुछ विशेष प्रकार के उपाय करने से विवाह संबंधी बाधा में सफलता मिलती है। मान्यता है कि इस दिन महादेव और माता पार्वती का विवाह हुआ था। आइये जानते है कुछ विशेष उपायों के बारे में जो विवाह संबंधी बाधा को दूर करते है।

विवाह में आ रहे विघ्न दूर हो जाएंगे
महाशिवरात्रि के दिन शिव मंदिर में 5 नारियल ले जाएं। पहले शिवलिंग का जलाभिषेक करें और इसके बाद शिव जी को चंदन, पुष्प, बेलपत्र, फल, धतूरा आदि अर्पित करें। इसके बाद ‘ॐ श्रीं वर प्रदाय श्री नमः’ मंत्र का जाप करें। आप एक से लेकर कम से कम 5 मालाओं तक का जाप कर सकते हैं। इसके बाद वो नारियल शिवजी को अर्पित कर दें। कुछ ही समय में विवाह में आ रहे विघ्न दूर हो जाएंगे।

मनचाहे जीवनसाथी की तलाश होगी पूरी
अगर आपकी मनचाहे जीवनसाथी की तलाश पूरी नहीं हो पा रही है तो शिव मंदिर में जाकर एक रुद्राक्ष को पहले गंगाजल से साफ करें। इसके बाद हाथ में लेकर ‘ॐ गौरी शंकर नमः’ मंत्र का कम से कम 108 बार जाप करें। इसके बाद इस रुद्राक्ष को शिवलिंग से स्पर्श कराएं और लाल धागे में डालकर पहन लें।

पढ़ें :- Mahashivratri 2024 : हर-हर बम- बम के जयकारों से गूंजे शिवालय , जलाभिषेक के लिए लगी भक्तों की कतार

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...